--Advertisement--

सुसाइड / मैं आपकी अच्छी बेटी नहीं बन पाई, मुझे माफ करना...और नाबालिग छात्रा ने लगा ली फांसी



raigarh minor girl hung herself and wrote sorry note for parents
X
raigarh minor girl hung herself and wrote sorry note for parents

  • किशोरी पढ़ाई में कमजोर थी, मां ने नाराजगी जाहिर की तो उसे बुरा लग गया
  • मनोरोग चिकित्सक ने बताया कि 15 से 20 की उम्र में बदलाव के चलते बच्चे टेंशन में रहते हैं
  • ऐसे में उनके साथ फ्रेंडली रहना चाहिए, उनकी समस्याओं को सुनना चाहिए 

Dainik Bhaskar

Dec 07, 2018, 01:17 PM IST

रायगढ़. आशीर्वादपुरम कॉलोनी में 8 वीं में पढ़ने वाली 14 साल की लड़की ने फांसी लगाकर जान दे दी। परिवार को शव के पास मिले सुसाइड नोट में उसने परिवार वालों से माफी मांगी, लिखा, मैं आपकी अच्छी बेटी नहीं बन पाई, मुझे माफ कर देना। 

 

गुरुवार की शाम ढिमरापुर स्थित आशीर्वादपुरम कॉलोनी में एक 14 साल की नाबालिग बच्ची ने आत्महत्या कर ली। बच्ची स्कूल से देर से लौटी थी। पढ़ाई में वह थोड़ी कमजोर थी। स्कूल से आने में देर होने पर घर वाले उससे शिकायत करते थे। गुरुवार को स्कूल से लौटने के बाद मां ने नाराजगी जाहिर की तो उसे बहुत बुरा लगा। उसने नाश्ता किया और कमरे में चली गई। थोड़ी देर बाद जब कोई हलचल नहीं दिखी तो परिजन ने कमरे का दरवाजा खोला। बेटी का शव पंखे से झूलता देखकर मां बदहवास हो गई। इसकी सूचना तुरंत पुलिस को दी गई। सुसाइड नोट के आधार पर पुलिस मामले में जांच कर रही है। मनोरोग चिकित्सक डॉक्टर राजेश अजगल्ले से बात की। डॉक्टर ने बताया कि 15 से 20 साल के बीच उम्र के बदलाव के कारण बच्चे टेंशन में रहते हैं। 


लैलूंगा में भी 21 साल की छात्रा ने की खुदकुशी

 
बुधवार की शाम लैलूंगा के सुबरा गांव (कटंगपारा) में कॉलेज की छात्रा ने घर में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली है। जानकारी के अनुसार पूर्णिमा चौहान 21 साल कुंजारा कॉलेज में बीए फर्स्ट ईयर की छात्रा थी। बुधवार को युवती ने अपने कमरे में ही दोपहर लगभग 1 बजे फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। आत्महत्या की वजह साफ नहीं हो सकी है। 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..