स्टेडियम के सामने एक किलोमीटर तक अतिक्रमण 43 दुकानें तोड़ी गईं, पीछे कॉम्प्लेक्स में शिफ्ट होंगी

Raigarh News - नगर निगम ने बुधवार को बोईरदादर में रोड किनारे बेजा कब्जा कर बनाई गईं 43 दुकानें ढहा दीं। दोपहर 3 बजे शुरू हुआ अभियान...

Feb 20, 2020, 07:41 AM IST

नगर निगम ने बुधवार को बोईरदादर में रोड किनारे बेजा कब्जा कर बनाई गईं 43 दुकानें ढहा दीं। दोपहर 3 बजे शुरू हुआ अभियान देर शाम तक चलता रहा। जिन लोगों का बेजा कब्जा हटाया गया है, उन्हें आईटीआई के पास बनी दुकानों में शिफ्ट किया जाएगा। उन्हें आईटीआई के पास बनी दुकानों में शिफ्ट किया जाएगा। यहां हर महीने 600 रुपए किराया देना होगा।

बुधवार को नगर निगम का तोड़ू दस्ता बोईरदादर पहुंचा। अतिक्रमण हटाओ अभियान में पुलिस बल के साथ पहुंचे दस्ते ने नाले पर और सड़क तक के हिस्से तक बेजा कब्जा कर बनाई गई दुकानें हटा दीं। जेसीबी से थोड़ी देर में ही बाजार मैदान बन गया। बेजा कब्जाधारियों ने रोजी रोटी की दुहाई दी तो निगम आयुक्त ने भरोसा दिलाया कि उन्हें आईटीआई में बिना आवंटन (प्रीमियम) राशि लिए दुकान दी जाएगी। उसका किराया हर महीने देना होगा। दुकानदारों ने कहा कि आईटीआई के पास सुनसान स्थान है चोरी की आशंका होगी। इस पर निगम अफसरों ने लाइटिंग और कैमरा आदि लगवाकर सुरक्षा मुहैया कराने का आश्वासन दिया।

इंडस्ट्रियल एरिया के सामने खाली जगह पर अवैध बाजार, जहां हुई कार्रवाई

अतिक्रमणकारियों ने बचने के लिए दी दलील



तोड़फोड़ से बचने के लिए अतिक्रमणकारी अजीब दलीलें देने लगे। बोले, यहां तो सड़क चौड़ी है फिर कार्रवाई की जरूरत क्यों है। शहर में बेजा कब्जा पर जहां भी कार्र‌वाई होती है लोग बचने के लिए शहर के भीतर कार्रवाई की मांग करते हैं। निगम कर्मचारियों की लापरवाही के कारण प्रमुख इलाकों में सड़क किनारे खाली सरकारी जमीन पर अतिक्रमण किया गया है। शहर के पुराने हिस्सों में सड़कें संकरी हैं लेकिन अतिक्रमण नहीं है, वहां तोड़फोड़ के लिए निगम को भारी भरकम मुआवजा देना पड़ेगा।

छोटे दुकानदारों पर पड़ा असर

बोईरदादर में जहां पर अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया गया। वहां पर अधिकांश दुकानें छोटे दुकानदारों की है जो सड़क किनारे दुकानें लगा कर गुजर बसर कर रहे थे। बुधवार को अतिक्रमण हटाने के दौरान काफी दुकानदार नगर निगम अफसरों के सामने मिन्नतें करते नजर आए। लेकिन अफसरों ने अतिक्रमण को लेकर उनकी एक न सुनी और उन्हें दूसरे स्थान पर शिफ्ट किए जाने का भरोसा दिलाते रहे।

प्रशासनिक अमला देख स्वयं हटाने लगे दुकानें

बुधवार दोपहर बाद से अतिक्रमण हटाओ अभियान की शुरुआत होते ही बोईरदादर में सड़क किनारे दुकानें लगाए दुकानदार अपनी दुकानों से सामान और आवश्यक सामग्री हटाने लगे। इस बीच कई दुकानदारों ने टीन शेड में बनी दुकानें सीमेंट और ईंट से जाम होने के कारण जल्दी नहीं हटाई जा सकीं। वहीं कुछ दुकानदारों ने जल्दबाजी में आधा अधूरा ही सामान समेट पाए। जो लोग स्वयं से दुकानें हटाते नजर आए निगम कर्मियों ने उन्हें अतिक्रमण हटाने का मौका भी दिया।

बुधवार की बंदी लेकिन कार्रवाई का सुन दौड़े आए

शहर में बुधवार को बंदी होने के कारण बोईरदादर की ओर अधिकांश दुकानें बंद थी। वहीं कुछ ने अभियान की भनक लगने के कारण दुकानें नहीं खोलीं। अतिक्रमण हटाने पहुंची टीम को कुछ दुकानें टिन शेड और शटर दार दुकानें बंद मिली जिस पर उन्होंनें जेसीबी से ढकेल कर सड़क से हटा दिया। बंदी होने के कारण सड़कों पर दुकानें सजी नहीं मिली। जिस पर आसानी से अतिक्रमण हटता चला गया।

शिफ्टिंग के लिए करानी होगी कॉम्पलेक्स की मरम्मत

सड़क किनारे से अतिक्रमण हटाकर जिस आईटीआई कॉम्पलेक्स में दुकानों शिफ्ट की जाएंगी वे सारी दुकानें जर्जर हैं। सालों पहले बनी दुकानों में अधिकांश के शटर सड़ चुके हैं तो कहीं प्लास्टर झड़ गए हैं। दुकानदारों को यहां शिफ्ट करने से पहले निगम को परिसर की सफाई और दुकानों की मरम्मत करानी होगी।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना