सुबह रोड पर बैठे मिले 26 हाथी, 3 घंटे सड़क जाम रही, सेल्फी ले रहे युवक को सूंड से उठाकर पटका

Jashpuranagar News - बाबूसाजबहार से लवाकेरा जाने वाली पीएमजीएसवाई की सड़क पर शुक्रवार काे तड़के 5 बजे 26 हाथी बैठे हुए मिले। सड़क पर हाथी...

Sep 14, 2019, 07:55 AM IST
बाबूसाजबहार से लवाकेरा जाने वाली पीएमजीएसवाई की सड़क पर शुक्रवार काे तड़के 5 बजे 26 हाथी बैठे हुए मिले। सड़क पर हाथी होने की खबर पूरे इलाके में फैल गई और सुबह 7 बजे तक हाथियों काे देखने के लिए आसपास गांव के सैकड़ों ग्रामीण यहां पहुंच गए। हाथियों की मौजूदगी के कारण सुबह 8 बजे तक कोई भी राहगीर सड़क पार नहीं कर पाया। बाबूसाजबहार से खारीबहार मिशन स्कूल जाने वाले बच्चे कोतबा लैलूंगा मेन रोड से 5 किलोमीटर अतिरिक्त सफर तय कर स्कूल पहुंचे।

सड़क पर हाथियों और ग्रामीणों की भीड़ जुटने की सूचना पाकर वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची, लेकिन इससे पहले तक ग्रामीण अपने स्तर पर हाथियों को खदेड़ने की कार्रवाई में जुट गए थे। हाथियों के साथ छेड़खानी भी खूब हाे रही थी। कुछ युवक हाथियों के इस दल के साथ सेल्फी लेने में मस्त थे। ग्रामीणों द्वारा छेड़खानी किए जाने से हाथी क्रोधित हो गए थे। सेल्फी लेने में व्यस्त कमल राम के बिल्कुल नजदीक एक हाथी पहुंचा और उसे सूंड में लपेट लिया उठाकर जमीन पर पटका दिया। इससे पहले की हाथी अपने पांव से उसे कुचलता ग्रामीणों ने एक साथ मिलकर हल्ला किया तो हाथी पीछे लौट गया और किस्मत से कमल की जान बच गई। थेड़ी देर बाद वन विभाग का हाथी मित्र दल वाहन मौके पर पहुंचा। वन विभाग की टीम ने शुरू में ग्रामीणों की भीड़ को हाथियों से दूर किया और फिर हाथी खदेड़ने की कार्रवाई शुरू की। खदेड़े जाने के बाद हाथी सड़क से हटकर जंगल में सिर्फ 100 मीटर की दूरी पर जाकर रूक गए।

यहां जा सकते हैं हाथी. कोप जंगल से निकलकर हाथी भेजरीढ़ाप, बाबूसाजबहार, खारीबहार सागजोर, सिकरिमा और कोरंगामाल गांव की ओर बढ़ सकते हैं। इन सभी गांव में वन विभाग ने अलर्ट जारी कर दिया है। ग्रामीणों को सावधान रहने को कहा गया है। साथ ही गांव में महुआ शराब व ऐसी चीज रखने पर सख्त मना किया है जिसकी गंध हाथियों को आकर्षित करें।

हाथियों को देखने सैकड़ों ग्रामीण मौके पर जुटे, भीड़ को हाथियों से दूर रखने पुलिस की लेनी पड़ी मदद

हाथी की फोटों खींचने उसके बिल्कुल करीब पहुंचे ग्रामीण।

दिनभर हाथियों को देखने लगी रही भीड़

शुक्रवार की सुबह कोप जंगल में हाथियों के दल को देखने के लिए दिनभर ग्रामीणों की भीड़ जुटी रही। एक बार स्थिति ऐसी बनी कि हाथी जंगल में चारों दिशाओं से घिर गए। हाथी जिधर बढ़ते उधर से ग्रामीणों द्वारा खदेड़ा जाता। इस स्थिति को देखते हुए वन विभाग को पुलिस की मदद लेनी पड़ी। पुलिस के जवान मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों को हाथी से दूर किया और ग्रामीणों की समझाइश दी कि हाथी के नजदीक न जाएं। देर शाम तक ग्रामीण व वन विभाग की निगरानी हाथी के इस दल पर बनी हुई थी।

भास्कर संवाददाता | अंकिरा

बाबूसाजबहार से लवाकेरा जाने वाली पीएमजीएसवाई की सड़क पर शुक्रवार काे तड़के 5 बजे 26 हाथी बैठे हुए मिले। सड़क पर हाथी होने की खबर पूरे इलाके में फैल गई और सुबह 7 बजे तक हाथियों काे देखने के लिए आसपास गांव के सैकड़ों ग्रामीण यहां पहुंच गए। हाथियों की मौजूदगी के कारण सुबह 8 बजे तक कोई भी राहगीर सड़क पार नहीं कर पाया। बाबूसाजबहार से खारीबहार मिशन स्कूल जाने वाले बच्चे कोतबा लैलूंगा मेन रोड से 5 किलोमीटर अतिरिक्त सफर तय कर स्कूल पहुंचे।

सड़क पर हाथियों और ग्रामीणों की भीड़ जुटने की सूचना पाकर वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची, लेकिन इससे पहले तक ग्रामीण अपने स्तर पर हाथियों को खदेड़ने की कार्रवाई में जुट गए थे। हाथियों के साथ छेड़खानी भी खूब हाे रही थी। कुछ युवक हाथियों के इस दल के साथ सेल्फी लेने में मस्त थे। ग्रामीणों द्वारा छेड़खानी किए जाने से हाथी क्रोधित हो गए थे। सेल्फी लेने में व्यस्त कमल राम के बिल्कुल नजदीक एक हाथी पहुंचा और उसे सूंड में लपेट लिया उठाकर जमीन पर पटका दिया। इससे पहले की हाथी अपने पांव से उसे कुचलता ग्रामीणों ने एक साथ मिलकर हल्ला किया तो हाथी पीछे लौट गया और किस्मत से कमल की जान बच गई। थेड़ी देर बाद वन विभाग का हाथी मित्र दल वाहन मौके पर पहुंचा। वन विभाग की टीम ने शुरू में ग्रामीणों की भीड़ को हाथियों से दूर किया और फिर हाथी खदेड़ने की कार्रवाई शुरू की। खदेड़े जाने के बाद हाथी सड़क से हटकर जंगल में सिर्फ 100 मीटर की दूरी पर जाकर रूक गए।

यहां जा सकते हैं हाथी. कोप जंगल से निकलकर हाथी भेजरीढ़ाप, बाबूसाजबहार, खारीबहार सागजोर, सिकरिमा और कोरंगामाल गांव की ओर बढ़ सकते हैं। इन सभी गांव में वन विभाग ने अलर्ट जारी कर दिया है। ग्रामीणों को सावधान रहने को कहा गया है। साथ ही गांव में महुआ शराब व ऐसी चीज रखने पर सख्त मना किया है जिसकी गंध हाथियों को आकर्षित करें।

ग्रामीणों की भीड़ को हाथियों से दूर करती पुलिस।

हाथियों के दल से परेशान हो चुके हैं ग्रामीण

फरसाबहार ब्लॉक के कई गांव हाथी समस्या से जूझ रहे हैं। इस साल ओडिशा से आए हाथियों के कई दल के कारण अलग-अलग गांव में रोज घटनाएं हो रही है। ग्रामीण अपनी फसलों को नहीं बचा पा रहे हैं। वहीं दर्जनों गांव के ग्रामीण रोज रतजगा करने को मजबूर हैं। ग्रामीण सुरेश राम, गोपाल प्रसाद आदि ने बताया कि बीते कई दिनों से बरसात की इस रात में उन्हें रातभर जगकर पहरेदारी करनी पड़ रही है। दहशत में ग्रामीण कोई काम नहीं कर पा रहे हैं। परिवार को अकेले नहीं छोड़ पा रहे हैं।

निगरानी कर रहे हैं


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना