--Advertisement--

छत्तीसगढ़ / घर से भागी बेटी को मां बनकर जमाने से बचाया किन्नर ने, पुलिस को सौंपा

Dainik Bhaskar

Jan 12, 2019, 01:03 PM IST


X

  • बिलासपुर पुलिस किन्नर रेहाना व साथियों को करेगी सम्मानित

देवभोग . नाबालिग लापता हुई तो परिजनों की रिपोर्ट पर पुलिस ने अपहरण का मामला दर्ज कर सरगर्मी से तलाश शुरू कर दी थी। परिजनों को भी अनहोनी की आशंका सता रही थी, लेकिन बेटी बिलासपुर के किन्नरों के बीच 11 दिन सुरक्षित रही।

 

उसे संरक्षण देने वाली किन्नर रेहाना और उसके साथी शुक्रवार को उसे सुरक्षित लेकर लौटे। उसे छलकते आंसुओं के साथ पुलिस को सौंपा। दरअसल किसी गलत हाथ में पड़ने से बचाने की गरज से इस किन्नर ने नाबालिग को अपने घर रख लिया था। पहले उसे बच्चे सा प्यार दिया फिर समझाकर घर तक छोड़ने भी आई रेहाना। पुलिस को बेटी को सुपुर्द करते वक़्त रेहाना व उसके सभी साथी बिलख-बिलखकर रोते रहे। अब पुलिस उस किन्नर को सम्मानित करने की तैयारी कर रही है।


थाना प्रभारी सत्येन्द्र श्याम ने बताया कि 2 जनवरी को एक लिखित आवेदन मिला जिसमें 9वी कक्षा में पढ़ने वाली बेटी के अपहरण की आशंका जताई गई थी।  बताया गया था कि 29 दिसंबर को पढ़ने निकली बेटी घर वापस नहीं आई। नाबालिग के अपहरण की आशंका से पुलिस ने 2 जनवरी को ही अपहरण का मामला दर्ज कर नाबालिग की पतासाजी शुरू कर दी। घर से मोबाइल भी गायब मिला, फोन नंबर ट्रेस किया तो 31 दिसंबर तक  चालू मिला। 

 

अंतिम लोकेशन बिलासपुर रेलवे स्टेशन का इलाका बताया। बंद मोबाइल से परिजनों की चिंता बढ़ गई थी। बेटी को सुरक्षित लाना पुलिस के लिए भी चुनौती थी।  तीन दिन पहले एक अंजान नंबर से परिजनों को कॉल आया, जिसका लोकेशन भी बिलासपुर रेलवे स्टेशन ही था।

 

इसी आधार पर 9 जनवरी को उपनिरीक्षक विवेक सेंगर के साथ महिला पुलिस की टीम भेजी गई । पुलिस बिलासपुर के सिरगिट्टी इलाक़े में रहने वाली किन्नर रेहाना उर्फ बॉबी जान के घर से बेटी को शुक्रवार को सुरक्षित ले आई।
 

Astrology