अड़भार नपं के अध्यक्ष से चार बाइक सवारों ने छीने 13 लाख रुपए, पुलिस जांच में जुटी

Raigarh News - मंगलवार की दोपहर खरसिया स्टेट बैंक के नजदीक चार बदमाशों ने नगर पंचायत अड़भार के अध्यक्ष और उसके साथी के हाथ से 13 लाख...

Dec 04, 2019, 08:32 AM IST
मंगलवार की दोपहर खरसिया स्टेट बैंक के नजदीक चार बदमाशों ने नगर पंचायत अड़भार के अध्यक्ष और उसके साथी के हाथ से 13 लाख रुपए छीने और फरार हो गए। छिनतई की घटना तब हुई जब दोनों बैंक से रुपए निकालकर सड़क की दूसरी तरफ खड़ी स्कार्पियो में बैठने जा रहे थे। पुलिस ने देर रात तक मामला दर्ज नहीं किया था। पुलिस को छिनतई की कहानी पर शक है। कई एंगलों में जांच चल रही है।

सूचना मिलने के बाद पहुंची पुलिस बैंक में लगे सीसीटीवी के व चोरों के हुलिए के आधार पर खोजबीन कर रही है। अड़भार नगर पंचायत अध्यक्ष कार्तिक राम ने बताया कि ठेकेदार कन्हैया राठौर द्वारा दिए गए चेक से 13 लाख रुपए निकालने के लिए वह अदतराम के साथ खरसिया स्टेट बैंक आया था। बैक से रुपए लेने के बाद दोनों ने अलग-अलग बैग में 13 लाख रुपए रखे। एक बैग कार्तिकराम और दूसरा अदतराम लेकर करीब साढ़े 12 बजे बैंक से बाहर निकले। इसी बीच दो बाइक पर सवार चार युवकों ने झपट्टा मार कर दोनों के हाथ से रुपए से भरा बैग छीन लिया और फरार हो गए। वारदात की जानकारी पर खरसिया चौकी प्रभारी मौके पर जा पहुंचे। पुलिस ने नगर पंचायत अध्यक्ष व साथी ठेकेदार से पूछताछ शुरू की है।

शहर के कई सीसीटीवी कैमरे की फुटेज खंगाली

एसडीओपी खरसिया ने छिनतई के बाद आरोपियों तक पहुंचने और घटना की तहकीकात करते हुए शहर के सभी मार्ग स्थित प्रतिष्ठानों, मकानों व सार्वजनिक कैमरों के फुटेज मंगवाए। एसडीओपी ने पीतांबर पटेल ने बताया कि फुटेज से छानबीन की जा रही है। फुटेज में बताए गए हुलिए के आधार पर लुटेरों का सुराग नहीं लग सका है।

छिनतई या फिर लूट की साजिश

छिनतई शिकार हुए कार्तिक राम बैंक आने पर गाड़ी विपरीत दिशा में क्यों खड़ी कि जबकि इतनी बड़ी रकम उन्हें साथ लेकर जाना था। इसके बाद गाड़ी भी ऐसी जगह पर थी जहां पर बैंक के बाहर लगा सीसीटीवी उसके दायरे में नहीं आया। यही कारण है कि बैंक से निकलते वक्त सिर्फ बैंक के मेनगेट तक कार्तिकराम व अदतराम दिखे हैं। इसके बाद दोनों विपरीत दिशा में होने के कारण नहीं दिखे। दोनों ने पुलिस को बताया कि निकाली गई रकम से मजदूरों, जेसीबी व अन्य का भुगतान किया जाना था। जबकि पुलिस इसे चुनाव से भी जोड़ कर देख रही है। पुलिस के अफसरों ने लूट की साजिश की आशंका भी जताई है। सवाल यह भी है कि कोई ठेकेदार नगर पंचायत अध्यक्ष को चेक क्यों देगा। भुगतान के नाम पर अध्यक्ष ने इतनी बड़ी नकद राशि निकाली क्यों जबकि सरकार कैशलेस ट्रांजेक्शन पर जोर दे रही है।

बयान बदलते देख पुलिस हुई सख्त

लूट का शिकार कार्तिक राम और अदतराम ने बयानों को लेकर पुलिस घटना को संदिग्ध मान रही है। पहले दोनों ने बताया कि जैसे ही वह बैंक से बाहर निकले लुटेरे रुपयों से भरा बैग छीन ले गए। पुलिस की मानें तो दोनों ने यह बताया कि वह बैंक से 40 मीटर दूर चले इसके बाद लूट हुई। वहीं पहले बताया था कि बैग कार्तिक राम के हाथ में था बाद में बताने लगे की रुपए दो बैग में थे और दोनों के पास एक-एक बैग था। पुलिस ने बयानों में बदलाव देख सख्ती बरती और दोनों बैंक लेकर गई और सीन क्रिएट कराया। हालांकि दोनों बैंक से रुपए निकाल कर बाहर तक आते दिखे हैंै।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना