--Advertisement--

कार्यकर्ताओं के साथ चुनाव परिणाम की चर्चा करते हैं रायगढ़ के प्रमुख प्रत्याशी, समय नजदीक, बेचैनी बढ़ी

Raigarh News - विधानसभा प्रत्याशियों के लिए यह समय बेचैन कर देने वाला है। बिलकुल इंतहा हो गई इंतजार की...जैसा। पहले तो कई महीने...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 02:55 AM IST
Raigarh News - discussion of election results with workers raigad39s main candidates time is near anxiety grew
विधानसभा प्रत्याशियों के लिए यह समय बेचैन कर देने वाला है। बिलकुल इंतहा हो गई इंतजार की...जैसा। पहले तो कई महीने जूझकर टिकट की लड़ाई लड़ी। टिकट मिली तो भितरघात से भिड़े। चुनाव प्रचार में अपना सब कुछ झोंक दिया। 20 नवंबर को मतदान हो गया, लेकिन परिणाम क्या होगा इसके लिए इन्हें 20 दिनों का लंबा इंतजार करना पड़ रहा है। शुरुआती दिन तो किसी तरह थकान उतारते, परिवार के साथ समय देते बीत गए, लेकिन जैसे-जैसे 11 दिसंबर मतलब फैसले का दिन करीब आ रहा है, सभी प्रत्याशियों की धड़कनें बढ़ी हुई हैं।

रायगढ़ विधानसभा के तीनों प्रमुख प्रत्याशियों को ना दिन का चैन है ना रात का आराम। ये लोग अभी भी बूथवार आंकड़े लेकर बैठे हैं कि किस बूथ से कितनी लीड मिलेगी, कितना पीछे रहेंगे। बैचेनी के बीच शुक्रवार-शनिवार को आए बेचैनी पोल ने और परेशान कर दिया है....अब तीनों कहते हैं...भैय्या, जो होना हो जल्दी हो...

शनिवार की दोपहर हमने तीनों प्रत्याशियों के कार्यालय-घरों में माहौल देखा। परिणाम को लेकर उत्सुकता, चिंता और दावों पर बातचीत की। सबसे पहले हम टीवी छाप से चुनाव लड़ने वाले निर्दलीय प्रत्याशी विजय अग्रवाल के घर पहुंचे। यहां विजय अपने बूथ प्रभारी और नजदीकी कार्यकर्ताओं के साथ बैठे थे। 50 से ज्यादा लोगों की भीड़ थी। बूथवार मतदान के आंकड़े और उसके इंचार्ज से चर्चा कर रहे थे। हर इलाके में पिछले चुनावों में डले वोटों के आंकड़ों और इस बार हुए मतदान के हिसाब से...बताओ तुम्हें क्या लगता है, जैसा फीडबैक ले रहे थे।

जिला कांग्रेस कमेटी के दफ्तर में मिले पार्टी के प्रत्याशी प्रकाश नायक, जिला अध्यक्ष शहर जयंत ठेठवार, अनिल शुक्ला, प्रभात साहू समेत 10 से ज्यादा कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के साथ बैठे आंकड़े देखकर उस पर चर्चा कर रहे थे। बूथवार मतदान का प्रतिशत और आंकड़ों के बदले प्रकाश साथियों के साथ इस बात की चर्चा कर रहे थे कि जातिगत समीकरण का परिणाम पर क्या असर होगा। जिला भाजपा कार्यालय पहुंचे तो परिसर के मैदान पर कुछ कुर्सियां लगी थीं लेकिन कोई बैठा नहीं था। प्रत्याशी रोशनलाल से फोन पर बात करने के बाद हम उनके घर पहुंचे। यहां रोशनलाल अपने कुछ पारिवारिक मित्रों से चर्चा करने में लगे थे। हाथ में रिमोट था और बेचैनी पोल देख रहे थे। हमसे ही पूछने लगे बताओ क्या लग रहा है। हमारे वहां पहुंचने पर निजी चर्चा मतदान, चुनाव परिणाम और सरकार के बनने बिगड़ने पर चर्चा शुरू हो गई।

काटे नहीं कटते ये दिन ये रात...

पहले जूझकर टिकट की लड़ाई लड़ी, टिकट मिली तो भितरघात से भिड़े

कोई चिंता नहीं, उत्साहित करने वाले कमेंट मिल रहे हैं: विजय

चुनाव परिणाम को लेकर उत्सुकता तो है, चिंता नहीं है। समय बिल्कुल अच्छे से कट रहा है, कार्यकर्ताओं और शुभचिंतकों के साथ बैठकर परिणाम को लेकर चर्चा करता हूं। परिणाम से दो दिन पहले मैं सामान्य हूं, दिनचर्या जैसे पहले थी वैसी ही है। मैं जीत रहा हूं, वैसे आप किसी भी प्रत्याशी से पूछें तो वो यही कहेंगे। जहां तक उम्मीद का सवाल है, मैंने जनता के विश्वास पर चुनाव लड़ा था और लोगों को भरपूर साथ मिला। परिणाम को लेकर मेरी जिससे भी चर्चा हुई सकारात्मक फीडबैक ही मिले हैं।

भास्कर न्यूज | रायगढ़

विधानसभा प्रत्याशियों के लिए यह समय बेचैन कर देने वाला है। बिलकुल इंतहा हो गई इंतजार की...जैसा। पहले तो कई महीने जूझकर टिकट की लड़ाई लड़ी। टिकट मिली तो भितरघात से भिड़े। चुनाव प्रचार में अपना सब कुछ झोंक दिया। 20 नवंबर को मतदान हो गया, लेकिन परिणाम क्या होगा इसके लिए इन्हें 20 दिनों का लंबा इंतजार करना पड़ रहा है। शुरुआती दिन तो किसी तरह थकान उतारते, परिवार के साथ समय देते बीत गए, लेकिन जैसे-जैसे 11 दिसंबर मतलब फैसले का दिन करीब आ रहा है, सभी प्रत्याशियों की धड़कनें बढ़ी हुई हैं।

रायगढ़ विधानसभा के तीनों प्रमुख प्रत्याशियों को ना दिन का चैन है ना रात का आराम। ये लोग अभी भी बूथवार आंकड़े लेकर बैठे हैं कि किस बूथ से कितनी लीड मिलेगी, कितना पीछे रहेंगे। बैचेनी के बीच शुक्रवार-शनिवार को आए बेचैनी पोल ने और परेशान कर दिया है....अब तीनों कहते हैं...भैय्या, जो होना हो जल्दी हो...

शनिवार की दोपहर हमने तीनों प्रत्याशियों के कार्यालय-घरों में माहौल देखा। परिणाम को लेकर उत्सुकता, चिंता और दावों पर बातचीत की। सबसे पहले हम टीवी छाप से चुनाव लड़ने वाले निर्दलीय प्रत्याशी विजय अग्रवाल के घर पहुंचे। यहां विजय अपने बूथ प्रभारी और नजदीकी कार्यकर्ताओं के साथ बैठे थे। 50 से ज्यादा लोगों की भीड़ थी। बूथवार मतदान के आंकड़े और उसके इंचार्ज से चर्चा कर रहे थे। हर इलाके में पिछले चुनावों में डले वोटों के आंकड़ों और इस बार हुए मतदान के हिसाब से...बताओ तुम्हें क्या लगता है, जैसा फीडबैक ले रहे थे।

जिला कांग्रेस कमेटी के दफ्तर में मिले पार्टी के प्रत्याशी प्रकाश नायक, जिला अध्यक्ष शहर जयंत ठेठवार, अनिल शुक्ला, प्रभात साहू समेत 10 से ज्यादा कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के साथ बैठे आंकड़े देखकर उस पर चर्चा कर रहे थे। बूथवार मतदान का प्रतिशत और आंकड़ों के बदले प्रकाश साथियों के साथ इस बात की चर्चा कर रहे थे कि जातिगत समीकरण का परिणाम पर क्या असर होगा। जिला भाजपा कार्यालय पहुंचे तो परिसर के मैदान पर कुछ कुर्सियां लगी थीं लेकिन कोई बैठा नहीं था। प्रत्याशी रोशनलाल से फोन पर बात करने के बाद हम उनके घर पहुंचे। यहां रोशनलाल अपने कुछ पारिवारिक मित्रों से चर्चा करने में लगे थे। हाथ में रिमोट था और बेचैनी पोल देख रहे थे। हमसे ही पूछने लगे बताओ क्या लग रहा है। हमारे वहां पहुंचने पर निजी चर्चा मतदान, चुनाव परिणाम और सरकार के बनने बिगड़ने पर चर्चा शुरू हो गई।

उम्मीद तो पूरी है, ईवीएम खुले तो परिणाम साफ होंगे: प्रकाश

चुनाव के बाद थोड़ा समय परिवार के साथ गुजारा। अब परिणाम नजदीक हैं, चिंता तो नहीं है लेकिन उत्सुकता और थोड़ी बेचैनी तो है। परिणाम नजदीक आने के बाद लगातार शहर और ग्रामीण इलाके में कांग्रेसी साथियों से परिणाम को लेकर ही चर्चा कर रहा हूं। ईवीएम मशीन की सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं इसलिए कांग्रेसी कार्यकर्ताओं द्वारा लगातार उसकी निगरानी कर रहे हैं। परिणाम हमारे पक्ष में आएंगे। लोग बदलाव चाहते हैं और कांग्रेस ही बेहतर विकल्प है।

कोई चिंता नहीं है, हम चुनाव जीत रहे हैं: रोशनलाल

परिणाम के दिन का इंतजार है चिंता नहीं है। नरेंद्र मोदी और रमन सिंह पर लोगों का विश्वास है, इससे मुझे वोट मिलेंगे। व्याकुलता का सवाल ही नहीं है। कल मैं रायपुर मीटिंग में गया था। आज कार्यकर्ताओं से सामान्य मुलाकात के बाद घर पर समाचार देख रहा हूं। पिछले बार से अधिक वोटों से चुनाव जीतेगी भाजपा यहां। जिस तरह से विकास कार्य हुए हैं, मेरी विधानसभा के गांवों में मतदाताओं की पूरे कार्यकाल में समस्या सुनी और उनका समाधान किया, जनता ने समर्थन दिया है फिर काहे की चिंता है।

Raigarh News - discussion of election results with workers raigad39s main candidates time is near anxiety grew
Raigarh News - discussion of election results with workers raigad39s main candidates time is near anxiety grew
X
Raigarh News - discussion of election results with workers raigad39s main candidates time is near anxiety grew
Raigarh News - discussion of election results with workers raigad39s main candidates time is near anxiety grew
Raigarh News - discussion of election results with workers raigad39s main candidates time is near anxiety grew
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..