• Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Raigad
  • Raigarh News chhattisgarh news blood was to be examined the investigation of blood group was wrong the woman died late in the system again

खून चढ़ाना था, ब्लड ग्रुप की जांच ही गलत की, दोबारा व्यवस्था में देर से महिला की मौत

Raigarh News - डीन कह रहे हैं, जांच करेंगे, जो भी डॉक्टर या तकनीशियन दोषी होगा कार्रवाई करेंगे। भास्कर न्यूज | रायगढ़ मेडिकल...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:20 AM IST
Raigarh News - chhattisgarh news blood was to be examined the investigation of blood group was wrong the woman died late in the system again
डीन कह रहे हैं, जांच करेंगे, जो भी डॉक्टर या तकनीशियन दोषी होगा कार्रवाई करेंगे।

भास्कर न्यूज | रायगढ़

मेडिकल कॉलेज अस्पताल में ब्लड ग्रुप की जांच में गलती से एक प्रसूता की शनिवार को मौत हो गई। गायनिक विभाग में महिला का ऑपरेशन होना था। उसके शरीर में खून की कमी थी, इमरजेंसी में प्लेटलेट्स की जरूरत पड़े इसलिए महिला का ब्लड ग्रुप बी पॉजिटिव बताकर परिजन को फोर्टिस जिंदल अस्पताल से प्लेटलेट्स लाने को कहा। परिवार के लोग वहां पहुंचे तो ब्लड ओ पॉजिटिव बताया गया । ब्लड के इंतजाम में देर से महिला की मौत हो गई। अब मेकाहारा के डॉक्टर महिला की मौत का कारण ब्लड प्रेशर बता रहे हैं। नवजात की तबीयत भी खराब है, उसे एसएनसीयू में रखा गया है।

शनिवार की सुबह सारंगढ़ के कोसीर के निरंजन पटेल ने प|ी प्रेमलता को मेकाहारा के गायनिक डिपार्टमेंट में भर्ती कराया था। डिलीवरी के बाद महिला की तबीयत बिगड़ने लगी। परिजन का कहना है कि प्रेमलता के शरीर में खून की कमी थी। डॉक्टरों ने इमरजेंसी में खून की जरूरत पड़ने का अंदाजा लगाकर महिला का ब्लड टेस्ट कराया। लैब में ब्लड बी पॉजिटिव बताया गया। डॉक्टरों ने कहा, प्लेटलेट्स फोर्टिस-ओपी जिंदल अस्पताल से मिलेगा। परिजन वहां पहुंचे तो ब्लड की जांच के बाद ग्रुप ओ पॉजिटिव बताया गया। अब दोबारा बी पॉजिटिव ब्लड लाने में देरी हुई और प्रेमलता की मौत हो गई। एक तरफ जहां नवजात की हालत गंभीर है, प्रेमलता की मां भी बेटी की मौत की खबर सुनते ही बेहोश हो गईं।

डीन कह रहे हैं, जांच करेंगे, जो भी डॉक्टर या तकनीशियन दोषी होगा कार्रवाई करेंगे।

भास्कर न्यूज | रायगढ़

मेडिकल कॉलेज अस्पताल में ब्लड ग्रुप की जांच में गलती से एक प्रसूता की शनिवार को मौत हो गई। गायनिक विभाग में महिला का ऑपरेशन होना था। उसके शरीर में खून की कमी थी, इमरजेंसी में प्लेटलेट्स की जरूरत पड़े इसलिए महिला का ब्लड ग्रुप बी पॉजिटिव बताकर परिजन को फोर्टिस जिंदल अस्पताल से प्लेटलेट्स लाने को कहा। परिवार के लोग वहां पहुंचे तो ब्लड ओ पॉजिटिव बताया गया । ब्लड के इंतजाम में देर से महिला की मौत हो गई। अब मेकाहारा के डॉक्टर महिला की मौत का कारण ब्लड प्रेशर बता रहे हैं। नवजात की तबीयत भी खराब है, उसे एसएनसीयू में रखा गया है।

शनिवार की सुबह सारंगढ़ के कोसीर के निरंजन पटेल ने प|ी प्रेमलता को मेकाहारा के गायनिक डिपार्टमेंट में भर्ती कराया था। डिलीवरी के बाद महिला की तबीयत बिगड़ने लगी। परिजन का कहना है कि प्रेमलता के शरीर में खून की कमी थी। डॉक्टरों ने इमरजेंसी में खून की जरूरत पड़ने का अंदाजा लगाकर महिला का ब्लड टेस्ट कराया। लैब में ब्लड बी पॉजिटिव बताया गया। डॉक्टरों ने कहा, प्लेटलेट्स फोर्टिस-ओपी जिंदल अस्पताल से मिलेगा। परिजन वहां पहुंचे तो ब्लड की जांच के बाद ग्रुप ओ पॉजिटिव बताया गया। अब दोबारा बी पॉजिटिव ब्लड लाने में देरी हुई और प्रेमलता की मौत हो गई। एक तरफ जहां नवजात की हालत गंभीर है, प्रेमलता की मां भी बेटी की मौत की खबर सुनते ही बेहोश हो गईं।

खून की थैली देकर डॉक्टरों ने कहा- बी पॉजिटिव है, प्लेटलेट्स ले आओ, फोर्टिस अस्पताल गए तो रक्त का ग्रुप ओ पॉजिटिव निकला

अस्पताल में ऐसी अनदेखी कई बार

पैथोलॉजी विभाग का जिम्मा मेडिकल कॉलेज के प्रोफेसर के पास है। उनकी देखरेख में तकनीशियन ऐसी लापरवाही कर रहे हैं। बी पॉजिटिव रक्त को ओ पॉजिटिव बता दिया। गलत जांच के कारण अगर मरीज को दूसरे ग्रुप का रक्त चढ़ा दिया जाए तो जानलेवा हो सकता है। वर्ष 2015 में मेकाहारा होने से पहले जिला चिकित्सालय में सिकलिंग पीड़ित चार बच्चों को एचआईवी संक्रमित रक्त चढ़ा दिया गया था । ब्लड बैंक और पैथोलॉजी की व्यवस्था अस्पताल के मेडिकल कॉलेज द्वारा टेकओवर करने के बाद भी नहीं सुधरी। आए दिन गड़बड़ी की शिकायतें मिलती हैं।

खून की गलत जांच से मौत

पति निरंजन पटेल ने भास्कर से बात करते हुए बताया कि डॉक्टरों ने प्लेटलेट्स की कमी बताकर इसके इंतजाम का कहा था। जांच में ब्लड का ग्रुप गलत बताया गया। अगर ब्लड की जांच सही होती तो समय पर ब्लड की व्यवस्था हो जा जाती। मेरी प|ी की मौत नहीं होती।

सेफ्टी के लिए मांगा था ब्लड

गायनिक विभाग के एचओडी डा. सुधीर बाबू ने भास्कर को बताया कि महिला को ब्लड प्रेशर था। हमने अरजेंसी के लिए ब्लड मांगा था। ब्लड ग्रुप जांच में गड़बड़ी हुई लेकिन डिलीवरी के बाद महिला का बीपी हाई हुआ, जिससे उसकी मौत हो गई।

हम्म, जानकारी है, जांच करेंगे, जिम्मेदार पर कार्रवाई करेंगे


X
Raigarh News - chhattisgarh news blood was to be examined the investigation of blood group was wrong the woman died late in the system again
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना