लोगों की आस्था का केंद्र बना सुता तालाब फिर भी उसे संवारने पर नपं का नहीं ध्यान

Jashpuranagar News - भास्कर संवाददाता | पत्थलगांव सामाजिक सरोकार की दृष्टि से 10 नंबर वार्ड के सुता तालाब को अब संवारने की जरूरत महसूस...

Jan 24, 2020, 07:26 AM IST
Pathalgaon News - chhattisgarh news suta pond became the center of people39s faith yet the groom did not care about grooming it
भास्कर संवाददाता | पत्थलगांव

सामाजिक सरोकार की दृष्टि से 10 नंबर वार्ड के सुता तालाब को अब संवारने की जरूरत महसूस होने लगी है। नगर पंचायत की पिछली दो सत्ता में काबिज लोगों ने सुता तालाब को अपने फायदे के लिए जमकर इस्तेमाल किया। मरीन ड्राइव बनाने का सपना दिखाकर जनता के रुपयों की खुलकर बंदरबांट की गई। आज सुता तालाब पूरी तरह से बर्बादी की कगार पर पहुंच गया है।

पिछले शासनकाल जीर्णोद्धार के वक्त तालाब में मशीन चलाकर मलवा हटा देने से अब यहां पानी जमा होना बिल्कुल बंद हो गया है। बरसात के दिनों में भी तालाब के सूखे रहने से उसकी सुंदरता पूरी तरह खत्म हो चुकी है। सदियों से धार्मिक आस्था का केंद्र रहा सुता तालाब का पानी तीज त्योहारों के दौरान अब बेकार साबित हो रहा है। यहां फैली चारों ओर की गंदगी के कारण उसके आस-पास जाने से भी लोग कतराने लगे हैं। शहर में हरियाणा, राजस्थान से आकर एक बड़ा समुदाय निवास करता है। 12 महीने में पड़ने वाले अनेक हिंदू त्योहारों के दौरान शहर के लोग सुता तालाब के पास जाकर कई प्रकार के धार्मिक अनुष्ठान संपूर्ण कराते हैं,परंतु अब सुता तालाब की हालत बेहद खराब होने से लोग धार्मिक आयोजनों के लिए दूसरे स्थान का चयन करने लगे है। शहर में बसे मारवाड़ी एवं विप्र समाज के लोग होली, दिवाली के त्योहार के समय सुता तालाब के समीप पुराने रीति रिवाजों का पुर्नवहन करते है। इसके अलावा समाज के लोग मृत्यु कांड के भी बहुत से आयोजन सुता तालाब के समीप ही किया करते थे,परंतु अब धीरे-धीरे ये सभी आयोजन यहां बंद हो गए हैं।

आस्था पर प्रहार
सुता तालाब की बर्बादी के संबंध में जब वार्ड क्रमांक 10 के पार्षद अजय बंसल से बात की गई तो उनका कहना था कि नगर पंचायत का पहले एजेंडें में सुता तालाब के जीर्णोद्धार को प्रमुखता से रखा है। उन्होंने बताया कि सुता तालाब के जीर्णोद्धार का काम रूपरेखा बनाकर पूरा किया जाएगा, जिसके लिए इंजीनियर को आवश्यक निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि किलकिला मांड नदी के तट पर एनिकट से पाइप लाइन के जरिये सुता तालाब में पानी लाने का एजेंडा बनाया जा रहा है,जिसके बाद सुता तालाब का जीर्णोद्धार व सुंदर कर उसे पूर्व की भांति ही सामाजिक और धार्मिक महत्व दिलाया जाएगा।

अजय बंसल

एनिकट से पानी लाने की बन रही योजना

वार्डवासी भी है परेशान

सुता तालाब में पानी संग्रहित नहीं होने की सबसे बड़ी समस्या वार्डवासियों के सामने है। ये जरूरी काम काजों को निपटाने के लिए उनके सामने दूसरी जगह के पानी इस्तेमाल करना मजबूरी बन गई है। दरअसल सुता तालाब के आस-पास एक बड़े इलाके मे काफी लोग निवास करते हैं। उनके मवेशियों के लिए पानी पीने का उचित स्थान किसी समय में सुता तालाब हुआ करता था। उसके अलावा वार्डवासियों के अन्य कामों में भी सुता तालाब का पानी इस्तेमाल होता था,परंतु अब तालाब के सूखने से वार्डवासी अपने जरूरी काम काजों के लिए पानी की किल्लत का सामना कर रहे हैं।

Pathalgaon News - chhattisgarh news suta pond became the center of people39s faith yet the groom did not care about grooming it
X
Pathalgaon News - chhattisgarh news suta pond became the center of people39s faith yet the groom did not care about grooming it
Pathalgaon News - chhattisgarh news suta pond became the center of people39s faith yet the groom did not care about grooming it
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना