• Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Raigad
  • Raigarh News chhattisgarh news bilaspur grp guarded by the guards after the rpf grp was beaten in front of platform on platform

प्लेटफार्म पर आरपीएफ-जीआरपी के सामने गार्ड को पीटा फिर बंधक बनाकर ले गए बिलासपुर जीआरपी ने गार्ड की बचाई जान

Raigad News - ड्यूटी खत्म कर सोमवार रात ब्रजराज नगर से रायगढ़ लौट रहे रेलवे गार्ड संतोष कुमार झा को स्टेशन पर आरपीएफ जीआरपी के...

Bhaskar News Network

Apr 16, 2019, 07:21 AM IST
Raigarh News - chhattisgarh news bilaspur grp guarded by the guards after the rpf grp was beaten in front of platform on platform
ड्यूटी खत्म कर सोमवार रात ब्रजराज नगर से रायगढ़ लौट रहे रेलवे गार्ड संतोष कुमार झा को स्टेशन पर आरपीएफ जीआरपी के सामने पीटा गया। महिला से छेड़छाड़ करने का आरोप लगाते हुए यात्री उसे बंदी बनाकर साथ ले गए पर मौके पर खड़े होकर जवान चुपचाप तमाशा देखते रहे। यात्री रास्ते भर उसे पीटते रहे। बिलासपुर स्टेशन पहुंचने पर जीआरपी और गार्ड के साथियों ने किसी तरह गार्ड को यात्रियों के चंगुल से छुड़ाया।

घटना के बाद गार्ड साथियों के साथ बिलासपुर-पटना एक्सप्रेस से रायगढ़ लौटा। उन्हें इलाज के लिए केजीएच में भर्ती कराया गया। उनके सिर, हाथ और पीठ पर चोट के निशान है। हैरानी इस बात की है कि इतना सब कुछ होने के बावजूद जीआरपी, और आरपीएफ मामले में अब तक कुछ भी नहीं किया है। ड्राइवर गार्ड एसोसिएशन इस मामले को लेकर शीर्ष अफसरों से शिकायत की बात कह रहे हैं। आरपीएफ और जीआरपी प्रभारी मामले में खुद का बचाव करते नजर आ रहे हैं। बिलासपुर जीआरपी तो शरीर पर चोट के निशान होने से भी इनकार कर रही है।

मेरी गलती सिर्फ इतनी थी कि मैं उनके बर्थ पर बैठ गया: संतोष

घायल रेलवे गार्ड जिसके शरीर पर चोट नहीं लगाने का दावा जीआरपी कर रही।

मैं ड्यूटी करके ब्रजराज नगर स्टेशन पहुंचा। रात 2 बजे शालीमार कुर्ला एक्सप्रेस पर सवार हुआ। एस 12 कोच में सभी अपने-अपने बर्थ पर सो रहे थे। थोड़ी जगह देखकर मैं वहां बैठ गया। वहां एक महिला सोई हुई थी, उन्होंने आपत्ति की, मैं उठकर दूसरी जगह चला गया। थोड़ी देर बाद उनके साथ सफर कर रहे कुछ लोग आए और मारपीट करना शुरू कर दिया। कोच कांट्रेक्टर वहीं खड़ा था। रायगढ़ स्टेशन पहुंचने के बाद मुझे प्लेटफार्म पर पीटा, मेरा बैच लगा शर्ट फाड़ दिया। गंजी तक फाड़ दी, मौके पर आरपीएफ जीआरपी के जवान खड़े थे, किसी ने नहीं रोका। उन्होंने मुझे घसीट कर वापस ट्रेन में चढ़ाया और बिलासपुर तक पीटते ले गए। बिलासपुर स्टेशन में जीआरपी के सामने मेरी पिटाई की किसी तरह जीआरपी और मेरे साथियों ने मुझे उनसे बचाया। वो नहीं आते तो मेरी लाश घर आज घर पहुंचती। मेरी गलती सिर्फ इतनी थी कि मैं उनकी बर्थ की थोड़ी खाली जगह पर बैठ गया।

इससे पहले भी सीट को लेकर हो चुके हैं विवाद

ऐसी घटना पहली बार नहीं हुई है, इससे पहले भी रूट की ट्रेनों गार्ड और ड्राइवरों द्वारा टीटीई व यात्रियों से विवाद सुर्खियों में रह चुके हैं। टीटीई ने सीट मांगने पर गार्ड को जेल भिजवाने की तक धमकी दे चुके हैं, वहीं ड्राइवरों द्वारा टीटीई के साथ भी मारपीट और बर्थ को लेकर यात्रियों के साथ विवाद का मामला भी सामने आ चुका है।

गार्ड-ड्राइवर को 60 मिनट में लौटना जरूरी

ड्यूटी खत्म होने के बाद गार्ड-ड्राइवर को 60 मिनट के अंदर किसी तरह वापस लॉबी में रिपोर्टिंग करना होता है। यहीं वजह है कि गार्ड-ड्राइवर ड्यूटी खत्म होने के बाद रूट की ट्रेन में बिना बर्थ और सीट की परवाह किए बैठ जाते हैं। तय समय पर नहीं पहुंचने की स्थिति में उनके खिलाफ चार्जशीट जारी की जाती है।

चेन खींचने के बाद 18 मिनट खड़ी रही ट्रेन

इंक्वायरी के मुताबिक रायगढ़ स्टेशन के दो नंबर प्लेटफार्म पर 2.52 बजे ट्रेन खड़ी हुई। 2.57 बजे ट्रेन के खुलते ही चेन खींची गई। इसके बाद 18 मिनट तक ट्रेन प्लेटफार्म खड़ी रही। पैनल पर ड्यूटी पर तैनात डिप्टी स्टेशन मास्टर को रेल कर्मी के साथ मारपीट की सूचना मिली, लेकिन ट्रेन लेट होता देख उन्होंने लाइन क्लियर कर दिया।

सीधी बात | एमएल यादव, प्रभारी आरपीएफ रायगढ़

ट्रेन को स्टेशन से रवाना करना ज्यादा जरूरी था

कल रात शालीमार में गार्ड के साथ मारपीट की घटना हुई है?

एसीपी (चैन पुलिंग) हुई तो जवान वहां पहुंचे,गार्ड खाली सीट पर बैठा था,कुछ ग्रुप वालों ने महिला के साथ अभद्र व्यवहार का आरोप लगाया।

गार्ड ने मारपीट की बात कहीं फिर भी आपके जवानों ने नीचे नहीं उतारा?

जवानों के सामने मारपीट की कोई घटना नहीं हुई है।

गार्ड ने कहा मैं रायगढ़ स्टाफ हूं , फिर भी आपके जवान क्यों खड़े रहे?

देखिए ऐसा है कि उस टाइम गाड़ी खुलवाना था तो जवानों ने किया।

जवानों के सामने रेल कर्मी को बंदी बनाया गया, क्या उन्हें रोकना आरपीएफ की जिम्मेदारी नहीं?

मुझे भी जवानों से सूचना मिली है, मैं बिलासपुर से लौट रहा ........प्रभारी ने कॉल काट दिया।

हमारे सामने मारपीट नहीं हुई

एएन खटकर, प्रभारी जीआरपी बिलासपुर

आपके सामने गार्ड से यात्रियों ने मारपीट की, उनके खिलाफ क्या कार्रवाई करेंगे?

हमने गार्ड को बिलासपुर में उतारा तब उनके साथ किसी भी यात्री ने मारपीट नहीं की, उनके साथ रास्ते में मारपीट की गई थी।

मामले में आपके द्वारा अब क्या कार्रवाई की जा रही है, संबंधित के खिलाफ?

हमने प्रकरण तैयार कर रायगढ़ जीआरपी को भेज दिया है, मामले में वहीं जांच करेंगे।

जब आप ने गार्ड को उतारा तो उसके शरीर पर कहीं कोई चोट का निशान था या नहीं?

सबसे पहले हमने गार्ड का मुलाहिजा कराया, रिपोर्ट में कहीं किसी तरह के चोट कोई निशान नहीं मिले।

आप झूठ बोल रहे, उनके सिर पर पट्टी बंधी है, हाथ पैर में भी चोट के निशान है?

हमने पूरी रिपोर्ट रायगढ़ जीआरपी को भेज दी अब आगे की कार्रवाई वही करेगी।

X
Raigarh News - chhattisgarh news bilaspur grp guarded by the guards after the rpf grp was beaten in front of platform on platform
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना