--Advertisement--

पत्नी ने थर्ड जेंडर बच्चे को जन्म दिया था, तब से रोज प्रताड़ित करता था पति, अब हर माह देने होंगे 15 हजार

Bilaspur News - एसईसीएलकर्मी की प|ी ने थर्ड जेंडर बच्चे को जन्म दिया। इससे महिला का पति नाराज हो गया, वह छोटी-छाेटी बातों को लेकर आए...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 02:20 AM IST
Bilaspur News - wife gave birth to a third gender child since then husband used to harass everyday now every month 15 thousand
एसईसीएलकर्मी की प|ी ने थर्ड जेंडर बच्चे को जन्म दिया। इससे महिला का पति नाराज हो गया, वह छोटी-छाेटी बातों को लेकर आए दिन प|ी से विवाद करने लगा। प्रताड़ित करने के साथ मारपीट करता था। मां को सालों से प्रताड़ित देख रहा थर्ड जेंडर बच्चा अब 20 वर्ष का हो चुका है। उसने अपनी मां की तरफ से फैमिली कोर्ट में मामला प्रस्तुत किया था। शनिवार को हुई नेशनल लोक अदालत में फैमिली कोर्ट के प्रिंसिपल जज विनोद कुजूर की कोर्ट ने महिला व थर्ड जेंडर को भरण पोषण के लिए हर महीने 15 हजार रुपए देने का फैसला सुनाया। बिलासपुर में रहने वाले एसईसीएलकर्मी युवक ने सामाजिक रीति-रिवाज से युवती से शादी की। शादी के बाद महिला ने बच्चे को जन्म दिया। बच्चा थर्ड जेंडर पैदा हुआ। पति इसके बाद नाराज रहने लगा और नौकरी के पूरे पैसे वह खुद रख लेता था। महिला को खर्च के लिए पैसा नहीं देता था। पिता के रवैये से त्रस्त हो चुके थर्ड जेंडर ने लीगल एड का सहारा लिया। कोर्ट ने पति के खिलाफ मामला दर्ज करने का निर्देश पुलिस को दिए, इसके बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया था। मामला कोर्ट में लंबित रहा।

कानून की लंबी लड़ाई लड़ने के बाद थर्ड जेंडर ने हार नहीं मानी। उसने जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव बृजेश राय से संपर्क कर विधिक सलाह की मांग की। शनिवार को आयोजित नेशनल लोक अदालत में फैमिली कोर्ट ने थर्ड जेंडर और उसकी मां के पक्ष में फैसला सुनाया।

थर्ड जेंडर ने हार नहीं मानी

एक साल से अलग रह रही प|ी ने मांगा गुजारा भत्ता पति दहेज में मिला सामान लेकर लोक अदालत पहुंचा

अनुपम सिंह | बिलासपुर

विवादों के चलते पिछले एक साल से अलग रह रहे दंपती का मामला शनिवार को लोक अदालत पहुंचा। दरअसल प|ी ने गुजारा-भत्ता की मांग करते हुए आवेदन प्रस्तुत किया था। नोटिस मिलने से क्षुब्ध पति दहेज में मिला पूरा सामान लेकर लोक अदालत पहुंच गया। अदालत में ही दोनों के बीच झगड़ा हो गया, इस वजह से मामले पर निर्णय नहीं हो सका। बिलासपुर में रहने वाले प्रकाश( बदला हुआ नाम) की शादी करीब डेढ़ साल पहले बिलासपुर में ही रहने वाली कविता (बदला हुआ नाम ) के साथ हुई थी। शादी के बाद कुछ महीनों तक सब ठीक रहा। इसके बाद दोनों के बीच विवाद होने लगा। लगातार विवाद से त्रस्त प|ी ससुराल छोड़कर अपने मायके में रहने लगी।

X
Bilaspur News - wife gave birth to a third gender child since then husband used to harass everyday now every month 15 thousand
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..