4 टिकट कम बुक हुए इसलिए दरभंगा और पुरी-बीकानेर एक्सप्रेस छीनी

Raigarh News - रेलवे बोर्ड द्वारा तय मापदंड के अनुसार किसी भी स्टेशन पर अतिरिक्त मेल एक्सप्रेस के ठहराव के लिए रोजाना 500 किमी की...

Oct 05, 2019, 08:06 AM IST
रेलवे बोर्ड द्वारा तय मापदंड के अनुसार किसी भी स्टेशन पर अतिरिक्त मेल एक्सप्रेस के ठहराव के लिए रोजाना 500 किमी की अधिक दूरी के 40 टिकटें और आय 12 से 24 हजार रुपए होनी चाहिए। यहां टिकटों की सेलिंग प्रतिदिन 36 और आय 1807 रुपए हैं। यही वजह है कि दरभंगा-सिकंदराबाद और पुरी-बीकानेर का ठहराव थोड़े समय बाद समाप्त कर दिया गया।

रायगढ़ स्टेशन में दरभंगा-सिकंदराबाद 11 मार्च से ठहराव दिया गया था। थोड़े समय बाद रेलवे ने इसे अचानक बंद करने की घोषणा कर दी। इसी तरह पुरी-बीकानेर एक्सप्रेस का परिचालन भी थोड़े समय के बाद बंद कर दिया गया। इसे फिर से शुरू करने की मांग को लेकर पूर्व जेडआर यूसीसी मेंबर गोपाल अग्रवाल ने 13 अगस्त 2019 को रेलवे को पत्र लिखा था। उनके इस पत्र पर रेलवे के डिप्टी चीफ पैसेंजर ट्रैफिक मैनेजर डॉ.एसएन मुखर्जी ने शुक्रवार को जवाब भेजा उन्हें भेजा है। इस पत्र में उन्होंने बताया है कि बोर्ड के मापदंडों के अनुरूप किसी भी स्टेशन में अतिरिक्त मेल एक्सप्रेस के ठहराव के लिए स्लीपर कोच में 500 किमी या इससे अधिक दूरी के लिए रोजाना 40 टिकटों की बुकिंग होनी चाहिए। इस पर कुल आय 12716 से 24506 रुपए होना चाहिए। चूंकि रायगढ़ में यह रोजाना 36 टिकटों पर 1807 रुपए हैं। इसलिए यह मापदंड के विपरीत है।

वर्तमान में उन्होंने कुल 54 ट्रेनों को ठहराव पहले से है। इनमें 42 मेल एक्सप्रेस और 12 पैसेंजर ट्रेनें शामिल है। दोनों तरफ से 8 ट्रेनों का परिचालन रायगढ़ से शुरू होता है। इनमें अधिकांश लंबी दूरी की ट्रेनें शामिल है। दरभंगा-सिंकदराबाद ट्रेन को हरी झंडी दिखाने आए तात्कालीन सांसद विष्णुदेव साय से स्थानीय लोगों ने ट्रेन के ठहराव के संबंध सवाल किए थे। तब डीआरएम आर राजगोपाल ने मौके पर ट्रेन के ठहराव को स्थाई बताते हुए लोगों की जिज्ञासा शांत की थी। इसके थोड़े समय बाद अचानक ट्रेन का ठहराव समाप्त कर दिया गया।

फाइल फोटो: उद्घाटन में ये जुटे थे प्रतिनिधि

ठहराव पर एक ही जवाब

बीते पांच साल रेलवे इन चार प्रमुख ट्रेनों के ठहराव को लेकर एक ही जवाब दे रही है। इस पत्र में भी रेलवे ने घिसापिटा जवाब देते हुए कहा है कि बलसाड़-पुरी-बलसाड़, हावड़ा-सांईनगर-हावड़ा, हैदराबाद-रक्सौल-हैदराबाद के लिए जोन से रेल मंत्रालय को प्रस्ताव भेजा गया है।

रेलवे चाहे तो ठहराव मिल सकती है,


टिकटों की संख्या कम


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना