• Hindi News
  • Rajya
  • Chhattisgarh
  • Korba
  • Korba News chhattisgarh news even after giving water in 25 thousand hectares 6 thousand hectares took crop in itself now water will be given according to survey

25 हजार हेक्टेयर में पानी देने के बाद भी 6 हजार हेक्टे. में ही ली फसल, अब सर्वे के हिसाब से देंगे पानी

Korba News - हसदेव बांगाे बांध में इस साल 88 प्रतिशत से अधिक पानी का भराव है। बांध से रबी फसल का रकबा डेढ़ लाख हेक्टेयर है। लेकिन...

Nov 15, 2019, 06:50 AM IST
Korba News - chhattisgarh news even after giving water in 25 thousand hectares 6 thousand hectares took crop in itself now water will be given according to survey
हसदेव बांगाे बांध में इस साल 88 प्रतिशत से अधिक पानी का भराव है। बांध से रबी फसल का रकबा डेढ़ लाख हेक्टेयर है। लेकिन किसानों की रुचि कम होने से 50 हजार हेक्टेयर में पानी देने का निर्णय लिया गया है। पिछली बार 25 हजार हेक्टेयर के लिए पानी नहरों में छोड़ा गया था। लेकिन मात्र 6 हजार हेक्टेयर में ही धान की फसल ली। इसकी वजह से सर्वे कराने के बाद पानी दिया जाएगा। बांध ने पिछले साल की अपेक्षा जलस्तर तीन मीटर अधिक है। इस वजह से पानी की कमी नहीं होगी।

बांध से रबी फसल के लिए जांजगीर-चांपा के किसान ही पानी लेते हैं। जिले के किसान रूचि नहीं लेते। हर साल गर्मी के समय निस्तारी के लिए दांयीं व बायीं तट नहर से पानी दिया जाता है। लेकिन पिछले साल कम रकबा में धान की फसल नहीं लेेने की वजह से पानी व्यर्थ बह गया। रबी के लिए जनवरी से पानी दिया जाता है। निस्तारी के लिए मार्च अप्रैल में जब तालाब सूखने लगते हैं तब नहरों में पानी छोड़ते हैं। दोनों में तीन माह का अंतर है। इसकी वजह से ही इस बार पानी व्यर्थ न बहे इसके लिए निचले स्तर से रिपोर्ट मिलने के बाद पानी दिया जाएगा। हालांकि बांध में इतना पानी है कि अगले साल खरीफ के लिए भी पानी की कमी नहीं होगी। किसानों को पानी देेने का निर्णय जल उपयोगिता समिति लेती है। आगामी बैठक में इस पर चर्चा हाेगी। बांगो बांध का जलस्तर गुरुवार को 357.66 मीटर व पानी का भराव 2552.52 मिलियन घन मीटर दर्ज किया गया, जो कुल भराव क्षमता का 88.19 प्रतिशत है। पिछले साल इसी अवधि में मात्र 354.08 मीटर जलस्तर व 1996.26 मिलियन घन मीटर पानी का भराव था। बांध से खरीफ के लिए 4 महीने तक लगातार पानी दिया गया। 31 अक्टूबर को नहरों के गेट बंद किए गए। इसके बाद भी जलस्तर में मामूली गिरावट आई है। इसका मुख्य कारण अक्टूबर में भी रूक-रूककर बारिश होना है।

बांगो बांध में अभी 88.19 प्रतिशत पानी का है भराव।

जानिए 4 साल में कितना रहा बांगो बांध का जलस्तर

वर्ष जलस्तर (मीटर में) पानी का भराव (एमसीएम में)

2019 357.66 2552.52

2018 354.08 1996.26

2017 353.89 1968.84

2016 354.95 2124.60

सर्वे के आधार पर देंगे पानी

एसडीओ एसएन साय का कहना है कि इस साल भी रबी फसल के लिए पानी दिया जाएगा। पानी व्यर्थ न बहे इसके लिए सर्वे में जितनी डिमांड होगी उतना पानी छोड़ा जाएगा।

सोन नदी के साथ ही महानदी में जाता है पानी

नहर से पानी छोड़ने पर आसपास के सूखी नदी-नाले भी लबालब हो जाते हैं। गर्मी के समय सोन नदी सूख जाती है। लेकिन नहर से पानी छोड़ने पर बहकर सोन नदी में जाती है। इससे सोन नदी भी लबालब हो जाती है। शिवरीनारायण तक दांयीं तट नहर गई है।

2 लाख 47 हजार हेक्टेयर में सिंचाई, 14 उद्योगों को पानी

X
Korba News - chhattisgarh news even after giving water in 25 thousand hectares 6 thousand hectares took crop in itself now water will be given according to survey
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना