महिलाओं को कागजों पर मिल रहा अधिकार अब भी वे हक से हो रही वंचित: सीएमएचओ

Champa News - बालिका दिवस पर जीएनएम की छात्राओं ने चित्र बनाकर भ्रूण हत्या रोकने का दिया संदेश। महिलाओं के खिलाफ अपराध रोकने...

Bhaskar News Network

Oct 13, 2019, 06:56 AM IST
Janjgeer News - chhattisgarh news women getting rights on paper they are still being denied rights cmho
बालिका दिवस पर जीएनएम की छात्राओं ने चित्र बनाकर भ्रूण हत्या रोकने का दिया संदेश।

महिलाओं के खिलाफ अपराध रोकने कई कानून इसके बाद भी कम नहीं हो रहा अपराध।

भास्कर संवाददाता | जांजगीर

विश्व बालिका दिवस के अवसर पर जिला अस्पताल और जीएनएम सेंटर में कार्यक्रम का अायाेजन किया गया। बेटी बचाओ की थीम पर विभिन्न प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया गया, जिसमें जीएनएम सेंटर की स्टूडेंट्स शामिल हुईं।

कार्यक्रम में सीएमएचओ डॉ. एसआर बंजारे ने कहा कि महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए आईपीसी में कई धाराएं हैं। कठोर सजा का प्रावधान है, इसके बाद भी महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों में कमी नहीं आ रही है। महिलाओं को कागजों में सब अधिकार दिया जा रहा है, पर सामाजिक रूप से आज भी वे अपने हक से वंचित हो रही हैं। दहेज के नाम पर बहुओं को जलाना, शराब पीकर प|ी से मारपीट, गर्भ में बालिका होने पर भ्रूण हत्या, नाबालिग किशोरियों से दुष्कर्म ऐसे तमाम अपराध हैं जिन्हें रोकने कड़े कानून है, लेकिन इन चीजों को रोकना केवल कानून के बस में नहीं है, इसके लिए समाज के लोगों को खुद ब खुद जागरूक होना होगा। तभी अपराधों में कमी आएगी और लड़कियों को भी वैसा ही माना जाना चाहिए जैसे लड़कों को माना जाता है। डीपीएम गिरिश कुर्रे ने कहा कि पुरूष प्रधान समाज में जब बच्चा रोता है तब यह कहकर चुप कराया जाता है कि लड़के रोते नहीं, यानि रोना केवल लड़कियों के लिए मान लिया गया है। इससे भी समाज में गलत संदेश जा रहा है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में जिस प्रकार की घटनाएं युवतियों, किशोरियों के साथ होती है, जिससे उनका पूरा परिवार प्रभावित होता है। गलत काम की शिकार युवतियों किशोरियों का जीवन भर उन स्थितियों से निकलना कठिन हो जाता है।

ऐसी स्थिति में अपने बेटों को ऐसी बातों की चर्चा कर यह सिखाया जाना चाहिए कि बेटे किसी को रुलाते नहीं तो शायद उनके बाल मन से ही महिलाओं अथवा स्त्री वर्ग के लिए सम्मान पनपेगा।

छात्राओं का तिलक लगाकर किया स्वागत

इससे पहले जीएनएम सेंटर की छात्राओं का तिलक लगाकर स्वागत किया गया। देश की ऐसी महिला एथलीट, वैज्ञानिक, पायलट, खिलाड़ी आदि जो समाज में रोल मॉडल के रूप में जानी जाती हैं उनका उदाहरण देकर बताया गया कि वे किसी भी मामले में पुरूषों से पीछे नहीं हैं। जीएनएम छात्राओं के बीच रंगोली, पेंटिंग आदि प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया।

X
Janjgeer News - chhattisgarh news women getting rights on paper they are still being denied rights cmho
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना