विज्ञापन

हाथियों ने चौपट कर दी सवा लाख रुपए की फसल, मुआवजे में 90 हजार भी नहीं मिले / हाथियों ने चौपट कर दी सवा लाख रुपए की फसल, मुआवजे में 90 हजार भी नहीं मिले

Bhaskar News Network

Dec 09, 2018, 02:51 AM IST

Raigarh News - दो भाइयों ने 10 एकड़ में सवा लाख रुपए खर्च कर धान की फसल तैयार की थी। फसल पक कर तैयार थी, धान की कटाई वे अपने खलिहानों...

Raigarh News - elephants split up to rs 125 lakh crop compensation no more than 90 thousand rupees
  • comment
दो भाइयों ने 10 एकड़ में सवा लाख रुपए खर्च कर धान की फसल तैयार की थी। फसल पक कर तैयार थी, धान की कटाई वे अपने खलिहानों में ला पाते इससे पहले 22 हाथियों के दल ने खेत में घुसकर पूरी फसल चौपट कर दी।

फसल बर्बाद होने के बाद दोनों भाई वन विभाग से सौ फीसदी मुआवजा राशि का मांग कर रहे हैं। ताकि नुकसान की भरपाई की जा सके, लेकिन दूसरी तरफ अफसर सौ फीसदी मुआवजा देने का प्रावधान ही नहीं होने की बात कह रहे हैं। घरघोड़ा वन परिक्षेत्र के चिंतापानी बीट में हाथियों ने जमकर उत्पात मचाया है। पिछले डेढ़ सप्ताह से 22 हाथियों का दल बीट में मौजूद था। दल ने दो दर्जन से अधिक किसानों की खेतों में धान की फसल पूरी तरह चौपट कर दी है।

सबसे ज्यादा नुकसान चिंतापानी गांव निवासी दो सगे भाई लक्ष्मी प्रसाद और रामप्रसाद का हुआ है। उन्होंने पूरे 10 एकड़ में धान की खेती की थी। खेत की जोताई, निदाई कोडा़ई, खाद बयासी आदि को मिलाकर उन्होंने फसल पकने तक लगभग सवा लाख रुपए खर्च किए हैं, लेकिन उनके नुकसान की पूरी राशि नहीं मिलेगी। क्षेत्र प्रभारी मिलन भगत बताते हैं कि दोनों किसानों की फसल सौ फीसदी बर्बाद हो चुकी है, लेकिन विभाग के नियम में पूरा मुआवजा देने का प्रावधान नहीं है। ऐसे में उन्हें खेती में बड़ा नुकसान उठाना पड़ेगा।

एक एकड़ पर सिर्फ 9 हजार मुआवजा-विभाग की गाइडलाइन में हाथी द्वारा किसानों की फसल नुकसान होने पर एक एकड़ पर सिर्फ 9 हजार देने का प्रावधान है, लेकिन यह भी पूरा नहीं दे सकते हैं। इसलिए क्षेत्र के बीट गार्ड सभी मामलों पर 70 से 90 फीसदी ही मुआवजा बनाते हैं। जबकि प्रति एकड़ धान की फसल पर एक सीजन में किसान 15 से 18 हजार रुपए खर्च करता है।

अभी हाथियों का मूवमेंट धरमजयगढ़ में

क्षेत्र से 22 हाथियों का दल अब धरमजयगढ़ वन मंडल की तरफ बढ़ रहा है। दो दिन पहले ही हाथियों चिंतापानी घरघोड़ा वन परिक्षेत्र से गए हैं। उनके जाने के बाद ग्रामीण अपनी बची खुची फसल समेटने में लगे हुए हैं। उधर हाथियों की धमक से धरमजयगढ़ के प्रभावित इलाकों में दहशत का माहौल है।

शासन का लंबा चौड़ा गाइड लाइन है


X
Raigarh News - elephants split up to rs 125 lakh crop compensation no more than 90 thousand rupees
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543
विज्ञापन