बॉर्डर पर चौकसी, सड़कों पर खाकी का पहरा, फिर भी बहानेबाजी कर बाहर निकल रहे हैं शहर के लोग

Raigarh News - कोविड-19 जैसे खतरनाक वायरस से निपटने और लोगों को बचाने के लिए जिले की सीमाओं पर चौकसी बढ़ा दी गई है। लोग घरों से बाहर...

Mar 31, 2020, 07:25 AM IST

कोविड-19 जैसे खतरनाक वायरस से निपटने और लोगों को बचाने के लिए जिले की सीमाओं पर चौकसी बढ़ा दी गई है। लोग घरों से बाहर न निकले, इसके लिए चौक चौराहों पर पुलिस के जवान तैनात है। लेकिन आवश्यक सामग्री के बहाने से सड़कों पर लोग अब भी निकल रहे हैं। समय रहते इस चहल कदमी पर रोक न लगी तो रायगढ़ की स्थिति गंभीर होने लगेगी।

डब्ल्यूएचओ की गाइडलाइन की बात करें तो प्रत्येक व्यक्ति को सोशल डिस्टेंसिंग अपनानी है। हर एक व्यक्ति दूसरे से एक मीटर की दूरी पर रहे। दिन में कई बार हाथों को धोना है। बाजारों में भीड़भाड़ वाले इलाके में नहीं जाना है। संक्रमित और संदिग्ध व्यक्ति के संपर्क में नहीं आना है। इन सब बातों पर अमल कराने के लिए लॉकडाउन किए जाने के साथ ही पुलिस ने चौकसी बढ़ाई। लेकिन लोग है कि मानने को तैयार नहीं है। अस्पताल, बाजार में पहुंच रहे लोग इस खतरनाक वायरस को स्वयं बुलावा दे रहे हैं। शहर में सुबह के हालात देख कर तो कतई ऐसा नहीं लगता है कि लॉकडाउन की एडवायजरी पर अमल हो रहा है। बूढ़े और जवान से लेकर महिलाएं तक सड़कों पर बच्चों के साथ चहल कदमी करते नजर आती हैं।

रोक के बाद भी पहुंच
रहे अस्पताल


मेकाहारा में ओपीडी बंद कर दी गई है। गंभीर और दुर्घटना में घायल लोगों के लिए कैजुअल्टी वार्ड को चालू रखा गया है। सोमवार को सुबह 8 बजे से ही मेकाहारा में लोग पहुंचने लगे। ये वह लोग थे, जिन्हें, खांसी, जुकाम के अलावा सामान्य समस्याएं थीं। हालांकि इनका इलाज नहीं हुआ, लेकिन फिर भी यह घंटों जमे रहे। बाद में स्वास्थ्य अधिकारियों ने इन्हें कार्रवाई की चेतावनी देकर वापस घरों पर जाने के लिए कहा।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना