फसल तैयार होते ही जंगली सुअरों ने शुरू की बर्बादी

Dhamtari News - धान सहित अरहर की फसल तैयार हो गई है। सप्ताहभर बाद अर्ली वेरायटी के धान की कटाई शुरू हो जाएगी। जंगल से लगे गांवों में...

Oct 13, 2019, 06:46 AM IST
धान सहित अरहर की फसल तैयार हो गई है। सप्ताहभर बाद अर्ली वेरायटी के धान की कटाई शुरू हो जाएगी। जंगल से लगे गांवों में जंगलों सुअरों की शिकायत शुरू हो गई है। विश्रामपुर क्षेत्र में पिछले 4-5 दिन से जंगली सुअर झुंड में आ रहे हैं। मडवापथरा, आमाचानी, बोरिद, सोरम खार, कसावाही क्षेत्र में किसान दहशत में हैं।

बोतल को लोहे की कड़ी के साथ लटकाने से हवा चलने पर आवाज आती है और सुअर नहीं आता।

तरह तरह के उपाय

तुमराबहार के किसान दुष्यंत घोरपडे ने अपने खेत में फसल के चारों ओर शराब की बाटल पेड़ या खंबे में लटकाई है। बाटल के साथ एक लोहे का तुकड़ा भी लटकाया गया है, ताकि हवा में बाटल हिले तो लोहे से टकराकर आवाज आए। इस आवाज को सुनकर सुअर किसी की उपस्थिति मानते हुए दिशा बदल देते हैं।

कछुआ अगरबत्ती में लगाते हैं बम

दुष्यंत ने बताया कि हर साल फसल को सूखा, अतिरिक्त पानी, कीट से बचाने के बाद जंगली सुअरों से बचाना चुनौती होता है। इस साल भी फसल तैयार होते ही सुअरों का आना शुरू हो गया है। सुअर एक साथ 30 से 40 के झुंड में आते हैं। अभी शुरुआत है तो 4 से 5 सुअर आ रहे हैं। कई किसान तो रतजगा करना चाहते हैं,लेकिन सुअरों की ज्यादा संख्या को देखते हुए जोखिम नहीं उठाना चाहते। फसल को बचाने के लिए कछुआ अगरबत्ती में सुतली बम लगाकर रखते हैं, ताकि इसके फटने व तेज आवाज आने पर सुअर दूर से ही भाग जाएं। वन विभाग से हर साल मांग करते हैं। रिजर्व फारेस्ट की जमीन है, उनके द्वारा ही कुछ प्रयास हो तो किसानों को बड़ी राहत मिलेगी।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना