पुलिस ने कुएं के अंदर बोरियों में रखी 1400 बोतलें जब्त की

Raigad News - सरिया पुलिस ने गुरुवार की देर रात कार्रवाई करते हुए वार्ड क्रमांक 11 में कुआं में छिपाकर रखी 1400 सीसी कफ सिरप को जब्त...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 07:31 AM IST
Raigarh News - chhattisgarh news police seized 1400 bottles kept in sacks inside the well
सरिया पुलिस ने गुरुवार की देर रात कार्रवाई करते हुए वार्ड क्रमांक 11 में कुआं में छिपाकर रखी 1400 सीसी कफ सिरप को जब्त कर ली। इसे बेचने के लिए कपड़ों का व्यवसायी श्रीकिशन अग्रवाल झारखंड से लेकर आया था। सूचना पर पुलिस ने आरोपी के घर में भी कार्रवाई की है।

जानकारी के अनुसार सरिया पुलिस को गुरुवार को वार्ड क्रमांक 11 के सुंदर लाल अग्रवाल के खाली प्लांट के अंदर कुंए में कोडीन फास्फेट की प्रतिबंधात्मक दवाएं होने की सूचना मिली थी। सूचना पर आशीष वासनिक ने टीम के साथ छापा मारा और कुएं में छिपाकर रखी 1400 बोतलें कोडीन फास्फेट को जब्ती बनाई। बाजार में इसकी कीमत लगभग 1 लाख 61 हजार रुपए बताई जा रही है। पूछताछ में लोगों ने बताया कि 9 सितंबर को श्रीकिशन अग्रवाल 52 साल निवासी सरिया ने सिरप की बोरियां कुएं में फेंक दी थी। पुलिस ने पूछताछ के लिए श्रीकिशन को हिरासत में लिया है। आरोपी ने बताया कि उसने रांची झारखंड से माल किसी प्रदीप नाम के व्यक्ति से खरीदकर लाया था। माल को सरिया, बरमकेला, सारंगढ़ के आसपास के ग्रामीण इलाकों में खपाने की कोशिश की जा रही थी। इसी बीच पुलिस ने आरोपी के विरुद्ध एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज कर माल जब्त किया गया है। एच-वन शेड्यूल की दवाएं खरीदने- बेचने का पूरा रिकार्ड मेंटेन रखना पड़ता है। ड्रग्स एंड कास्मेटिक एक्ट 18 बी के तहत ड्रग इंस्पेक्टर इन रिकार्ड की जांच करते है। मगर इन क्षेत्रों में कभी मेडिकल पर कार्रवाई नहीं होती।

जब्त कफ सिरप के साथ थाने में बैठा आरोपी।

2 साल पहले जा चुका है जेल

ओडिशा में कोडीन फास्फेट की सिरप बेचने के लिए बरगढ़ क्राइम ब्रांच की टीम ने आरोपी श्रीकिसन अग्रवाल को दो साल पहले पकड़ा था। आरोपी इस मामले में ओडिशा के जेल में बंद भी रह चुका है।

इस तरह से पुलिस पहुंची आरोपी तक

आरोपी सरिया में लेडीज कार्नर के नाम पर कपड़ों की दुकान चलाता है। कुछ दिनों पूर्व दुकान में ओडिशा का एक व्यक्ति आकर शोर मचा रहा था। दरअसल आरोपी ने उसे सिरप बेची थी। मगर खरीदार को उसके माल की क्वालिटी को लेकर शिकायत थी। इस बात को लेकर वह हंगामा मचा रहा था। इसके बाद पूरी बात सरिया में फैल गई। इसके बाद पुलिस उसपर लगातार नजर बनाकर रखे हुई थी।

काफी दिनों से कोडीन फास्फेट की सप्लाई कर रहा था


पुलिस जांच से पीछे हट गई

नवंबर 2018 में 4000 बॉटल कोडीन फास्फेट की पकड़ाई थी। जांच में रायपुर के अंश इंटरप्राइजेस का नाम सामने आया था। पुलिस रायपुर और दिल्ली तक भी गई। पुलिसिया सूत्र बताते है कि राजनीतिक दखल के कारण टीम इस फर्म के विरुद्ध कोई कार्रवाई नहीं कर पाई। सूत्र यह भी बताते है कि इस फर्म का बड़ा नेटवर्क है जो नशे का कारोबार कर रहा है।

इन क्षेत्रों में हो रही खपत

जिले के घरघोड़ा,लैलूंगा, धरमजयगढ़, सरिया, बरमकेला, तमनार सहित आसपास के इलाकों में सबसे ज्यादा कोडीन फास्फेट की खपत होती है। इन क्षेत्रों में लगभग सभी मेडिकल में कोडीन की दवाएं मिल जाएंगी। बीते कई सालों से इस क्षेत्र में माल की सप्लाई हो रही है। आरोपियों ने छोटे-छोटे मेडिकल संचालकों को अपना ग्राहक बनाकर रखा है।

X
Raigarh News - chhattisgarh news police seized 1400 bottles kept in sacks inside the well
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना