हिमांशु ने टाइम प्रेशर के बावजूद आखिरी 2 मिनट में रिषित को दी चेस में मात

Raigarh News - संडे शतरंज स्पर्धा में फाइनल में अंडर 7 के खिलाड़ी रिषित का मुकाबला वर्ल्ड चेस फेडरेशन से रेटिंग प्राप्त खिलाड़ी...

Nov 11, 2019, 07:30 AM IST
संडे शतरंज स्पर्धा में फाइनल में अंडर 7 के खिलाड़ी रिषित का मुकाबला वर्ल्ड चेस फेडरेशन से रेटिंग प्राप्त खिलाड़ी हिमांशु से हुआ। इसमें हिमांशु ने बाजी मार ली।

अंतरराष्ट्रीय रेटिंग प्राप्त रिटायर्ड 75 वर्षीय खिलाड़ी को रोचक और कड़े मुकाबले में अंडर 14 की बालिका ने पटखनी दी। सुभाष चौक स्टेशन रोड स्थित अग्रसेन भवन में रविवार को संडे शतरंज स्पर्धा कराई गई। इसमें हिस्सा लेने के लिए जिलेभर के 22 खिलाड़ियों को उनके टैलेंट के हिसाब से दो ग्रुप में बांटा गया।

अग्रसेन भवन में सुबह 9.30 बजे से स्पर्धा शुरू हुई। राउंड रोबिन के आधार पर दो ग्रुप ए और बी में 11-11 खिलाड़ियों को उनकी प्रतिभा के आधार पर जगह दी। ग्रुप ए में प्रतिभावन खिलाड़ियों को मौका मिलता है, जबकि ग्रुप बी में नए खिलाड़ियों को ट्रेनिंग दी जाती है। अंतरराष्ट्रीय रेटिंग प्राप्त हिंमाशु धैर्य ने तीनों मुकाबले जीतकर फाइनल में जगह बनाई। अंडर 7 का खिलाड़ी रिषित भी अपने राउंड रोबिन में खेले तीनों मैचों में तीन प्वाइंट के साथ फाइनल में पहुंचा। दोनों खिलाड़ियों के बीच फाइनल मुकाबला किंग्स पान गेम से शुरू हुआ। जिसमें राजा को सामने घेराबंदी की जाती है। बराबरी पर चल रहे मैच के अंतिम क्षण में दोनों खिलाड़ियों को 10 मिनट का समय मिला। रिषित ने विरोधी खिलाड़ी के राजा की तरफ अपने मोहरों से दबाब बनाए हुए था। हिमांशु के पास टाइम प्रेशर ज्यादा होने से आखिरी के दो मिनट बचे हुए थे। जिसमें हिमांशु ने धैर्य के साथ खेलते हुए अपने वजीर और घोड़े से मैच जितने वाली चाल चलते हुए चेक मेट कर दिया।

कोच कार्तिकेश्वर ने बताया कि शतरंज स्पर्धा में खिलाड़ियों को एक घंटे का समय मिलता है। हर खिलाड़ी को राउंड रोबिन के आधार पर तीन मैच खेलने का मौका मिलता है। जिसमें एक जीत पर एक प्वांइट और हार पर शून्य मुकाबला ड्रा होने पर आधे प्वाइंट दिया जाता है। फाइनल और सेमीफाइनल के बड़े मैचों में मुकाबला ड्रा होता देख खिलाड़ियों को चेस वॉच से निर्धारित समय मिलता है।

75 वर्षीय खिलाड़ी का मुकाबला अंडर 14 बालिका से

रविवार को एक बेहद की यादगार मैच देखने को मिला। जिसमें झारखंड के मूल निवासी अंतरराष्ट्रीय रेटिंग प्राप्त खिलाड़ी रह चुके बीके सिन्हा का मुकाबला अंडर 14 की बालिका अभिश्री शर्मा के बीच खेला गया। इटैलियन ओपनिंग से शुरू हुआ मैच दोनों खिलाड़ियों के बीच रोमांच होता जा रहा था। आखिरी समय में अभिश्री ने सेंटर ओपन फाइल का फायदा उठाते हुए अपने हाथी से अनुभवी खिलाड़ी के राजा तक जाकर मोहरों की बढ़त बनाते हुए मैच जीत लिया। शतरंज का मैच हार जाने के कारण 75 वर्षीय रिटार्यड खिलाड़ी को चौथे स्थान से संतोष करना हुआ। प्रतियोगिता में हिमांशु ने रिषित को हराकर फाइनल जीता।

विजेताओं के नाम

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना