पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

प्रश्न पत्र प्रिंट कराना भूले तो स्टूडेंट से कहा- जाओ, अब 11 को लेंगे एग्जाम

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • उच्च शिक्षा मंत्री के जिले में डिग्री कॉलेज कर रहा मनमानी, परीक्षा देने पहुंचे एटीकेटी के छात्रों को लौटाया
  • यूजी व पीजी के प्रश्नपत्रों में भी ढेरों खामियां, प्रोफेसर परीक्षा कक्ष में जाकर सुधरवाते हैं त्रुटियां
Advertisement
Advertisement

रायगढ़.  अटल यूनिवर्सिटी से ज्यादा खामियां इस सत्र में डिग्री कॉलेज के परीक्षा विभाग से हो रही है। ऑटोनॉमस कॉलेज होने के नाते प्रश्नपत्र के प्रकाशन और कॉपियों की जांच तक की जिम्मेदारी कॉलेज प्रशासन की है, लेकिन इसे लेकर डिग्री कॉलेज के प्राचार्य बिल्कुल गंभीर नहीं है। शनिवार को कॉलेज में परीक्षा देने आए एटीकेटी के छात्र के लिए प्रश्नपत्र ही नहीं प्रिंट कराया गया था। प्राचार्य ने संबंधित विषय की परीक्षा 11 जून को लेने की बात कह कर छात्र को लौटा दिया। 

1) साइकोलॉजी के रिसर्च मेथेडोलॉजी के पेपर में 8 की जगह 4 प्रश्न ही छपे 

इसी तरह यूजी के और पीजी के लिए प्रिंट कराए गए प्रश्न पत्रों में ढेरों त्रुटियां सामने आ रही है। रोजाना परीक्षा के दौरान पर्चा बंटते ही सबसे पहले परीक्षा विभाग के प्रोफेसर हॉल में जाकर प्रश्नों की त्रुटियां सुधरवाते हैं। प्रश्न पत्र में शब्दों के अलावा प्रश्न के आंकड़े तक गलत प्रिंट हो रहे हैं। साइकोलॉजी विषय के रिसर्च मेथेडोलॉजी के पेपर में 8 की जगह 4 प्रश्न ही प्रकाशित किए गए थे।

इस बात की जानकारी जब प्रोफेसरों को लगी तो उन्होंने प्रश्न पत्र बनाने वाले विषय विशेषज्ञ से बात करके परीक्षार्थियों को चार अतिरिक्त प्रश्न नोट कराए। इसके बाद परीक्षार्थियों ने पर्चा हल किया। अतिरिक्त प्रश्न लिखने के कारण परीक्षा दे रहे स्टूडेंट्स को पर्चा हल करने के लिए आखिर में समय कम पड़ गया। रोजाना इस तरह की दिक्कतों का सामना कर रहे स्टूडेंट्स परिणाम को लेकर काफी चिंतित है।

केस 1 : बीए फर्स्ट सेमेस्टर के इतिहास विषय की परीक्षा में कॉलेज में बांटे गए प्रश्न पत्र में प्रश्न क्रमांक 14 के हिंदी में लिखा है, फ्रेंको प्रशियन (पर्शियन) युद्ध सन् 1870 ई प्रिंट हुआ है, तो वहीं अंग्रेजी युद्ध प्रश्न में सन् 1890 ई बताया गया है। प्रश्न को पढ़कर बहुत से परीक्षार्थियों ने उत्तर गलत लिख दिए हैं। 

केस 2 :  बीएससी छठवें सेमेस्टर के कम्यूनिकेशन स्किल की परीक्षा में सेमेस्टर का नाम फोर्थ लिखा गया है। इसके ढाई घंटे की परीक्षा के लिए 3 घंटे प्रिंट किया गया। सभी प्रश्नों पर कुल अंक 60 की जगह 80 है। इसके अलावा प्रश्नों के लिए आवंटित अंकों में भी त्रुटियां है। 

सवाालडॉ. केएल टांडेकर, प्राचार्य डिग्री कॉलेज 
स्टूडेंट परीक्षा देने तैयारी के साथ आए थे, लेकिन कॉलेज ने प्रश्नपत्र ही प्रिंट नहीं कराया था? ऐसा किसने कहा आपसे, ऐसा कुछ नहीं हुआ है, संबंधित छात्र की परीक्षा 11 जून को ली जाएगी। 
आप झूठ कह रहे हैं, प्रश्न पत्र प्रिंट नहीं हुए थे, इसलिए आपने परीक्षा 11 जून को लेने की बात कही है? आपको कोई मिसगाइड करने की कोशिश कर रहा है, हमारे यहां ऐसी कोई त्रुटि नहीं हुई है। 
रोजाना प्रश्न पत्र में 8 से 10 प्रिटिंग मिस्टेक सामने आ रहे हैं, साइकोलॉजी में 8 की जगह 4 प्रश्न ही थे? आपको कॉलेज की खबरें कौन देता है, सभी सूचनाएं गलत हैं। 
जानकारी कैसे मिली यह छोड़िए और खामियों में सुधार कीजिए, हमारे पास प्रश्न पत्र हैं, जिसमें त्रुटियां स्पष्ट दिखाई दे रही हैं? जो त्रुटियां है, उससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा, बच्चों को इस संबंध में जानकारी दी जाती है। 
हॉल में समय बर्बाद हो रहा है, इसका प्रभाव परिणाम पर पड़ा तो जिम्मेदार कौन होगा? 

ऑटोनॉमस विभाग सही तरीके से काम कर रहा है, कहीं कोई त्रुटि नहीं है। 

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज का दिन पारिवारिक और आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदायी है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति का अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ निश्चय से पूरा करने की क्षमत...

और पढ़ें

Advertisement