40 हजार में नई बाइक व 60 हजार लौटाने का झांसा देकर की ग्रामीणों से 6 लाख रु. की ठगी

Raigarh News - सिंघनपुरी जंगल थाना क्षेत्र के ग्राम रानीदहरा में ग्रामीणों से 6 लाख रुपए की ठगी का मामला सामने आया है। मामले में...

Aug 14, 2019, 06:45 AM IST
सिंघनपुरी जंगल थाना क्षेत्र के ग्राम रानीदहरा में ग्रामीणों से 6 लाख रुपए की ठगी का मामला सामने आया है। मामले में मास्टर माइंड महेन्द्र कुमार समेत 2 आरोपी पकड़े गए हैं। 40 हजार रुपए में नई मोटर साइकिल और 60 हजार रुपए लौटाने का झांसा देकर आरोपियों ने गांव के 9 लोगों को ठगा था।

लोगों को झांसे में लेने के लिए खुद को हीरो होण्डा शोरूम का एजेंट बताते थे। ठगी का मास्टर माइंड महेन्द्र कुमार पिता नाथूराम कलार (32) सिंगारपुर (राजनांदगांव) का रहने वाला है। उसने रानीदहरा गांव में रहने वाले अपने दोस्त सूरज लाल पिता जतीराम यादव (31) के साथ मिलकर ठगी की। सबसे पहले रानीदहरा गांव के हेमलाल साहू को ठगा। झांसा देने के ले उसे फर्जी स्कीम बताई। कहा कि 40 हजार रुपए जमा करने पर नई मोटर साइकिल मिलेगी। साथ ही 12 दिन के भीतर 60 से 70 हजार रुपए वापस भी मिल जाएगा। 40 हजार रुपए देने के बावजूद न मोटर साइकिल मिली और न ही पैसे वापस हुए। इस तरह आरोपियों ने 9 से अधिक लोगों से 6 लाख रुपए ठग लिया।

भेजे गए जेल: झांसा देने खुद को शोरूम का एजेंट बताता था

कवर्धा. पुलिस गिरफ्त में दोनों आरोपी। कोर्ट से इन्हें जेल भेजा गया

कवर्धा. पुलिस गिरफ्त में दोनों आरोपी। कोर्ट से इन्हें जेल भेजा गया

आरोपियों को घर से पकड़ा, भेज गया जेल

ग्राम रानीदहरा निवासी तिहारू साहू, दानीराम, झनक राम साहू, तामराज यादव, दिनेश साहू, बेदराम साहू, सेवाराम साहू और हेमलाल साहू शामिल है। इनकी रिपोर्ट पर पुलिस ने दोनों आरोपियों को उनके घर से गिरफ्तार किया। मंगलवार को कोर्ट से उन्हें जेल भेज दिया गया है।

आप सतर्क रहें; अंचल में ठगे जा रहे लोग

एक लाख रु. से ज्यादा का कर्ज था, चुकाने को पैसे नहीं थे, तो लोगों को ठगने लगा, धीरे-धीरे बढ़ाने लगा दायरा

पूछताछ से पता चला कि आरोपी महेन्द्र कुमार कलार पर 1 लाख रुपए से ज्यादा का कर्ज था। कर्ज देने वाले तकादे मार रहे थे, लेकिन उसके पास चुकाने काे पैसा नहीं था। इस कारण वह लोगों को ठगना शुरू किया। धोखाधड़ी करने के लिए उसने रानीदहरा में रहने वाले अपने दोस्त सूरज लाल यादव को भी साथ मिला लिया। अप्रैल 2019 में दोनों ने मिलकर कुछ दिन में 6 लाख रुपए की ठगी कर लिया। हालांकि, पुलिस को शक है कि ठगी के शिकार लोगों की संख्या ज्यादा हो सकती है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।

नक्सल प्रभावित कबीरधाम जिले के अंचलों में लोग ठगी के शिकार हो रहे हैं। कभी आवास, तो कभी सरकारी नौकरी और जमीन का पट्टा मिलने की लालच में अपनी पूंजी गंवा रहे हैं। बीते वर्ष 2018 में ठगी के 20 से अधिक मामले आए थे।

चेक बाउंस होने के बाद खुला यह पूरा मामला

आरोपियों ने प्रार्थी हेमलाल पिता केजऊ साहू से भी 40 हजार रुपए जमा करा लिया था। मोटर साइकिल नहीं मिलने पर उसने आरोपियों को तकादे मारना शुरू किया। रुपए वापस मिलने का यकीन दिलाने के लिए आरोपी महेन्द्र ने चेक काटकर उसे दिया था। उसे लेकर प्रार्थी बैंक गया, तो चेक बाउंस हो गया फिर थाने में मामले की शिकायत कर दी।



ठगी के सर्वाधिक मामले कुकदूर थाना क्षेत्र से

क्योंकि यहां रहने वाले बैगा-आदिवासियों को आराेपी आसानी से झांसे में ले लेते हैं। मार्च 2018 में ही इलाके के 17 आदिवासी परिवारों को आवास दिलाने के नाम पर लाखों रुपए की ठगी हुई थी। हालांकि, बाद में पुलिस ने मामले में 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। अपराधों से बचने पुलिस आस्था अभियान के जरिए जागरूकता लाने प्रयास कर रही है। लोगों को भी सतर्क रहना चाहिए। उल्लेखनीय है कि वनांचल के दूरस्थ गांवों के सीधे साधे लोगों को ठग अपना शिकार बनाते हैं। हकीकत जानते तक वे फंस जाते हैं।

फर्जी स्कीम बताकर करते थे ठगी


रायगढ़, बुधवार 14 अगस्त, 2019 |

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना