महाआरती के बाद सवामणी भोग में तीन टन प्रसाद चढ़ाया, भक्तों ने केक भी काटा

Raigarh News - श्री श्याम महोत्सव कार्यक्रम के अंतिम दिन शनिवार को सब पर श्याम भक्ति रंग चढ़ा। इसकी शुरुआत सुबह महाआरती से हुई।...

Nov 10, 2019, 07:40 AM IST
श्री श्याम महोत्सव कार्यक्रम के अंतिम दिन शनिवार को सब पर श्याम भक्ति रंग चढ़ा। इसकी शुरुआत सुबह महाआरती से हुई। दोपहर में छप्पन भोग चढ़ाया और देर शाम से शुरू हुआ भजनों का सिलसिला देर रात तक चला। भक्तों ने बाबा श्याम को सवामणी का प्रसाद चढ़ाया। 70 परिवारों ने विधि विधान के साथ सपरिवार पूजा की और सवामणी लगाई। शहर के साथ ही आसपास के जिलों से भी लोग यहां भगवान का जन्मोत्सव मनाने पहुंचे। खाटू वाले का बर्थ डे मनाने केक भी काटा गया। शाम तक भक्तों का तांता लगा रहा। वहीं रात को 10 बजे के बाद भजनों की महफिल सजी और देर रात तक लोग श्याम धुन पर झूमते रहे। संजय काम्पलेक्स स्थित श्याम बगीची में श्याम मंडल द्वारा आयोजित 41वें विराट भव्य श्री श्याम महोत्सव में श्री श्याम प्रभु का जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया गया। शनिवार को सुबह से दोपहर तक मंदिर में भक्त प्रसाद चढ़ाकर दर्शन करते रहे। खीर, चूरमा, पंचमेवा में लगभग साढ़े तीन टन भोग शहरवासियों के साथ ओडिशा के भक्तों ने मिलकर बनाया। इसके बाद श्याम मंडल द्वारा खीर चूरमा का भोग प्रसाद भक्तों को वितरित किया गया। देर शाम में श्याम बगीचा में खाटू श्याम की तर्ज पर बने पंडाल में सैकड़ों भक्त भक्तिगीतों पर दोनों हाथों को उठाकर झुमते रहे।

शाम भजनों की महफिल सजी और आधी रात के बाद भी लोग श्याम धुन पर झूमते रहे

फूल बरसे, दरबार सजा, रसोई महकी

छप्पन भोग. भगवान श्याम बाबा को महोत्सव कार्यक्रम में समिति के द्वारा छप्पन भोग लगाया गया। इसमें महिलाओं ने विधि-विधान से पूजा करने के बाद बाबा को प्रसाद के रूप में भोग लगाने के लिए छप्पन भोग का प्रसाद चढ़ाया।

अखंड ज्योत. मंदिर में शुक्रवार से ही श्याम बाबा के आगे 24 घंटे के लिए अखंड ज्योत जलाई जा रही है। मनोकामना पूरी करने के लिए भक्त ज्योत के आगे आशीष मांगने के लिए शीश को झुकाते रहे। लोगों ने बताया कि इसका महत्व जीवन में दिखता है।

श्याम रसोई. श्याम मंडल समिति के द्वारा भक्तों के लिए भोजन की व्यवस्था में श्याम रसोई का आयोजन किया गया था। श्याम रसोई में तीन दिनों तक भक्तों को सुबह और रात में भोजन कराया गया। जिसमें बाहर से आए श्रद्धालु भी शामिल रहे।

भव्य दरबार. श्याम बाबा के दरबार को भव्यता देने के लिए कलकत्ता से कलाकारों को बुलाया गया। जिसमें विशेष प्रकार के फुल और श्रृंगार के आभूषण लगाए गए। वही दूसरी तरफा राजस्थान की तर्ज पर खाटू श्याम मंदिर में पंडाल को सजाया गया।

पुष्प वर्षा. श्याम मंदिर में पुष्प वर्षा का भी कार्यक्रम रखा गया। जिसमें महिलाएं, पुरूष बच्चे सब ने भगवान की पुष्पों से वर्षा की। इस अवसर पर सब अपने मनोकामना के लिए उनसे प्रार्थना करते रहे। भक्ती भाव के साथ प्रार्थना की।

अलौकिक श्रृंगार. समिति के द्वारा तैयारियों को आर्कषक रूप देने के लिए पूरा मंदिर परिसर में अलौकिक श्रृंगार किया। इसमें लाइटिंग के साथ फूलों और कपड़ों को सजाया गया। इससे मंदिर के अंदर आ रहे भक्त देखकर मंत्रमुग्ध हो जा रहे हैं।

राज पारिख के भजनों पर थिरके भक्त

भजन संध्या में कोलकाता के आमंत्रित भजन कलाकार राज पारिख ने अपने भजनों से श्याम भक्तों को झूमने पर मजबूर कर दिया। “कुछ यूं मेरे श्याम सरकार आए हैं, श्री श्याम से हमने नाता जोड़ लिया है...जब बिन बोले मिलता तो बोल के मैं क्या मांगू, खाटू का तोरन द्वार बैकुंठ का द्वार है.. श्री श्याम ने धरती पर स्वर्ग को उतारा है.. से समां बांध दिया। अबोहर हरियाणा से आएं भजन गायक मयंक अग्रवाल ने अपने भजनों में “बचपन से सुना हमने मालिक श्याम हमारा है.. सहित अनेक भजनों की प्रस्तुति दी।

उद्योगपति निकल्स फिनलैंड से पहंचे

फिनलैंड हेलसिंकी के एनआरआई उद्योगपति निकल्स टोरंकविस्ट भी श्याम दरबार में अपनी हाजिरी लगाई। इस कार्यक्रम को लेकर आयोजकों की प्रशंसा भी की। उन्होंने ने अंग्रेजी में कहा कि यहां आकर मन में शांति का आभास हो रहा है। यहां भक्ति वातावरण जीवन को आनंददायी बनाती है। उन्होंने श्याम प्रभु का दर्शन पूजन किया।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना