• Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Raigad
  • Raigarh News chhattisgarh news even after giving contracts 55 students out of 91 of the model school fail parents will get tc

ठेके पर देने के बाद भी मॉडल स्कूल के 91 में से 55 स्टूडेंट्स फेल, पालक निकालेंगे टीसी

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:22 AM IST

Raigarh News - सरकारी स्कूल को मॉडल बनाकर डीएवी को ठेके पर देने के बाद भी दशा सुधरी नहीं। धरमजयगढ़ व लैलूंगा मॉडल स्कूल में इस बार...

Raigarh News - chhattisgarh news even after giving contracts 55 students out of 91 of the model school fail parents will get tc
सरकारी स्कूल को मॉडल बनाकर डीएवी को ठेके पर देने के बाद भी दशा सुधरी नहीं। धरमजयगढ़ व लैलूंगा मॉडल स्कूल में इस बार बारहवीं में रिजल्ट ने मॉडल स्कूल कांसेप्ट की हवा निकाल दी। बोर्ड एग्जाम में स्कूल के कुल 7 बच्चे पास हो सके हैं।

37 बच्चे फेल हो गए। दसवीं में 18 फेल हो गए। सिर्फ 29 बच्चे पास हो पाए। रिजल्ट जारी होने के बाद पालक वर्गों में नाराजगी है। वे अब बच्चों की टीसी निकालने की तैयारी में हैं। शासन ने 2016 से मॉडल स्कूल डीएवी ग्रुप को हैंडओवर कर दिया। पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत प्रदेश के सभी मॉडल स्कूलों को ठेके पर देने के बाद डीएवी प्रबंधन ने रायगढ़ जिले के लैलूंगा एवं धरमजयगढ़ विकासखंड में संचालित मॉडल स्कूलों में काम शुरू किया था लेकिन जुलाई महीने तक को इन स्कूलों में नियुक्ति भी नहीं शुरू हुई थी और दोनों स्कूलों में 2-2 सरकारी शिक्षकों के भरोसे ही पढ़ाई हो रही थी और जब अगस्त महीने में शिक्षकों की नियुक्ति शुरू हुई तो इसमें भी लंबा समय गुजर गया। जिससे स्कूलों में समय पर पढ़ाई शुरू नहीं हो सकी थी। अब नतीजे सामने आ गए हैं। धरमजयगढ़ में 12 वीं में 44 में से 7 स्टूडेंट्स ही पास हो सके हैं। 10 वीं में भी स्थिति खराब है। यहां पर 47 में से 29 ही पास हो सके हैं। कक्षा में18 बच्चे फेल हो गए हैं। लैलूंगा के मॉडल स्कूल में भी यही कहानी है।

रिकार्ड के अनुसार यहां 12 वीं में 52 में से कुल जमा 22 विद्यार्थी पास हो सके हैं और 21 ने बारहवीं की सीमा पार नहीं की है। 10 वीं में रिजल्ट थोड़ा ठीक रहा है और यहां पर 57 में से 39 विद्यार्थी पास हो गए हैं। फेल होने वालों की संख्या यहां पर 18 है।

केंद्र सरकार का फंड बंद करने के बाद पीपीपी से पढ़ाई

केन्द्र सरकार ने फंड बंद किया तो राज्य सरकार ने अतिथि शिक्षकों की व्यवस्था कर मॉडल स्कूल को चलाया था। इसके बाद दो साल पहले डीएवी ग्रुप को पूरे छग की माडल स्कूल का ठेके पर दे दिया गया था। तब से रायगढ़ जिले की भी दोनों माडल स्कूल पीपीपी पर चल रही है और इसमें शिक्षण व्यवस्था से लेकर अन्य संसाधन भी डीएवी ग्रुप द्वारा संभाली जा रही है।

दोनो आदिवासी ब्लॉक में 33 प्रतिशत आरक्षित है सीट

ठेके पर डीएवी ग्रुप द्वारा स्कूलों की जिम्मेदारी लेने के बाद सरकार ने निशुल्क सीट के लिए कुल 33 प्रतिशत आरक्षण इसमें रखा था। आरटीई के तहत 25 प्रतिशत कोटे अलावा डीएवी ग्रुप को कमजोर आर्थिक स्थिति वाले परिवार को 8 प्रतिशत सीट में एडमिशन देना था। जिले में भी दोनों माडल स्कूल में यही फार्मूला अपनाया गया था।

X
Raigarh News - chhattisgarh news even after giving contracts 55 students out of 91 of the model school fail parents will get tc
COMMENT