जनवरी तक पूरा करना है काम, लोरो घाटी में निर्माण 20 फीसदी ही हो पाया, नदी नालों पर नहीं बने पुल

Jashpuranagar News - भास्कर संवाददाता | जशपुरनगर कुनकुरी से झारखंड बार्डर शंख नदी पुल तक सड़क निर्माण की पूर्णता अवधि 7 जनवरी 2020 ही तय...

Dec 01, 2019, 08:05 AM IST
Jashpur News - chhattisgarh news work to be completed by january construction in loro valley has been completed only 20 percent bridges not built on river drains
भास्कर संवाददाता | जशपुरनगर

कुनकुरी से झारखंड बार्डर शंख नदी पुल तक सड़क निर्माण की पूर्णता अवधि 7 जनवरी 2020 ही तय की है, पर जिस रफ्तार से काम चल रहा है, उससे यह लग रहा है कि एक महीने में सड़क निर्माण का काम पूरा नहीं हो पाएगा, क्योंकि अभी 66 किलोमीटर की इस सड़क पर पुल-पुलिया का काम अधूरा है। साथ ही लोरो घाटी मेें काम अभी 20 प्रतिशत ही हो पाया है।

जशपुर से कुनकुरी जाने वाली सड़क पर लोरो घाटी पर आए दिन हादसे होते रहते हैं। तीन यू टर्न वाली इस घाटी में लंबे टेलर और ट्रकों के फंसे होने के कारण जाम लगने की समस्या भी आम है। निर्माण कंपनी ने घाटी का काम अभी ज्यादा नहीं किया है। घाट में सड़क की चौड़ाई बढ़ाने के लिए पहाड़ों की कटिंग होनी है। यह काम लगभग पूरा हो गया है। इसके बाद घाटी पर काम बंद है। घाटी में खाई वाले छोर में दीवार का काम किया जाना है। यह काम फिलहाल दो टर्न में हो पाया है। पूरी घाटी में खाई की ओर दीवार बनाने का काम बचा हुआ है। घाट के नीचे सड़क का एक हिस्सा ही बन पाया है।

बरसात के कारण निर्माण धीमा था, घाट के नीचे तीन सौ मीटर सड़क अब भी संकरी

योजना. एनएचडीपी परियोजना

अफसर बेपरवाह. सड़क निर्माण के जिम्मेदार अफसर जनता के प्रति जवाबदेही से लगातार बच रहे हैं। बार-बार निर्माण के दौरान लोगों को परेशानी और सड़क की गुणवत्ता को लेकर सवाल उठ रहे हैं। लोरो घाटी में निर्माण कार्य की गति धीमी होने को लेकर एनएच के एसडीओ संजय दिवाकर से बात करनी चाही तो उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया। कई बार प्रयास करने के बाद भी उनसे बात नहीं हो सकी। एनएच विभाग द्वारा जशपुर में एसडीओ की पदस्थापना की है। इनकेे वरिष्ठ अफसर अंबिकापुर संभाग कार्यालय में हैं।

सड़क. कुनकुरी से झारखंड बॉर्डर शंख नदी

लंबाई. 66.750 किमी

अनुबंध एजेंसी. मेसर्स गॉवर-शिवालया कंस्ट्रक्शन, गुड़गांव हरियाणा

अनुबंध राशि. 265.58 करोड़ रुपए

कार्यादेश. 8 जनवरी 2018

लोरो घाटी की वर्तमान स्थिति

पूरा होगा. 7 जनवरी 2020

मलबे से घाटी में उड़ रही धूल

पहाड़ की कटिंग से निकला मलबा लोरो घाटी में सड़क किनारे ही पड़ा है। इससे घाटी में धूल उड़ रही है। वर्तमान में घाट चढ़ने के दौरान पहले, दूसरे और तीसरे टर्न की सड़क संकरी है और पुरानी सड़क भी पूरी तरह से उखड़ चुकी है। पहाड़ के घाटी के ऊपर मलबे के कारण धूल का गुबार उठता है, जिससे हमेशा हादसा होने का खतरा है।

लोदाम रोड पर चल रहा काम

वर्तमान में सड़क निर्माण का कार्य लोदाम सड़क की ओर चल रहा है। बरसात के बीच में गम्हरिया से पतराटोली तक सड़क का काम पूरा कर लिया था। बरसात के कारण सड़क निर्माण का काम धीमा पड़ गया। लोदाम रोड में सड़क निर्माण में काम ने अब रफ्तार पकड़ ली है। बताया जाता है कि शंख नदी तक सड़क निर्माण का काम पूरा होने के बाद फिर से लोरो घाटी पर निर्माण शुरू किया जाएगा।

मनसा देवी पुल है खतरनाक

नदी नालों में काम अभी भी पूरा नहीं हो सका है। सबसे ज्यादा खतरनाक स्थिति लोरो घाटी के ऊपर मनसा देवी मंदिर के पास है। यहां संकरे पुल की स्थिति जर्जर हो चुकी है। इसके अलावा चरईडांड़ से पहले नदी में पुल का निर्माण नहीं होने से लोगों को पुराने संकरे सड़क से गुजरना पड़ रहा है। इन दाेनों ही स्थानों पर पुल का निर्माण कार्य चल रहा है।

X
Jashpur News - chhattisgarh news work to be completed by january construction in loro valley has been completed only 20 percent bridges not built on river drains
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना