तबादले के 2 माह बाद भी अफसर के नाम का साइन बोर्ड नहीं बदला

Kawardha News - बेमेतरा कृषि विभाग में पदस्थ सहायक संचालक शशांक कुमार शिंदे का स्थानांतरण 2 महीने पहले बिलासपुर हो गया है। लेकिन...

Nov 10, 2019, 07:36 AM IST
बेमेतरा कृषि विभाग में पदस्थ सहायक संचालक शशांक कुमार शिंदे का स्थानांतरण 2 महीने पहले बिलासपुर हो गया है। लेकिन विभाग के कार्यालय के बाहर लगे साइन बोर्ड में जन सूचना अधिकारी के पद पर अभी भी अंकित है। इसे बदला नहीं गया है। जिससे ग्रामीण क्षेत्र से पहुंचने वाले किसान साइन बोर्ड को देख भ्रमित हो जाते हैं।

पूर्व में बेमेतरा कृषि विभाग में पदस्थ रहे उपसंचालक कृषि विनोद वर्मा पर आत्मा योजना के अंतर्गत किसानों को लाभान्वित करने मिली राशि का दुरुपयोग कर अपने दफ्तर में 80 हजार रुपए की लागत से कुर्सी-टेबल खरीदने के आराेप लगे थे। जिसकी जांच राज्य शासन स्तर पर हो रही है। बेमेतरा कृषि विभाग में आत्मा योजना अंतर्गत नियमित कर्मियों के बदले सहायक ग्रेड 3 के कर्मचारियों को प्रभारी अधिकारी के रूप में पदस्थ कर दिया गया है। उसके बाद भी किसानों को आत्मा योजना का लाभ नहीं मिल रहा है। खास बात यह है कि आत्मा योजना के अध्यक्ष कलेक्टर को इसकी जानकारी नही है, किसानों के लिए मिली राशि का उपयोग कहां हो रहा है। किसान मेले का आयोजन कब किया गया। इसकी जानकारी नहीं है।

नुकसान: बारिश के पानी में डूब गई धान की फसल

बेमेतरा. बारिश होने से पानी में डूबी धान की फसल, इससे किसानों को नुकसान हो रहा है।

मैदानी इलाकों में दौरा करने नहीं पहुंचता कोई भी अफसर

वर्तमान में मौसम खरीफ, रबी फसल सीजन के विपरीत होने के फसल में माहू का प्रकाेप बढ़ गया है, जो धान की फसल को नुकसान पहुंचा रहा है। जिससे किसान परेशान हैं। किसान प्रकाश कुमार ने बताया कि अधिकारी के पास जाने पर अधिकारी जानकारी नहीं देते है। कृषि विभाग के अफसर गांव में किसानों को कृषि उत्पादन के संबंंध में जानकारी देने और मैदानी क्षेत्रों में दौरा करने नही पहुंचते हैं। अधिकारियों की उदासीनता के कारण किसानों को शासन की योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है। जिससे किसानों में कृषि विभाग के अधिकारियों के प्रति नाराजगी है।

फसलों में बढ़ा कीट प्रकोप दवा का कर रहे छिड़काव

फसलों में लग रही बीमारी की रोकथाम के लिए किसान चिंतित है। वे बीमारी के लक्षण बताकर दुकान से कीटनाशक दवा खरीद कर खेतों में छिड़काव कर रहे है। पर बदली, बारिश के कारण कीटनाशक असर करने से पहले धुल जाते है। इससे किसानों को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है। किसानों का आरोप है कि कृषि विभाग के अधिकारी क्षेत्र का दौरा करने के बजाय घर बैठे आंकड़ा प्रस्तुत करते है। धान के खेतों बीते दिनों नवागढ़ क्षेत्र में हुई जमकर बारिश से धान की फसल सड़ने लगी है। किसान फसल को सहेजने को लेकर जतन कर रहे हैं।

कृषि प्रधान बेमेतरा जिले में विभाग की योजनाएं ठप

बेमेतरा कृषि प्रधान जिला है। लेकिन शासन की योजनाओं का समुचित क्रियान्वयन नही होने के कारण किसानों को योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है। जिससे कृषि विभाग की गतिविधियां पूरी तरह से ठप है, इसके कारण किसानों को असुविधाओं का सामना करना पड़ता है। जिले में पिछले 4 साल से किसानों को दी जाने वाली योजना फिलहाल पूरी तरह से बंद पड़ी हुई है। जिला बनने के बाद 2 साल तक किसानों को कृषि उत्पादन की तकनीक की जानकारी दिलाने को लेकर दूसरे राज्यों का भ्रमण कराया गया था। जहां किसानों को उन्नत किस्म के फसल उत्पादन की जानकारी दी गई।

  राजेश राठौर, संयुक्त संचालक कृषि दुर्ग

टेबल खरीदी का मामला गंभीर


-संविदा के आधार पर आत्मा योजना के क्रियान्वयन के लिए कर्मचारी पदस्थ किए गए हैं, उनसे काम लिया जाना चाहिए।


-यह मेरे संज्ञान में नहीं है। आत्मा योजना से टेबल खरीदी किए जाने का मामला गंभीर है। मामले की जांच कराई जाएगी। मामले की जांच संचालनालय स्तर पर की जा रही है।


-मामले की शिकायत मिलने पर जांच कराई जाएगी। योजना की राशि निकालने का अधिकार कलेक्टर को अधिकार है। ब्लॉक स्तर पर भी अन्य अधिकारियों को अधिकार है। ज्वाइन सिग्नेचर से भी राशि आहरण किया जा सकता है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना