प्रधानमंत्री आवास के अधूरे पक्के मकानों में पत्थर पर सोने को मजबूर हुए पहाड़ी कोरवा, किसी काम के नहीं मकान फिर बनानी पड़ रही है झोपड़ी

Jashpuranagar News - भास्कर संवाददाता | जशपुरनगर विशेष पिछड़ी जनजाति पहाड़ी कोरवा प्रधानमंत्री आवास योजना से भी लाभान्वित नहीं हो...

Oct 13, 2019, 07:01 AM IST
भास्कर संवाददाता | जशपुरनगर

विशेष पिछड़ी जनजाति पहाड़ी कोरवा प्रधानमंत्री आवास योजना से भी लाभान्वित नहीं हो पाए। भवन तो बने हैं पर गुणवत्ता ऐसी है कि कोरवाओं को फिर से झोपड़ी बनाना पड़ रहा है। पीएम आवास के मकान की दीवार खड़ी कर और छत ढालकर खड़ी कर कोरवाओं को दिया गया। नतीजा पक्के मकान में भी पहाड़ी कोरवा या तो पत्थर या कच्चे जमीन पर सो रहे हैं।

यह हाल पहाड़ी कोरवा बाहुल्य गांव हर्रापाठ की है। हर्रापाठ में जशपुर सन्ना मुख्य मार्ग के किनारे ही पहाड़ी कोरवाओं की बस्ती है। इस बस्ती में 20 पहाड़ी कोरवा रहते हैं। बस्ती में पहाड़ी कोरवाओं के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना में नए मकान बनाए हैं। बरसात से पहले ही नए मकान बनाकर उन्हें दिया गया पर कोरवा इसका उपयोग नहीं कर पर रहे हैं। उनका पुराना घर टूट चुका है। ऐसी दशा में कोरवाओं को बारिश से बचने के लिए नए मकान की एक दीवार का उपयोग कर झोपड़ी बनानी पड़ी है। कोरवाओं ने बताया कि फर्श का कामपूरा नहीं हो पाया है। विशेष पिछड़ी जनजातियों के लिए जिले भर में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान निर्माण का काम 98 प्रतिशत पूरा हो चुका है। विभागीय रिकार्ड बताते हैं कि कुल मंजूर आवास में से सिर्फ 22 मकान पूरी तरह नहीं बन सके हैं। पर हकीकत अलग है। कोरवाओं का मकान अधूरा सौंपकर उनके खाते से पैसे निकाल लिए हैं।

पंचायत ने बनाया राष्ट्रपति के दत्तक पुत्रों का मकान, सरपंच पर लगाया घटिया निर्माण का आरोप

घर में सीपेज. गांव के नंदू राम का पक्का मकान आवास योजना के तहत बना पर मकान की छत बरसात में टपकने और दीवार में सीपेज बहुत ज्यादा होने के कारण उसे मकान के बाजू में फिर से झोपड़ी बनाना पड़ा है। नंदू ने बताया कि झोपड़ी में ही उसका परिवार सोता है और भोजन भी यहीं बनता है। गांव के जगना राम को भी आवास योजना का लाभ दिया गया है। जगना का परिवार यहां रह रहा है पर तकलीफों में।

केस 1

केस 2

पत्थर पर सो रहा परिवार. पहाड़ी कोरवा प्रकाश राम का पूरा परिवार पक्के मकान के भीतर पत्थर के पर सो रहा है। प्रकाश ने बताया कि उसके आवास का पैसा उसके खाते में ना आकर गांव के नंदकेश्वर यादव के खाते में आया। नंदकेश्वर यादव ने मकान बनवाकर दिया है। फर्श पक्का करने के लिए सरपंच व नंदकेश्वर ने जमीन पर बॉक्साइट पत्थर कई माह पहले बिछवा दिया। पर फर्श नहीं बनवाया गया।

सख्त कार्रवाई हो

समाजसेवी सत्येन्द्र पाठक का कहना है कि हर बार कोरवाओं के साथ इसी तरह का धोखा हुआ है। पीएम आवास का लाभ पहुंचाने में जिसने भी गड़बड़ी की है उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई हो।

जांच कराएंगे


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना