• Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Raigad
  • Raigarh News chhattisgarh news the lawyers did not work on demands like free medical facilities family pension memorandum submitted

मुफ्त चिकित्सा सुविधा, फैमिली पेंशन जैसी मांगों को लेकर वकीलों ने नहीं किया काम, सौंपा ज्ञापन

Raigarh News - सारंगढ | अधिवक्ता संघ द्वारा अपनी 10 सूत्रीय मांग को लेकर धरना प्रदर्शन दिया दिया गया और प्रधानमंत्री के नाम सारंगढ...

Bhaskar News Network

Feb 13, 2019, 05:26 AM IST
Raigarh News - chhattisgarh news the lawyers did not work on demands like free medical facilities family pension memorandum submitted
सारंगढ | अधिवक्ता संघ द्वारा अपनी 10 सूत्रीय मांग को लेकर धरना प्रदर्शन दिया दिया गया और प्रधानमंत्री के नाम सारंगढ एसडीएम को ज्ञापन सौंपा गया। अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष विजय तिवारी ने बताया कि 10 सूत्रीय मांगों को लेकर एसडीएम को ज्ञापन सौंपा गया है। इस दौरान अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष विजय तिवारी, प्रफुल्ल कुमार तिवारी, कुलदीप राज पटेल, अनिल गोपाल, आशीष कुमार मिश्रा, धनेश्वर प्रसाद लहरे, मनीष तिवारी, राकेश जांगड़े सहित बड़ी संख्या में अधिवक्ता उपस्थित थे।

रायगढ़ | मंगलवार को देशभर के वकील बीमा कवरेज देने, मुफ्त चिकित्सा सुविधा, स्टायफंड, फैमिली पेंशन जैसे करीब 10 मांगों को लेकर आंदोलन किया। इस हड़ताल में जिला न्यायालय के वकीलों ने भी दिनभर कोई काम नहीं किया। कलेक्टर आफिस के बाहर नारेबाजी की उसके बाद अपनी मांगों को लेकर प्रधानमंत्री के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौपा। हड़ताल के कारण मंगलवार को जिला न्यानलय, श्रम न्यायलय, परिवार न्यायलय, उपभोक्ता फोरम एवं जिला कार्यालय से जुड़े कोर्ट में कोई काम नहीं हुए।

जिला अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष सत्येन्द्र कुमार सिंह ने बताया कि 10 मांगों को लेकर मंगलवार को देशभर में हड़ताल किया गया। इसके बाद भी यदि केन्द्र और राज्य उनकी मांगों को पूरा नहीं करती है तो वे भारतीय विधिक परिषद के निर्देश आंदोलन की शुरुआत करेंगे। उन्होंने बताया कि ज्ञापन में 20 लाख रुपए का बीमा कवरेज, अस्पतालों में मुफ्त चिकित्सीय सुविधा या मेडिक्लेम देने, नए वकीलों को 10 हजार रुपए का स्टायफंड देने, 50 हजार रुपए तक प्रतिमाह फैमिली पेंशन अधिवक्ता संघ को भवन एवं आवास की व्यवस्था सहित अन्य मांग शामिल हैं। आंदोलन में अधिवक्ता संघ के सचिव राजेन्द्र पाण्डेय, शरद पाण्डेय, दीपक शर्मा, मनोज श्रीवास, गोपी राम यादव सहित काफी संख्या में वकीलों ने हिस्सा लिया।

कलेक्टर को ज्ञापन सौंपने जाते संघ के सदस्य।

पेशी की डेट बढ़ाई, वापस लौटे पक्षकार

वकीलों की हड़ताल के कारण पूरा न्यायालय परिसर में वीरानी छाई रही। कई अधिवक्ता लाइब्रेरी में बैठकर टीवी देखते रहे और कुछ आंदोलन में शामिल होने के बाद वापस चले गए। हड़ताल के कारण करीब पुलिस के करीब 28 वारंट भी नहीं कट सका और जेल कैदियों की पेशी नहीं होने से उन्हें वापस जेल भेजना पड़ा। कई पक्षकार ने वकीलों हड़ताल होने के कारण वापस चले तो कुछ ने खुद ही पेशी का डेट आगे बढ़ाया।

रायगढ़ | मंगलवार को देशभर के वकील बीमा कवरेज देने, मुफ्त चिकित्सा सुविधा, स्टायफंड, फैमिली पेंशन जैसे करीब 10 मांगों को लेकर आंदोलन किया। इस हड़ताल में जिला न्यायालय के वकीलों ने भी दिनभर कोई काम नहीं किया। कलेक्टर आफिस के बाहर नारेबाजी की उसके बाद अपनी मांगों को लेकर प्रधानमंत्री के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौपा। हड़ताल के कारण मंगलवार को जिला न्यानलय, श्रम न्यायलय, परिवार न्यायलय, उपभोक्ता फोरम एवं जिला कार्यालय से जुड़े कोर्ट में कोई काम नहीं हुए।

जिला अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष सत्येन्द्र कुमार सिंह ने बताया कि 10 मांगों को लेकर मंगलवार को देशभर में हड़ताल किया गया। इसके बाद भी यदि केन्द्र और राज्य उनकी मांगों को पूरा नहीं करती है तो वे भारतीय विधिक परिषद के निर्देश आंदोलन की शुरुआत करेंगे। उन्होंने बताया कि ज्ञापन में 20 लाख रुपए का बीमा कवरेज, अस्पतालों में मुफ्त चिकित्सीय सुविधा या मेडिक्लेम देने, नए वकीलों को 10 हजार रुपए का स्टायफंड देने, 50 हजार रुपए तक प्रतिमाह फैमिली पेंशन अधिवक्ता संघ को भवन एवं आवास की व्यवस्था सहित अन्य मांग शामिल हैं। आंदोलन में अधिवक्ता संघ के सचिव राजेन्द्र पाण्डेय, शरद पाण्डेय, दीपक शर्मा, मनोज श्रीवास, गोपी राम यादव सहित काफी संख्या में वकीलों ने हिस्सा लिया।

Raigarh News - chhattisgarh news the lawyers did not work on demands like free medical facilities family pension memorandum submitted
X
Raigarh News - chhattisgarh news the lawyers did not work on demands like free medical facilities family pension memorandum submitted
Raigarh News - chhattisgarh news the lawyers did not work on demands like free medical facilities family pension memorandum submitted
COMMENT