पेंशन फंड में अब 58 की जगह 60 साल तक कर्मचारी कर सकेंगे अंशदान

Raigad News - एम्पलाइज पेंशन स्कीम (ईपीएफ) 1995 के दायरे में आने वाले निजी कंपनियों, कारखानों, सरकार के उपक्रमों में कार्यरत हजारों...

Bhaskar News Network

May 17, 2019, 07:30 AM IST
Raigarh News - chhattisgarh news pension fund will now be able to get 60 years instead of 58 percent contribution
एम्पलाइज पेंशन स्कीम (ईपीएफ) 1995 के दायरे में आने वाले निजी कंपनियों, कारखानों, सरकार के उपक्रमों में कार्यरत हजारों कर्मचारियों के लिए यह बड़ी खबर हो सकती है। अब ये कर्मचारी 58 की जगह 60 साल की उम्र तक भविष्य निधि यानि पीएफ फंड में अंशदान दे सकेंगे।

इसके लिए जरूरी यह है कि 58 वर्ष की आयु पूरी होने के एक महीने पहले इन्हें एक सादे कागज पर आवेदन देकर उसे अपने नियोक्ता से अप्रूव कराना होगा। फिर इस आवेदन को कर्मचारी भविष्य निधि संगठन- ईपीएफओ के दफ्तर में देना होगा।

केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्रालय ने 25 अप्रैल 2016 को इस बारे में गजट नोटिफिकेशन जारी किया था। पीएफ विशेषज्ञ कहते हैं कि ईपीएफओ के ज्यादातर दफ्तरों ने इस पर अमल नहीं किया था। इस वजह से लाखों कर्मचारियों को इसकी जानकारी उपलब्ध नहीं हो सकी। इसी वजह से अभी तक किसी भी कर्मचारी को इसका फायदा नहीं मिल सका। नोटिफिकेशन में यह प्रावधान विकल्प के तौर पर किया गया था। गजट नोटिफिकेशन के बारे में संचार माध्यमों के जरिए जानकारी भी दी गई। कर्मचारी 58 साल की उम्र पूरी होने से पहले आवेदन को नियोक्ता से अप्रूव कराकर दफ्तर में जमा कर सकते हैं।

ऐसे समझें - निजी कंपनियों, कारखानों, सरकार के उपक्रमों में कार्यरत सभी कर्मचारी शामिल

1. मान लीजिए सरकारी सार्वजनिक उपक्रम के किसी कर्मचारी का मूल वेतन 75,400 रुपए है। इस हिसाब से इन्हें महंगाई भत्ता 6786 रुपए मिलेगा। इस पूरी राशि का 12 प्रतिशत 9862 रु. कर्मचारी के वेतन से काटकर पीएफ फंड में जमा होंगे। इतनी ही यानी 9862 रु. बतौर अंशदान नियोक्ता भी मिलाएंगे। तय मापदंड के अनुसार नियोक्ता के अंशदान 9862 रु. में से 1250 रुपए कर्मचारी के पेंशन फंड में जमा होंगे। 1250 रु. घटाकर बची राशि 8612 रु. कर्मचारी के पीएफ खाते में जमा होंगे। इससे कर्मचारी के पीएफ फंड में हर माह 8612 रुपए नगद जमा होंगे। इस तरह दो साल में राशि 2 लाख 6 हजार 688 रु. का फायदा होगा। रिटायर होने पर कर्मचारी को अतिरिक्त दो साल की यह राशि मिलेगी।

2. किसी निजी कंपनी या कारखाने के किसी कर्मचारी का मूल वेतन और डीए यदि 20,000 रुपए है। इनके 2400 रु. पीएफ फंड में जमा होंगे। इतनी ही राशि नियोक्ता द्वारा मिलाई जाएगी। नियोक्ता के अंशदान 1250 रु. में से 1150 रु. कर्मचारी के पीएफ अकाउंट में जमा होंगे। दो साल में इन्हें 27,600 का फायदा होगा।

12 फीसदी राशि बतौर अंशदान काटी जाती है

स्कीम के दायरे में आने वाले कर्मचारी का मूल वेतन और डीए की 12 फीसदी राशि बतौर पीएफ अंशदान काटी जाती है। इतनी ही राशि पीएफ में नियोक्ता द्वारा बतौर अंशदान जमा कराई जाती है। इसे ही पीएफ फंड कहते हैं।

3. किसी कर्मचारी का मूल वेतन व डीए 7000 रु. है। इनके 840 रु. बतौर अंशदान जमा होगा। 840 रु. नियोक्ता के अंशदान में से घटाकर 257 हर माह कर्मचारी के पीएफ फंड में जाएंगे। दो साल में इन्हें 6168 रुपए का लाभ होगा।

X
Raigarh News - chhattisgarh news pension fund will now be able to get 60 years instead of 58 percent contribution
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना