पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वृद्धाश्रम में बुजुर्ग व बालसदन में बच्चे आइसोलेशन पर रहेंगे

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

सामाजिक संगठनों पर भी रहेगी पाबंदी

शहर के सभी समाजसेवी संगठन को नई उम्मीद संस्था (मूक-मंद बाधिर), नीलांचल सहित अन्य ऐसे जगहों पर इस समय जाने की पाबंदी है। सामाजिक संगठनों द्वारा अब तक कोरोना को लेकर बच्चों के लिए कोई विशेष पहल नहीं की गई है। आम लोगों के लिए आने जाने की मनाही को बोर्ड लगा है।

कर्मचारी डेढ़ महीने तक आश्रम में ही रहेंगे

संक्रमण के खतरे को टालने के लिए कर्मचारियाें ने स्वेच्छा से अाश्रम के भीतर डेढ़ महीने तक रहने का फैसला किया है। उनका मानना है कि घर आने-जाने से संक्रमण फैलने का खतरा रहेगा। आश्रम में कर्मचारियों को मास्क भी बांटे गए हैं। बच्चों को सफाई के प्रति जागरूक किया जा रहा है।

}बाहरी लोगों का प्रवेश वर्जित

यहां सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए हैं। आश्रम के मेन गेट को बंद कर दिया है। इस पर नोटिस चस्पा कर दिया है। इसमें बाहरी लोगों के आश्रम प्रवेश पर पाबंदी का हवाला दिया है। बच्चों के खाने-पीने की व्यवस्था भीतर ही की गई है। इसके लिए जरूरी सामग्रियों का भंडारण और स्टॉफ का बंदोबस्त भी किया गया है।

} बच्चों को कर रहे जागरूक

आश्रम के अंदर रह रहे बच्चों को जागरूक भी किया जा रहा है। वह भले ही आश्रम के अंदर हो, वहां कोई बाहरी न आता जाता हो। फिर भी बहुत से बच्चे नाक ढक रहे हैं। इसके साथ ही उन्हें टेलीविजन में समाचार भी दिखाया जा रहा है। साथ ही हर दो-दो घंटे पर हाथों की सफाई सेनिटाइजर से कराई जा रही है।
खबरें और भी हैं...