लंबे समय से भूखा रहने से जंगली भालू की इलाज के दौरान मौत

Raigarh News - बीमार भालू की मंगलवार सुबह मौत हो गई। दो दिनों पहले ही भालू को इलाज के लिए खरसिया रेंज के झमजोर सर्किल से इंदिरा...

Dec 04, 2019, 08:31 AM IST
बीमार भालू की मंगलवार सुबह मौत हो गई। दो दिनों पहले ही भालू को इलाज के लिए खरसिया रेंज के झमजोर सर्किल से इंदिरा विहार लाया गया था। यहां पशु विभाग के डॉक्टर दिनेश पटेल और मंकी स्टरलाइजेशन के डॉक्टर जयनेंद्र खुंटे द्वारा उपचार किया जा रहा है। दोनों डॉक्टरों ने भालू की प्रारंभिक जांच के बाद पेट में इंफेक्शन की आंशका जताई थी। उपकरण के अभाव में भालू के पेट की जांच नहीं कर सके, लेकिन उन्होंने इसके लिए एसीलॉक, मल्टी विटामीन, एंटी बायोटीक और दर्द का इंजेक्शन लगाया था।

इसके भालू ने आधा लीटर दूध पिया, एक पूरा नारियल और दीमक खाया इसके बाद 4 घंटे तक सोया। भालू की चंचलता देखने के बाद सभी ने उसके ठीक होने का अनुमान लगा रहे थे, लेकिन मंगलवार की सुबह अचानक तबीयत बिगड़ी और भालू की मौत हो गई। पोस्टमार्टम के बाद डॉक्टरों को भालू के पेट में पेप्टिक अल्सर पाया। साथ ही फेफड़े और लीवर में कई जगह गांठ मिली। फिलहाल वन मंडल ने भालू के शव का अंतिम संस्कार इंदिरा विहार में किया। इधर वन जीव संरक्षण से जुड़े संगठन इस मामले में विभाग पर लापरवाही का आरोप लगा रहे हैं।

उन्होंने इस संबंध में वन मंत्री से लिखित शिकायत की है। भालू के उपचार के लिए एक्सपर्ट डॉक्टर और उपकरण नहीं होने के कारण उसे दो दिन पहले ही कानन पेंडारी भेजने की मांग की थी, लेकिन वन मंडल अधिकारी ने भालू को इंदिरा विहार में रखकर उपचार कराना जरूरी समझा।

भालू का अंतिम संस्कार करते हुए वन कर्मी।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना