शहर के पीएचसी में होगा बच्चों का इलाज शिशु रोग विशेषज्ञ व बढ़ाई जाएंगी सुविधाएं

Korba News - शहर के पुराना बस स्टैंड के पास स्थित रानी धनराज कुंवर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) में जल्द ही बच्चों के...

Bhaskar News Network

Nov 11, 2019, 07:15 AM IST
Korba News - chhattisgarh news children will be treated in the city phc pediatrician and facilities will be increased
शहर के पुराना बस स्टैंड के पास स्थित रानी धनराज कुंवर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) में जल्द ही बच्चों के इलाज की सुविधा शुरू हो जाएगी। क्योंकि डीएमएफ से विशेषज्ञ चिकित्सकों की भर्ती के बाद उक्त पीएचसी में शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. अशोक माखीजा की पदस्थापना की गई है।

दरअसल शहर के पीएचसी में पुराने शहर समेत पुरानी बस्ती, सीतामणी, दुरपारोड, इमलीडुग्गू, राताखार, तुलसीनगर समेत उरगा-भैसमा व ग्रामीण अंचल से बड़ी संख्या में प्रतिदिन लोग ओपीडी में इलाज कराने पहुंचते हैं। इसलिए मरीजों की संख्या जिला अस्पताल की तुलना में कम रहती है। इस तरह पीएचसी होने के बाद भी मरीजों का दबाव कम नहीं है। लेकिन पीएचसी होने की वजह से यहां डॉक्टर-स्टाफ समेत अन्य संसाधन की कमी बनी हुई है। जिला अस्पताल में बच्चों के इलाज के लिए पहुंचने वाले मरीजों में करीब 50 फीसदी लोग पुराने शहर के आसपास से ही पहुंचते हैं। जिस देखते हुए स्वास्थ्य विभाग द्वारा पीएचसी में बच्चों के इलाज शुरू की जा रही है। शिशु रोग विशेषज्ञ के पदस्थापना के साथ ही बच्चों को भर्ती करने के लिए वार्ड व अन्य संसाधन की सुविधा भी उपलब्ध कराने की तैयारी है।

पौने 2 करोड़ की बिल्डिंग में चल रहा पीएचसी:

शहर का पीएचसी दो मंजिला बिल्डिंग में रानी धनराज कुंवर देवी के नाम से चल रहा है। पूर्व में अंग्रेज जमाने से उक्त अस्पताल खपरैल भवन में चल रहा था। जिसका कुछ साल पहले पौने 2 करोड़ की लागत से उन्नयन किया गया। उम्मीद थी कि ऊंची बिल्डिंग में पीएचसी शुरू होने पर सुविधाएं बढ़ेगी लेकिन महज ओपीडी में इलाज व प्रसव की सुविधा ही अब तक यहां उपलब्ध है।

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र।

प्रतिदिन 200 मरीज इलाज के लिए पहुंचते हैं पीएचसी

सीएचसी में प्रतिदिन औसतन 200 मरीज ओपीडी में इलाज कराने पहुंचते हैं। सर्दी-खांसी, बुखार व सामान्य बीमारी के अलावा डेंटिस्ट पदस्थ होने से दांत की बीमारी का इलाज कराने पहुंचने वालों की संख्या में भी अधिक होती है। गंभीर केस में ही मरीज जिला अस्पताल की ओर जाते हैं। ऐसा ऊंची बिल्डिंग बनने के बाद नहीं बल्कि खपरैल भवन में पीएचसी संचालन के दौरान ऐसी ही स्थिति थी।

X
Korba News - chhattisgarh news children will be treated in the city phc pediatrician and facilities will be increased
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना