छत्तीसगढ़  / महिलाओं को घरेलू हिंसा से बचाने के लिए अब 'हमर अंगना' योजना



janjgeer champa To protect women from domestic violence, now the 'Hamar Angana' scheme
X
janjgeer champa To protect women from domestic violence, now the 'Hamar Angana' scheme

  • नया अधिनियम : पायलट प्रोजेक्ट के रूप में जांजगीर-चांपा से की गई शुरुआत, सर्वे के लिए गठित होगी समिति
  • छत्तीसगढ़ राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर से की गई है शुरू, जिला न्यायाधीश बताए अधिनियम के फायदे 

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2019, 03:18 PM IST

जांजगीर-चांपा.  महिलाओं को घरेलू हिंसा से बचाने के लिए अब हमर अंगना योजना की शुरुआत की गई है। छत्तीसगढ़ राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर से पायलेट प्रोजेक्ट के रूप में इसे जांजगीर चांपा में शुरू किया गया है। योजना से हिंसा की शिकार महिलाओं को जोड़ने के लिए सर्वे होगा और इसके लिए समिति का गठन किया जाएगा। इसके क्रियान्वयन को लेकर गुरुवार को जिला न्यायाधीश और प्राधिकरण के अध्यक्ष राजेश श्रीवास्तव के निर्देश में जानकारी दी गई। 

जमीनी स्तर पर लोगों को जोड़ेंगे

  1. न्याय सदन के सभागार में हुए कार्यक्रम में जिला न्यायाधीश ने बताया कि "हमर अंगना 2017' घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण अधिनियम 2005 की धारा 3 के तहत परिभाषित घरेलू हिंसा को रोकने और मिटाने पर आवश्यक कदम उठाने के लिए शुरू की गई है। राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण बिलासपुर की ओर से पायलट प्रोजेक्ट आधारित यह योजना राज्य में जांजगीर-चांपा जिले को चयनित किया गया है। बाद में अन्य जिलों में भी प्रारंभ की जाएगी। 

  2. उन्होंने बताया कि ऐसे पीड़ितों या पीड़ित परिवार जिन्हें इस योजना के तहत किसी प्रकार की सहायता की आवश्यकता है उनके सर्वें के लिए प्राधिकरण एक समिति भी गठित करेगी। प्राधिकरण के पैरालीगल वालेंटियर, संबंधित ग्राम के पंच व सरपंच, सामुदायिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता इस समिति के सदस्य होंगे। आवश्यकता होने पर ऐसे महिलाओं एवं बच्चों को आश्रय गृहों में भिजवाने, शासन की कल्याणकारी योजनाओं के तहत आर्थिक सहयोग एवं रोजगार का लाभ दिलाने जैसे कार्य करेंगी। 

  3. पेटी में डाल सकेंगे घरेलू हिंसा की शिकायत 

    प्राधिकरण की प्रभारी सचिव सीजेएम उदयलक्ष्मी सिंह परमार ने बताया कि इस योजना के तहत प्रत्येक ग्राम में एक शिकायत पेटी भी रखी जाएगी जो स्थानीय संस्था के कार्यालय में होगी और जिसकी चाबी उस ग्राम के समिति के पैरालीगल वॉलेंटियर के पास होगी। समिति के द्वारा सर्वें के दौरान और शिकायत पेटी के माध्यम से प्राप्त शिकायतों में घरेलू हिंसा से पीड़ितों की जानकारी जिला विधिक सेवा प्राधिकरण को उपलब्ध करागी। समिति घरेलू हिंसा से पीड़ितों और परिवारों को यथोचित परामर्श देगी और समुचित सहायता प्रदान करेगी। 

  4. महिला वॉलेंटियर को दी जाएगी प्राथमिकता 

    महिला पैरालीगल वॉलेंटियर को प्राथमिकता के आधार पर इस समिति में शामिल किया जाएगा और यह भी प्रयास किया जाएगा कि महिला स्वसहायता समूह के सदस्य पैरालीगल वॉलेंटियर इस समिति में रखे जाएं। यह समिति विभिन्न वार्डों में समिति के द्वारा घरेलू हिंसा के कारणों जैसे परिवार के शराबी सदस्य के व्यवहार, नशे का उपयोग, अवैध संबंध, झगड़ालू स्वभाव, लैंगिक प्रताड़ना, आर्थिक समस्या, दहेज की मांग जैसे कारणों पर भी ध्यान केन्द्रित किया जाएगा। 

COMMENT