छत्तीसगढ़ / छेड़छाड़ के आरोप में युवक को पीटा, पंचायत ने 50 हजार जुर्माना लगाया तो लगा ली फांसी



दाह संस्कार की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और बची अस्थि को जब्त किया। दाह संस्कार की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और बची अस्थि को जब्त किया।
X
दाह संस्कार की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और बची अस्थि को जब्त किया।दाह संस्कार की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और बची अस्थि को जब्त किया।

  • पाली की घटना मृतक के परिजन से पंचों ने जबरन लिखवाया सामान्य मौत, मामले की जांच में जुटी पुलिस
  • युवक ने अपने रिश्तेदार डॉक्टर से कहा था- मुझे झूठे आरोप में फंसाया, बेइज्जती नहीं हो रही बर्दाश्त

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2019, 06:00 AM IST

कोरबा. पाली थाना अंतर्गत छिंदपानी निवासी 35 वर्षीय बलराम कश्यप शनिवार को दोस्तों के साथ गणेश विसर्जन में गया था, जहां से लौटते समय वह उड़ता गांव में लगे साप्ताहिक बाजार में नाश्ता कर रहा था। इस दौरान वहां एक महिला अपने पति के साथ पहुंची। उसने बलराम पर कुछ दिन पहले छेड़छाड़ करने का आरोप लगाया।

 

इसके बाद महिला के पति ने अपने साला, भांजा व बड़ी बहन को वहां बुलाया, जो जबरन बलराम को बाइक पर बैठाकर ले गए। रास्तेभर युवक को पीटते हुए उसे भादाकछार गांव ले गए, जहां उन्होंने पंचायत बुलाई। पंचायत में भादाकछार गांव के अलावा पुटा और छिंदपानी के भी कई लोग पहुंचे थे। बलराम के पिता रिखीराम और अन्य परिजन को भी वहां बुलाया।

 

पुटा सरपंच दिलाराम और सचिव राजकुमार समेत पंचायत के कई लोगों के नेतृत्व में चर्चा हुई, जहां भरी सभा में छेड़छाड़ के आरोप में बलराम पर 50 हजार का अर्थदंड लगाया। इसकी लिखा-पढ़ी भी की गई। इसमें बलराम के साथ ही उसके पिता रिखीराम का हस्ताक्षर कराया गया। इसके बाद बलराम परिवार समेत घर लौटा और सोमवार की रात उसने घर में फांसी लगा ली। पंचायत में बलराम का पक्ष जाने बगैर छेड़छाड़ का दोषी बताकर अर्थदंड सुना दिया गया।


अस्थि-राख जब्त, फारेंसिक लैब भेजेंगे
पाली थाना के एसआई अशोक शर्मा ने बताया कि फांसी लगाकर आत्महत्या के मामले को पंचायत के लोगों द्वारा छिपाते हुए शव का दाह संस्कार कराने की सूचना मिली थी। पुलिस मौके पर पहुंची तो वहां कोई नहीं था। शव करीब 90 फीसदी जल गया था। संदेह के आधार पर जांच-पड़ताल के लिए पानी डालकर आग बुझाया। वहां बची अस्थि और राख को पंचनामा कार्रवाई कर जब्त किया है, जिसे मरच्यूरी भेजा दिया है। अब उसे फारेंसिक लैब भेजेंगे। वहीं मामले में पूछताछ की जा रही है।


पंचों के दबाव में किया दाह संस्कार
मृतक बलराम के पिता रिखीराम ने बताया कि उसके पुत्र पर छेड़छाड़ का झूठा आरोप लगाकर पीटा गया। पंचायत ने पहले मामले में दबाव बनाकर उसे 50 हजार रुपए का अर्थदंड दिया। बेइज्जती के कारण उनके बेटे ने आत्महत्या की तो इसकी जानकारी मिलने पर पंचायत से जुड़े पंचों ने उनके घर आकर कागज में सामान्य मौत होना लिखकर हस्ताक्षर लिया। साथ ही गांव के शमशान से दूर बलराम के शव को दाह संस्कार के लिए कहा। पंचों के दबाव में आकर उन्हें गांव से 2 किमी दूर जंगल में दाह संस्कार करना पड़ा।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना