• Hindi News
  • Chhattisgarh
  • Raigad
  • Raigarh News chhattisgarh news three year old child unconscious traveler running around the platform to take water after the train stops

ट्रेन रुकते ही पानी लेने प्लेटफार्म पर इधर-उधर दौड़ते हैं यात्री, गर्मी से तीन साल का बच्चा बेहोश

Raigad News - ट्रेन के अंदर गर्मी से परेशान एक 3 साल का बच्चा गुरुवार को प्लेटफार्म नंबर दो पर बेहोश हो गया था। परिवार परेशान हो...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 07:20 AM IST
Raigarh News - chhattisgarh news three year old child unconscious traveler running around the platform to take water after the train stops
ट्रेन के अंदर गर्मी से परेशान एक 3 साल का बच्चा गुरुवार को प्लेटफार्म नंबर दो पर बेहोश हो गया था। परिवार परेशान हो गया। परिवार ने अपनी जर्नी ब्रेक की और तुरंत बच्चे को जिला अस्पताल लेकर गए। इलाज के बाद परिवार घर लौटा।

गर्मी में पीने का पानी एक बड़ी समस्या है जो यात्रियों की परेशानी का कारण है। ट्रेन के आते ही पानी के लिए भगदड़ जैसी स्थिति बन जाती है। भास्कर ने स्टेशन में मौजूद यात्रियों के लिए पानी सुविधा का जायजा लिया और रेलवे की गंभीरता को समझने की कोशिश की। रेलवे स्टेशन में प्लेटफार्म नंबर एक और दो पर 10 वाटर कूलर लगे हुए हैं। दोनों ही प्लेटफार्म पर लगे वाटर कूलर गर्मी के दो महीने पहले से ही खराब पड़े थे, जिन्हें कुछ दिनों पहले ही सुधारा गया है।

साउथ बिहार एक्सप्रेस, उत्कल एक्सप्रेस सहित अन्य कई ट्रेनों का स्टॉपेज या तो 5 मिनट है या फिर 2 मिनट। ठंडे पानी के लिए लोग वाटर कूलर के पास आकर खड़े तो हो जाते है‌‌ं। मगर यहां नल से पानी की रफ्तार ऐसी होती है कि एक बोतल को भरने में 1 मिनट से ज्यादा का समय लग जाता है जबकि पानी की धार जहां सही है वहां 12 से 15 सेकंड में पानी की बॉटल भर जाती है। यही कारण है कि हर रोज ट्रेन छूटने के दौरान भगदड़ की स्थिति बन जाती है। बुधवार को हुए हादसे के बाद स्टेशन मास्टर ने आईओडब्ल्यू, इलेक्ट्रिशियन के साथ मिलकर स्टेशन में खराब नल को सुधारा और जांच की। उनके इस जांच के करीब तीन घंटे बाद हमने स्टेशन में पानी व्यवस्था की पड़ताल की। पड़ताल में ये सारी खामियां सामने आई।

ज्यादातर नलों में गर्म पानी और जहां ठंडा पानी वहां बोतल भी नहीं भर पाती, पानी लेने के चक्कर में ट्रेन भी छूट जाती है

ट्रेन के आने पर प्लेटफार्म एक नबर पर ऐसे लगती है भीड़।

भास्कर लाइव

भास्कर की टीम गुरुवार को दोपहर लगभग 1 बजे रेलवे स्टेशन पहुंची। 1.17 में प्लेटफार्म नंबर एक पर 22511 कामाख्या कर्मभूमि एक्सप्रेस आई। ट्रेन के स्लीपर के 9 डिब्बों और दो जनरल के डिब्बों से लगभग 500 से यात्री प्लेटफार्म पर उतरे। प्लेटफार्म नंबर एक पर 11 जगह पर नल लगे हुए है। इसके अलावा दो जगह पर आरओ मशीन। मुख्य गेट से जीआरपी के पोस्ट तक पानी के लिए सभी यात्री आए। एक नल पर लगभग 50 से 60 लोगों की भीड़ लग रही थी। मगर नल में पानी की धार ऐसी थी कि एक लीटर पानी के बॉटल को भरने में एक मिनट का समय लग रहा था। लोग हड़बड़ी में एक दूसरे को धकेलते हुए पानी भर रहे थे। जिनको यहां से पानी नहीं मिला वे भागकर आरओ के पास पहुंचे। यहां पर भी कमोबेश वही स्थिति। एक से दूसरे नल तक भागते कई यात्रियों को खाली बोतल लेकर वापस चढ़ना पड़ा। ट्रेन के प्लेटफार्म छोड़ने के काफी देर बाद तक लोग ट्रेन पर गिरते-पड़ते चढ़ते रहे।

बेहोश बच्चे को उठाए पिता, छोड़नी पड़ी यात्रा।

इस तरह से हर रोज यात्री करते हैं पानी के लिए संघर्ष

आए दिन छूट रही ट्रेन- बुधवार को स्टेशन में ठंडा पानी लेने के चक्कर में ही उत्कल एक्सप्रेस से रायगढ़ में उतरे 4 यात्री छूट गए थे। गुरुवार को भी गर्मी के कारण एक घटना हुई। एक परिवार दुर्ग से टाटा के लिए साउथ बिहार एक्सप्रेस में सफर कर रहे थे। ट्रेन में पप्पू सिंह अपने 3 साल के बेटे युवराज और अन्य सदस्यों के साथ था। गर्मी के कारण 3 साल का बच्चा बेहोश हो गया। रेलवे से कोई मदद नहीं मिल पाने के बाद एक ऑटो की सहायता से बच्चे को मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया। परिवार के लगभग 7 सदस्यों की ट्रेन इस चक्कर में छूट गई।

2 मिनट का स्टापेज, पानी लेकर इस तरह जोखिम लेकर चढ़ते हैं ट्रेन में।

क्याें होती है परेशानी

ट्रेन के स्लीपर और जनरल कोच तपते हैं। सुबह से देर शाम तक गर्म हवा और धूप से परेशानी होती है। पानी की जरूरत ज्यादा पड़ती है। पूरे सफर में हर बार 15 से 20 रुपए पानी की एक बोतल पर खर्च करना मुश्किल होता है। ट्रेन रूकने पर प्लेटफार्म पर उतरना उनकी मजबूरी है। कामाख्या एक्सप्रेस में अकोला से मालदा के लिए सफर कर रहे अविनाश सिंह और गोंदिया से हावड़ा के लिए सफर कर रहे अमित ने बताया कि इतनी लंबी दूरी में यदि वे पानी हर स्टेशन में खरीदे तो हजार रुपए पानी में ही खर्च हो जाएंगे। इस कारण वे नीचे उतरकर रेलवे की सुविधा का लाभ लेना चाहते हैं। मगर रायगढ़ स्टेशन में ये सुविधा नहीं मिल पाती।

रेलवे स्टेशन में पानी की ये है व्यवस्था











Raigarh News - chhattisgarh news three year old child unconscious traveler running around the platform to take water after the train stops
Raigarh News - chhattisgarh news three year old child unconscious traveler running around the platform to take water after the train stops
X
Raigarh News - chhattisgarh news three year old child unconscious traveler running around the platform to take water after the train stops
Raigarh News - chhattisgarh news three year old child unconscious traveler running around the platform to take water after the train stops
Raigarh News - chhattisgarh news three year old child unconscious traveler running around the platform to take water after the train stops
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना