पानी भरते वक्त नल से निकला जिंदा सांप अफसर बोले- नल के मुहाने से घुसा होगा

Kawardha News - शहर के वार्ड-14 देवांगन पारा में मंगलवार को एक घर में सुबह पानी भरते समय नल से करीब सवा फीट का जिंदा सांप निकला। इससे...

Dec 04, 2019, 08:15 AM IST
Kawardha News - chhattisgarh news while filling the water the snake officer who came out of the tap said must have entered from the mouth of the tap
शहर के वार्ड-14 देवांगन पारा में मंगलवार को एक घर में सुबह पानी भरते समय नल से करीब सवा फीट का जिंदा सांप निकला। इससे हड़कंप मच गया। केंचुए की प्रजाति वाले सांप को बाल्टी में रखकर नगर पालिका को सूचना दी गई। पालिका के कर्मचारी आ तो गए, लेकिन वे मानने को तैयार नहीं थे कि पानी के साथ सांप आया।

लोगों की बात मानी भी तो इस बात की आशंका भी जताई कि सांप नल के मुहाने से ही भीतर पहुंचा हो और सप्लाई शुरू होने के बाद वह पानी के साथ बाहर आ गया हो। प्रत्यक्षदर्शियों ने घटना के बारे में बताया कि देवांगन पारा वार्ड-14 निवासी गृहणी सुषमा चंदेल रोज की तरह सुबह नल से पानी भर रही थीं। इसी दौरान यहां नल से पानी के साथ जिंदा सांप निकल आया। इसे देखते ही वह घबरा गईं। उनकी शोर सुनकर आसपास के लोग भी पहुंच गए।

नलों से छोटे आकार के केंचुए निकलने की घटना पहले भी हो चुकी है। लेकिन यह पहली बार है, जब इतना लंबा सांप निकला है।

कुछ करें: मेंटेनेंस में लाखों रुपए खर्च करने के बाद यह हाल

कवर्धा. कंडरा पारा में गुरुनाला के बिछी पाइपलाइन, नल भी लगा है।

बाल्टी के पानी में तैरता जिंदा सांप।

इस तरह लोगों की सेहत से खिलवाड़ कर रही नगर पालिका

1. नालियों में डूबा है पाइप: शहर के बूढ़ा महादेव वार्ड में नालियों के बीच से ही पेयजल सप्लाई के लिए पाइप गुजार दिए हैं। नाली के गंदे पानी में पाइप डूबा हुआ है। इसमें लीकेज और जंग लगने की आशंका है। घराें में लोग नलों में कपड़ा बांधकर पानी भरते हैं।

2. नाले में उतर कर भरते हैं पानी: लोहारा रोड पर कंडरा पारा में सार्वजनिक नल लगा है। यहां गुरुनाला में पाइपलाइन का जाल बिछा दिया है। यही नहीं, उसी नाले में नल भी लगा हैं, जिसमें उतर कर आसपास घरों के लोग पानी भरते हैं। इस तरह की बेपरवाही है।

15 साल पुरानी पाइप लाइन से सप्लाई, इसे भी व्यवस्थित नहीं कर पाए

नगर के सभी 27 वार्डों में करीब 8 हजार नल कनेक्शन लगे हैं। कनेक्शन देने जो पाइपलाइन बिछाई गई है, वे करीब 15 साल पुराने हो चुके हैं। पाइपलाइन व्यवस्थित न होने नालियों से होकर गुजारे गए हैं। पेयजल व्यवस्था सुधारने 2017-18 में शासन ने 94 लाख रुपए दिए थे। इसे मरम्मत कार्यों में खर्च कर दिया। इस साल शहर बजट में 30 लाख रुपए का प्रावधान किया था, उसमें भी कोई काम नहीं हुआ। यह स्थिति तब है, जबकि जलकर से नपा को हर साल 98 लाख रुपए मिल रहे हैं। बावजूद नागरिकों को सुविधाएं नहीं दे रहे हैं।

पुराने पाइप को बदलने में खर्च होंगे साढ़े 3 करोड़ रु. बजट न होने का बहाना

शहर में पेयजल मुहैया कराने 22.530 किमी लंबी पाइपलाइन बिछी है। पूर्व सीएमओ ने पुराने पाइप को बदलने और जोड़ने में करीब साढ़े 3 करोड़ रुपए का खर्च का अनुमान लगाया था। एक ही योजना पर इतनी बड़ी राशि खर्च करने के लिए नपा के पास बजट नहीं है। अगर पुराने पाइप को बदलने का काम शुरू भी किया तो नगर पालिका को कई जगह सड़कों की खुदाई करनी पड़ेगी। वार्डों में ज्यादातर पाइप नालियों के बीच से गुजारे गए हैं, इसलिए नालियों को भी खोदना पड़ेगा। इसके बाद डेमेज कंट्रोल (क्षतिपूर्ति) पर अतिरिक्त राशि खर्च करना पड़ेगा।

स्टाफ को वार्ड में मौके पर भेजकर जांच करने कहा है


Kawardha News - chhattisgarh news while filling the water the snake officer who came out of the tap said must have entered from the mouth of the tap
X
Kawardha News - chhattisgarh news while filling the water the snake officer who came out of the tap said must have entered from the mouth of the tap
Kawardha News - chhattisgarh news while filling the water the snake officer who came out of the tap said must have entered from the mouth of the tap
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना