नरहरा जलप्रपात जाने के लिए 52 लाख की लागत से बनेगी सड़क, 2 पुल और 2 रपटे भी बनाए जाएंगे

Dhamtari News - नरहरा जल प्रपात। घने जंगल के बीच पहाडों से एक-एक कर चट्टानों से उतरता पानी इसे खूबसूरत बनाता है। बरसात शुरू होने के...

Nov 11, 2019, 06:51 AM IST
नरहरा जल प्रपात। घने जंगल के बीच पहाडों से एक-एक कर चट्टानों से उतरता पानी इसे खूबसूरत बनाता है। बरसात शुरू होने के बाद से दिसंबर जनवरी तक यह लोगों को आकर्षित करता है लेकिन यहां जाने के लिए पक्का रास्ता नहीं है। इसके बावजूद पहाड़ों व प्रकृति के प्रेमी मुश्किलें उठाकर इस जलप्रपात तक जाते रहे हैं। अब उनकी मुश्किलें कम हो जाएंगी। जल्द ही नरहरा जल प्रपात तक जाने के लिए पक्की सड़क बन जाएगी। इसके लिए 52 लाख की स्वीकृति मिलने के बाद टेंडर भी करा दिए गए हैं। जल्द ही यह सड़क तैयार हो जाएगी। इसमें दो रपटा व दो पुल भी बनेंगे। सड़क बनने के बाद लोग आसानी से इस खूबसूरत जल प्रपात तक जा सकेंगे।

धमतरी से नगरी रोड पर 45 किमी दूर नरहारा जलप्रपात अब बड़ा पर्यटन केंद्र बनने जा रहा है। यहां बड़ी संख्या में लोग पिकनिक मनाने, सैर करने जा रहे हैं। यहां जाने के लिए सबसे बड़ी मुश्किल जंगल के बीच सड़क का नहीं होना था। पहाड़ से बारिश का पानी उतरता है। यह पानी नरहरा जाने के कच्चे रास्ते पर गिरता है, जिससे सड़क में कीचड़ से लोगों को भारी परेशानी होती है।

नरहरा को पर्यटन केंद्र बनाने के लिए सड़क की जरूरत लंबे समय से महसूस की जा रही थी। जिला प्रशासन ने इसे पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित करने की कार्ययोजना बनाई थी। इसके बाद जरूरी काम भी शुरू करा दिए हैं। शासन सड़क के लिए 52 लाख रुपए का फंड दे रहा है। जहां सड़क बनाई जाना है वह जंगल का है। इस कारण वन विभाग को निर्माण एजेंसी बनाया गया है।

विभाग ने टेंडर भी करा लिया है। जल्द ही काम शुरू हो जाएगा। सड़क बनने के बाद बगैर किसी परेशानी के जलप्रपात तक पहुंचने में आसानी होगी। सड़क बनने के बाद पर्यटकों के बढ़ने की उम्मीद की जा रही है।

कोटरवाही से नरहरा धाम तक सड़क निर्माण

नरहरा जाने से झूरा नवागांव सड़क पर मुड़ना होता है। यहां से आगे करीब 25 किमी दूर नरहरा है। कोटरवाही से नरहरा तक 5 किमी सड़क बनाई जाना है। अब तक यहां जंगल का रास्ता है। सड़क बनने के बाद लोगों को यहां जाने में आसानी होगी साथ ही समय की बचत होगी।

52 लाख की स्वीकृति मिलने के बाद टेंडर भी करा दिए गए हैं, जल्द ही काम शुरू हो जाएगा

धमतरी। इन दिनों नरहरा जलप्रपात में परिवार के साथ पहुंच रहे लोग।

अब तक नहीं था जाने का कोई पक्का रास्ता, घने जंगल के बीच है सुंदर जलप्रपात

इससे स्थानीय लोगों को मिलेगा रोजगार

प्रशासन पर्यटन केंद्र विकसित करने के साथ ही स्थानीय लोगों को रोजगार देने की तैयारी कर रहा है। उम्मीद के मुताबिक पर्यटकों की संख्या बढ़ी तो स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा। वे नरहरा के आसपास रास्ते में छोटी-छोटी गुमटियों में जल पान का काम शुरू कर सकेंगे। साथ ही अन्य स्थानीय उत्पाद, हथकरघा उत्पाद भी बेचे जा सकेंगे।

सालभर पानी रखने की व्यवस्था की जा रही

नरहरा में अभी करीब 8 महीने पानी रहता है। यह जल प्रपात पूरी तरह बारिश के पानी पर निर्भर है। गर्मी में पानी सूखते ही इसका आकर्षण खत्म हो जाता है। ऐसे में प्रशासन नरहरा में सालभर पानी रखने के लिए प्रयास कर रहा है। इसके लिए स्टाप डैम बनाए जा रहे हैं कुछ बन भी गए हैं। ताकि इनमें पानी रुका रहे। सालभर झरना नजर जाए।

शौचालय का निर्माण भी होगा : नरहरा में पर्यटकों की सुविधा के लिए स्वच्छ भारत मिशन से सामुदायिक शौचालय का निर्माण कराया जाएगा। पखवाड़ेभर में निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा। शौचालय सबसे ज्यादा जरूरी था। शेड निर्माण और ठंडे पानी की व्यवस्था हो जाए तो पर्यटकों के लिए रुकने बैठने की व्यवस्था हो जाएगी।

हनुमान धारा पर भी बनाई जा रही कार्ययोजना

जिला पंचायत सीईओ विजय दयाराम के. ने कहा कि नरहरा में सड़क निर्माण के लिए टेंडर हो गया है। आगे जरूरत के हिसाब से विकास काम करेंगे। नरहरा के अलावा डोकाल स्थित हनुमान धारा को भी विकसित करने की तैयारी है। जिला पंचायत की बैठक में इस विषय को रखेंगे। यहां भी जलप्रपात है, थोड़ा काम हो जाए तो लोगों को घूमने के लिए एक और जलप्रपात वाला सुंदर स्थान मिल जाएगा।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना