पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

ठेकेदार से 13 लाख की लूट मामले में भाजपा नेता गिरफ्तार, लूट की पूरी कहानी ही झूठी निकली

8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस गिरफ्त में लूट के आरोपी और साजिशकर्ता व बरामद रकम
  • खरसिया क्षेत्र स्थित एसबीअाई के पास दो दिन पहले 3 दिसंबर को रुपए छीनने की कहानी गढ़ी गई
  • अड़भार नगर पंचायत अध्यक्ष ने साजिश रची और बड़े भाई से उसके बेटे और साले रुपए लेकर भागे

रायगढ़. छत्तीसगढ़ के रायगढ़ में ठेकेदार के 13 लाख रुपए की लूट की कहानी ही पूरी झूठी निकली। भाजपा नेता ने अपने बेटे और उसके साले के साथ मिलकर पूरी कहानी रची थी। इसके लिए उसने अपने बड़े भाई को मोहरा बना दिया। घटना वाले दिन भाजपा नेता के बेटे ने ही अपने साले के साथ मिलकर रुपए छीने औेरे भाग निकला। पुलिस ने पूरे मामले का खुलासा करते हुए गुरुवार को भाजपा नेता कार्तिकराम रात्रे, उसके बेटे विक्रम रात्रे और साले चित्रसेन को गिरफ्तार कर लिया। 

1) रुपए निकालने के लिए गांव के भी एक युवक को साथ ले गया बैंक

दरअसल, जांजगीर-चांपा के अड़भार निवासी कन्हैया राठौर पेशे से ठेकेदार है।  वह नगर पंचायत में ठेकेदारी करता है और उसका बैंक एकाउंट रायगढ़ के खरसिया स्थित एसबीआई की शाखा में है। कन्हैया ने दो दिसंबर को अपने सहयोग की अगतराम रात्रे को 7 लाख व 6 लाख के दो सेल्फ चेक देकर रुपए निकालने के लिए बैंक भेजा। उसी दिन इस बात की जानकारी अगतराम ने अपने छोटे भाई और नगर पंचायत अध्यक्ष कार्तिक राम रात्रे को दी। कार्तिक ने गांव के ही विकास देवांगन को एक चेक देकर बैंक भेज दिया। 

इसके बाद पीछे से कार्तिक राम और अगतराम भी स्काॅर्पियो से बैंक पहुंच गए। बैंक में तीनों एक साथ अंदर गए। इस पर विकास ने सेल्फ चेक से 6 लाख और अगतराम ने 7 लाख रुपए निकाले। रुपए निकालने के बाद विकास ने उसी समय अगतराम को दे दिए और वहां से चला गया। अगतराम दोपहर करीब 12.50 बजे अपने भाई कार्तिकराम के साथ रुपयों से भरे दोनों बैग लेकर बाहर निकला। बैग लेकर अभी बैंक से करीब 10 मीटर ही आगे गए होंगे कि बाइक सवार दो बदमाश अगतराम से दोनोंे बैग छीनकर भाग निकले। 

वारदात के बाद कार्तिक ने ही पुलिस को फोन कर वारदात की सूचना दी। इसके बाद अगतराम ने खरसिया थाने में एफआईआर दर्ज कराई। पूछताछ में कार्तिकराम ने बाइक सवारोंे के भागने की गलत दिशा बताई। जबकि अगतराम के बताए अनुसार, पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज चेक किए तो उसमें बाइक सवार नजर आ गए। उनके पास लूटे गए बैग भी मौजूद थे। अगतराम और विकास देवांगन को ने सीसीटीवी फुटेज से आरोपियों को पहचान लिया। उनमें से एक कार्तिकराम का पुत्र विक्रम था। 

इस पर पुलिस ने विक्रम रात्रे को हिरासत में ले लिया। उससे पूछताछ की गई तो विक्रम ने बताया कि अपने साले चित्रसेन के साथ मिलकर लूट की वारदात को अंजाम दिया था। साथ ही यह भी बताया कि लूट की पूरी साजिश उसके पिता कार्तिकराम रात्रे ने रची थी। इस पर पुलिस ने कार्तिकराम को भी हिरासत में ले लिया और पूछताछ की। पूछताछ में कार्तिकराम ने भी अपना गुनाह कबूल कर लिया। पुलिस ने लूटे गए पूरे रुपए, स्कॉर्पियो, वारदात में प्रयुक्त बाइक और दो मोबाइल भी बरामद किए हैं। 

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज पिछली कुछ कमियों से सीख लेकर अपनी दिनचर्या में और बेहतर सुधार लाने की कोशिश करेंगे। जिसमें आप सफल भी होंगे। और इस तरह की कोशिश से लोगों के साथ संबंधों में आश्चर्यजनक सुधार आएगा। नेगेटिव-...

और पढ़ें