पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Korba News Chhattisgarh News Due To No Student Union Elections Students Said It Is Necessary To Increase Leadership Capacity Management Will Be Arbitrary

छात्र संघ चुनाव नहीं होने से विद्यार्थी बोले- नेतृत्व क्षमता बढ़ाने है जरूरी, प्रबंधन करेंगे मनमानी

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कॉलेज में इस साल भी छात्र संघ चुनाव नहीं होगा। उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल ने निकाय चुनाव की व्यस्तता को देखते हुए मनोनयन के आधार पर पदाधिकारियों की नियुक्ति करने की बात कही है।

छात्र संघ चुनाव का छात्र-छात्राओं के बीच अपना अलग क्रेज है। इसमें राजनैतिक दलों के छात्र संगठन भी सक्रिय रहते हैं। लेकिन पिछली बार की तरह इस बार भी अधिक अंक पाने छात्र-छात्राओं को पदाधिकारी बनने का मौका मिलेगा। छात्रों ने कहा कि छात्र संघ चुनाव से नेतृत्व क्षमता का विकास होता है। छात्रों की कई तरह की समस्याएं होती है। जिसका निराकरण के लिए छात्र संघ के पदाधिकारी पहल करते हैं। कई बार आंदोलन की जरूरत भी पड़ती है। मनोनयन से बने पदाधिकारी पढ़ाई में अधिक रूचि रखते हैं। उन्हें समस्याओं से सरोकार नहीं होता है। जिसकी वजह से कॉलेज प्रबंधन भी मनमानी करते हैं। छात्र संघ के पदाधिकारी रहे कई छात्र राजनैतिक दलों में बड़े पदों पर हैं। इसी वजह से कॉलेज में चुनाव को लेकर छात्रों की सक्रियता रहती है। तात्कालीन भाजपा सरकार ने पिछली बार कॉलेजों में चुनाव नहीं कराया था। लगातार दूसरी बार चुनाव नहीं होगा। पहले एनएसयूआई व अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद सक्रिय रहते थे। लेकिन इस बार सक्रियता देखने को नहीं मिल रही है। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद माना जा रहा था कि छात्र संघ चुनाव हो सकता है। लेकिन अंतिम समय में उच्च शिक्षा मंत्री ने चुनाव नहीं कराने की घोषणा कर छात्र नेताओं के उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। जिले में 20 कॉलेज हैं जहां इस बार भी मनोनयन के आधार पर छात्र संघ का गठन होगा।

छात्र-छात्राएं बोले- राजनैतिक दलों को छात्र संगठन भी इस बार सक्रिय नजर नहीं आए
छात्रों के बीच से प्रतिनिधि चुनना बेहतर: धनेश्वरी
गवर्नमेंट पीजी कॉलेज की धनेश्वरी यादव ने कहा छात्र संघ चुनाव में प्रतिनिधि चुनने से बेहतर होता। छात्रों के बीच से प्रतिनिधि जब पदाधिकारी बनते हैं तो समस्याओं के निराकरण के लिए अधिक सक्रिय रहते हैं। र|ा कर्ष ने कहा हमें कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसके लिए छात्र संघ ही बेहतर है। किरण, भावना, आस्था ने कहा मनोनयन से बने पदाधिकारी रुचि नहीं रखते। इससे छात्रों की समस्या हल नहीं होती। चंद्रपाल व घनश्याम का कहना है कि छात्रावास का मामला हो या पढ़ाई के टाइम टेबल का। इसके लिए भी कई बार प्रबंधन से चर्चा करनी पड़ती है।

ऐसे में तो छात्रों की आवाज ही दब जाएगी, कोई सुनने वाला नहीं
केएन कॉलेज के छात्र सोहेल खान ने कहा छात्र संघ चुनाव नहीं कराने का निर्णय सही नहीं है। ऐसे में तो छात्रों की आवाज ही दब जाएगी। अभिषेक ठाकुर, रजत कुमार साहू का मानना है कि काॅलेज प्रबंधन मनमानी करते हैं। कई बार फीस कोे लेकर समस्या होती है। दीपांशु गुप्ता व रविन्द्र केशरवानी का कहना है कि छात्रों की कई समस्या होती है। जिसका निराकरण छात्र संघ के चुने पदाधिकारी ही कर सकते हैं। हीना परवीन, संगीता श्रीवास व आशीष सिंह का मानना है कि इस बार भी चुनाव कराना चाहिए।

सरकार को अपने निर्णय पर करना चाहिए विचार: रवि सोनी
पीजी कॉलेज के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष रवि सोनी का कहना है कि छात्र संघ चुनाव होना चाहिए। इससे छात्रों में नेतृत्व क्षमता का विकास होता है। सुविधाओं को लेकर कई बार संघर्ष करने की नौबत आती है। उसमें हम पीछे हो जाते हैं। यूनिवर्सिटी स्तर की समस्याएं होती हैं। उसे हम ऊपर तक नहीं पहुंचा पाएंगे।

अधिसूचना जारी होने के बाद होगी कार्रवाई
जिले की लीड कॉलेज गवर्नमेंट पीजी कॉलेज के प्राचार्य डॉ. आरके सक्सेना का कहना है कि अभी छात्र संघ चुनाव को लेकर कोई अधिसूचना जारी नहीं हुई है। जैसे ही इस संबंध में आदेश आएगा उसके हिसाब से छात्र संघ का गठन किया जाएगा।

सभी छात्राएं अपनी समस्याएं प्रोफेसर को नहीं बता सकते
मिनीमाता गर्ल्स कॉलेज की छात्रा ईश्वरी मिरी का मानना है कि छात्र संघ चुनाव में छात्राओं के सहयोग से पदाधिकारी चुने जाते हैं। इससे नेतृत्व क्षमता का विकास होता है। लोकतांत्रिक देश में छात्रों को चुनाव लड़ने तथा नैतिक मतदान करने जैसे गुणों का विकास होता है। रचना टोप्पो का कहना है कि ग्रामीण क्षेत्र से आने वाली छात्राएं अक्सर अपनी बात सीधे प्रोफेसर से नहीं कर पाती। कॉलेज की गतिविधियों में पीछे छूट जाती हैं। छात्राओं का यह भी कहना है कि छात्र संघ के माध्यम से ही छात्राओं को सहायता मिलती है। इसे कॉलेज का आवश्यक अंग बनाना चाहिए।

छात्र के नेतृत्व को कुचलने वाला है यह निर्णय: दीपक वर्मा
केएन कॉलेज के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष दीपक वर्मा ने कहा नई सरकार बनने के बाद छात्रों को उम्मीद थी कि उनकी आवाज सुनी जाएगी। यह सरकार भी छात्र नेतृत्व को कुचलने का प्रयास कर रही है। छात्रों की आवाज दब जाएगी। फीस, पढ़ाई को लेकर कॉलेज प्रबंधन मनमानी करेंगे। कई कॉलेजों में पढ़ाई भी शुरू नहीं हो पाई है।

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। वैसे भी आज आपको हर काम में सकारात्मक परिणाम प्राप्त होंगे। इसलिए पूरी मेहनत से अपने कार्य को संपन्न करें। सामाजिक गतिविधियों में भी आप...

और पढ़ें