• Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Raigad
  • Raigarh News chhattisgarh news bhandara all day in porath dham hundreds of people participated in maharaati for the first time in the evening
--Advertisement--

पोरथ धाम में दिनभर चला भंडारा, शाम को पहली बार हुई महाआरती में शामिल हुए सैकड़ों लोग

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2019, 03:06 AM IST

Raigarh News - शहर से 40 किमी दूर महानदी के तट पर स्थित पोरथ गांव में मकर संक्रांति का मेला लग गया है। 14 जनवरी तक यहां डेढ़ लाख से...

Raigarh News - chhattisgarh news bhandara all day in porath dham hundreds of people participated in maharaati for the first time in the evening
शहर से 40 किमी दूर महानदी के तट पर स्थित पोरथ गांव में मकर संक्रांति का मेला लग गया है। 14 जनवरी तक यहां डेढ़ लाख से ज्यादा लोग मकर स्नान करेंगे।

प्राचीनकाल से मकर संक्रांति का तीन दिवसीय भव्य मेला यहां लगता है जिसमें पड़ोसी राज्य ओडिशा और छत्तीसगढ़ के लोग यहां स्नान कर भोलेनाथ की दर्शन करते हैं। पोरथ धाम पर लगातार बढ़ रही आस्था को देखते हुए पहली बार रविवार की शाम महाआरती का आयोजन किया गया। जिसमें रायगढ़ विधायक प्रकाश नायक समेत 20 हजार से अधिक लोग शामिल हुए। मेले की खास बात यह है कि यहां दर्शन और स्नान करने आने वाले भक्तों के लिए रविंद्र भोय की रसोई में 24 घंटे भोजन की व्यवस्था रहेगी। भोजन कराने की सारी जिम्मेदारी उनके शिष्य पोरथवासी ने संभाल ली है। रविवार की दोपहर 12 बजे महाभंडारे की शुरुआत हो गई जिसमें शाम तक ही 20 हजार से ज्यादा लोग भोजन कर चुके थे। ग्रामीणों का अनुमान है 14 जनवरी की दोपहर तक वे 40 हजार से ज्यादा भक्तों को भोजन करा देंगे। इसकी तैयारी उन्होंने पहले से ही मौके पर ही कर रखी है। पोरथ में भंडारा लगाने की तैयारी एक हफ्ते पहले शुरू हुई। गुरु रविंद्र के शिष्यों ने छत्तीसगढ़ और ओडिशा के गांवों में ग्रामीणों के पास गए और उनसे दान में जो भी मिला उसे पोरथ गांव में लाकर दे दिया। भक्तों से मिले चावल, दाल और सब्जी से ही 24 घंटे के महाभंडारे में भक्तों को भोजन कराया जाएगा। महाभंडारे की व्यवस्था पोरथावासी ही संभाल रहे हैं। बुजुर्ग मानिटरिंग कर रहे हैं। युवाओं को भोजन परोसने और बनाने की जिम्मेदारी दी है। सब्जी काटने का मोर्चा गांव की महिलाओं ने संभाल रखा है।

महाभंडारे में कोई व्यवधान न आए इसलिए गांव के अन्य लोगों को बारी-बारी से काम करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। बुजुर्ग, युवक व महिलाएं सभी अतिथियों की सेवा मिलकर कर रहे हैं। बड़े बुजुर्ग इस आयोजन को अपनी पुरानी परंपरा से जोड़कर मानते है। श्रद्धालुओं को यहां ऋषि पत्र के दर्शन, महानदी पर गंगा स्नान, कृष्ण भक्तिभाव से समर्पण गुरुधाम का दर्शन करने को मिलता है। मंदिर के आसपास कई प्राचीन मूर्तियां रखी हुई है जिसे देख कर इस स्थल के पुरातात्विक महत्व का अनुमान सहज ही लगाया जा सकता है।

इस मेले में ओडिशा, छग के महासमुंद जिले व जांजगीर व कोरबा तक के लोग पहुंचते हैं।

पोरथ धाम में आने श्रद्धालुओं के लिए दिन भर ऐसे ही चूल्हे जलते रहे।

ओडिशा के लोग 50 किलोमीटर नाव से सफर तयकर पहुंचते हैं

महानदी के दूसरे तट पर बसे ओडिशा के लोग भी पोरथ मेला पहुंचते हैं। वर्तमान में महानदी के इस छोर आने के लिए एक मात्र सहारा नाव ही है। ऐसे में ओडिशा राज्य के सेमलिया, कोड़केला, मोहंदी, मेहुलपाली, चांटीपाली, कंडेकेला, शरधा सहित एक दर्जन गांवों के लोग नाव से करीब 50 किमी दूरी सफर कर पोरथ तक पहुंचते हैं।

पर्यटन स्थल के रूप में विकसित होगा पोरथ: विधायक प्रकाश

पोरथ तीर्थस्थल पर पहली बार महाआरती का आयोजन किया गया। इसमें रायगढ़ विधायक प्रकाश नायक अपनी मां व प|ी बच्चों समेत पहुंचे थे। महाआरती के बाद मीडिया से चर्चा करते हुए विधायक ने कहा कि लंबे समय से पोरथ को पर्यटन स्थल बनाने की मांग उठ रही है। उन्होंने कहा कि जिपं सदस्य रहते हुए उनकी ओर से पहल की गई थी, लेकिन तात्कालीन भाजपा सरकार ने ध्यान नहीं दिया। अब प्रदेश में कांग्रेस की सरकार है। इस पर उन्होंने कहा कि सीएम भूपेश बघेल से मिलकर मांग रखेंगे और अपनी ओर से पूरी कोशिश करेंगे।

Raigarh News - chhattisgarh news bhandara all day in porath dham hundreds of people participated in maharaati for the first time in the evening
X
Raigarh News - chhattisgarh news bhandara all day in porath dham hundreds of people participated in maharaati for the first time in the evening
Raigarh News - chhattisgarh news bhandara all day in porath dham hundreds of people participated in maharaati for the first time in the evening
Astrology

Recommended

Click to listen..