एसई: विधायक की धौंस देकर करते हैं अभद्रता सरपंच: उगाही का विरोध किया तो लगाया आरोप

Raigarh News - बरमकेला जनपद पंचायत में पदस्थ महिला सब इंजीनियर को कांग्रेसियों के दबाव में हटाने का मामला तूल पकड़ रहा है। सरिया...

Nov 11, 2019, 07:30 AM IST
बरमकेला जनपद पंचायत में पदस्थ महिला सब इंजीनियर को कांग्रेसियों के दबाव में हटाने का मामला तूल पकड़ रहा है। सरिया पुलिस सोमवार को सब इंजीनियर का बयान लेगी। सब इंजीनियर ने सरपंचों और विधायक प्रतिनिधि द्वारा दुर्व्यवहार करने और उनके हिसाब से काम की मूल्यांकन रिपोर्ट देने का दबाव डालने की शिकायत की। इसके बाद जिला पंचायत ने महिला इंजीनियर को ही हटा दिया। इस टाइमिंग के कारण ही पुलिस और प्रशासनिक अफसरों के कांग्रेसी नेता, जनप्रतिनिधि के दबाव में काम करने की बात उठ रही है।

क्या है मामला - बरमकेला जनपद पंचायत में आरईएस विभाग की सब इंजीनियर ने 4 और 5 नवंबर को सरिया थाने में शिकायत दी । इसमें आरोप लगाया गया है कि रायगढ़ विधायक प्रतिनिधि अरुण शर्मा (लुकापारा सरपंच पति), बोंदा सरपंच पति सुकलाल राठौर, पिहरा सरपंच पति अनंतराम, डीडीसी केशब पातर, कांदुरपाली सरपंच रामेश्वर पटेल द्वारा उनकी मर्जी के मुताबिक मूल्यांकन रिपोर्ट देने का दबाव डाला गया है।

अरुण शर्मा पर महिला सब इंजीनियर ने अभद्र टिप्पणी करने का भी आरोप लगाया है। इसी शिकायत के बाद उन्हें हटाकर जिला पंचायत में अटैच कर दिया गया। सरिया थाने और एसपी ऑफिस को दी अपनी शिकायतों में महिला सब इंजीनियर ने सरपंच और कांग्रेसी नेताओं पर प्रताड़ना का आरोप लगाया है।

महिला सब इंजीनियर ने कहा, वे शिकायत लेकर सरिया थाने गईं तो उनपर ही एट्रोसिटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर अंदर करने की बात की गई। थाने में उन्हें दूसरे मामले में फंसाने की धमकी भी दी गई।

ऑडियो भी हो रहे वायरल

मीडिया में सरपंचों और विधायक प्रतिनिधि के खिलाफ महिला सब इंजीनियर की शिकायत के बाद दोनों ही पक्षों से ऑडियो वायरल हुए हैं। भास्कर ऑडियो क्लिप की सत्यता की पुष्टि नहीं करता लेकिन विधायक के लोगों ने एक ऑडियो वायरल किया है। इसमें महिला सब इंजीनियर किसी से कहती सुनी गई हैं, मैंने किसी से कुछ नहीं मांगा है, विधायक को जो शिकायत की है वह वापस लो, मैं बेहतर काम करूंगी। वहीं दूसरी क्लिप महिला इंजीनियर से सहानुभूति रखने वालों ने जारी की है। इसमें वे किसी से अरुण शर्मा पर विधायक के नाम से धमकाने, हटवाने की धमकी देने का आरोप लगा रही हैं। इसमें वे कह रही हैं कि जनपद पंचायत सीईओ ने दफ्तर में बुलाकर सरपंचों के कहने से अपमानित किया है। किसी महिला अधिकारी को ऐसे परेशान करने की शिकायत वे एसपी साहब से करेंगी।

कार्रवाई करें अगर मैं दोषी हूं

लंबे अरसे से मुझे ब्लैकमेल किया जा रहा है। एक व्यक्ति विधायक का नाम लेकर कहता है 123 मीटर की रिटेनिंग वाल को 145 मीटर लिखो। लुकापारा में पहले से बनी सड़क पर दूसरी सड़क दिखाओ ताकि बगैर काम के रुपए ले सकें। अफसर से लेकर सरपंच तक सभी ने मुझे प्रताड़ित किया है। सरिया थाने शिकायत लेकर गई तो टीआई कहते हैं आपके खिलाफ पुरानी शिकायत है एट्रोसिटी एक्ट की कार्रवाई कर दें तो कैसा लगेगा। जब मैंने शिकायत की तो राजनीति करके मुझे हटवा दिया। मुझपर उगाही का आरोप गलत है। जब मैंने शिकायत की तो ये सारी कहानी बनाई जा रही है।

एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं, कार्रवाई किसी पर नहीं

इस मामले ने भास्कर ने जिला पंचायत और जनपद पंचायत सीईओ, सरिया पुलिस, जिला कांग्रेस कमेटी ग्रामीण के अध्यक्ष और महिला सब इंजीनियर से बात की।

भास्कर संवाददाता | रायगढ़

बरमकेला जनपद पंचायत में पदस्थ महिला सब इंजीनियर को कांग्रेसियों के दबाव में हटाने का मामला तूल पकड़ रहा है। सरिया पुलिस सोमवार को सब इंजीनियर का बयान लेगी। सब इंजीनियर ने सरपंचों और विधायक प्रतिनिधि द्वारा दुर्व्यवहार करने और उनके हिसाब से काम की मूल्यांकन रिपोर्ट देने का दबाव डालने की शिकायत की। इसके बाद जिला पंचायत ने महिला इंजीनियर को ही हटा दिया। इस टाइमिंग के कारण ही पुलिस और प्रशासनिक अफसरों के कांग्रेसी नेता, जनप्रतिनिधि के दबाव में काम करने की बात उठ रही है।

क्या है मामला - बरमकेला जनपद पंचायत में आरईएस विभाग की सब इंजीनियर ने 4 और 5 नवंबर को सरिया थाने में शिकायत दी । इसमें आरोप लगाया गया है कि रायगढ़ विधायक प्रतिनिधि अरुण शर्मा (लुकापारा सरपंच पति), बोंदा सरपंच पति सुकलाल राठौर, पिहरा सरपंच पति अनंतराम, डीडीसी केशब पातर, कांदुरपाली सरपंच रामेश्वर पटेल द्वारा उनकी मर्जी के मुताबिक मूल्यांकन रिपोर्ट देने का दबाव डाला गया है।

अरुण शर्मा पर महिला सब इंजीनियर ने अभद्र टिप्पणी करने का भी आरोप लगाया है। इसी शिकायत के बाद उन्हें हटाकर जिला पंचायत में अटैच कर दिया गया। सरिया थाने और एसपी ऑफिस को दी अपनी शिकायतों में महिला सब इंजीनियर ने सरपंच और कांग्रेसी नेताओं पर प्रताड़ना का आरोप लगाया है।

महिला सब इंजीनियर ने कहा, वे शिकायत लेकर सरिया थाने गईं तो उनपर ही एट्रोसिटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर अंदर करने की बात की गई। थाने में उन्हें दूसरे मामले में फंसाने की धमकी भी दी गई।

थाने में शिकायत करने पर नहीं हटाया गया


दबाव की कोई बात नहीं है। आगे भी सारी कार्रवाई नियमानुसार ही की जाएगी'' ऋचा चौधरी, सीईओ जिला पंचायत

उनकी शिकायत से पहले अटैच किया


गया है। '' संदीप पोयम, जपं सीईओ

ताली दोनों हाथ से बजती है


सरिया पुलिस ने फंसाने की धमकी नहीं दी


पैसे मांगने की शिकायत


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना