छत्तीसगढ़  / ट्रेनी आईएएस अफसर को मारने की कोशिश करने वाला खनन माफिया गिरफ्तार

Dainik Bhaskar

May 17, 2019, 10:56 AM IST


raigarh news Mining mafia Amrit Patel arrested for trying to kill trainee IAS Officer
X
raigarh news Mining mafia Amrit Patel arrested for trying to kill trainee IAS Officer

  • छत्तीसगढ़ पुलिस ने ओडिशा से पकड़ा, एक माह से अलग-अलग राज्यों में छिपा रहा, माफिया का 10 सालों से है आतंक
  • सारंगढ़ क्षेत्र में अवैध खनन होता देख पहुंचे थे सहायक कलेक्टर, जेसीबी से किया था कुचलने का प्रयास

रायगढ़. अवैध खनन रोकने पहुंचे सहायक कलेक्टर (ट्रेनी आईएएस अफसर) और उनकी टीम को मारने का प्रयास करने वाले खनन माफिया अमृत पटेल को पुलिस ने ओडिशा से गिरफ्तार किया है। छत्तीसगढ़ पुलिस ने आरोपी को ओडिशा से पकड़ा। वारदात के बाद करीब एक माह से आरोपी अमृत अलग-अलग राज्यों में छिपता फिर रहा था। सारंगढ़ क्षेत्र में अवैध खनन होता देख मौके पर पहुंचे आईएएस अफसर को जेसीबी से कुचलने का प्रयास किया था। 

कई मामले दर्ज फिर भी कार्रवाई नहीं, साथी को भी पुलिस ने पकड़ा

  1. शहर के कोतरा रोड में गजानंदपुरम का रहने वाला अमृत पटेल कई सालों से सारंगढ़ टिमरलगा में पत्थरों की अवैध खदान चलाता था। सारंगढ़ के टिमरलगा, गुड़ेली इलाके में अवैध खनन की शिकायतों के बाद 11 अप्रैल की रात सहायक कलेक्टर मयंक चतुर्वेदी माइनिंग की टीम के साथ जांच और कार्रवाई के लिए पहुंचे थे। दूर से खदान में काम होता देख चतुर्वेदी टीम के साथ वहां पहुंचे। यहां अमृत पटेल जेसीबी और अन्य वाहनों के साथ पत्थर की खुदाई और परिवहन में लगा था। 

  2. अमृत ने सहायक कलेक्टर चतुर्वेदी और डिप्टी डायरेक्टर माइनिंग एसएस नाग को देखा तो भड़क गया। वह गालियां देता हुआ जेसीबी से दोनों को कुचलने का प्रयास किया। अफसर वहां से हट गए और बड़ी मुश्किल से जान बचा पाए। हमले में डिप्टी डायरेक्टर नाग को चोट भी लगी। अफसरों ने पुलिस को बुलाया तब तक अमृत वहां से भाग निकला। आरोपी की सरगर्मी से तलाश की जा रही थी। पुलिस ने आरोपी अमृत पटेल और उसके साथी कन्हैया पटेल को गुरुवार को कनकतुरा-रेंगालपाली में पकड़ने की बात कही।

  3. शाम को प्रेस कांफ्रेंस करके मीडिया को आरोपी के गिरफ्तारी की जानकारी दी गई। पुलिस ने बताया कि आरोपी अमृत के हर लोकेशन की जानकारी थी लेकिन वह घेराबंदी करने से पहले ही वहां से भाग जाता था। उस पर खनिज अधिनियम के तहत पहले भी कई बार मामले दर्ज हैं। बताया जा रहा है कि खनन माफिया अमृत का करीब 10 सालों से क्षेत्र में आतंक था। 

  4. पांच राज्यों के अलावा नेपाल में छिपा

    रायगढ़ से पुरी में जाकर रुक गया। कुछ दिनों बाद भुवनेश्वर से बरगढ़। यहां से सड़क मार्ग से रायपुर। रायपुर से ट्रेन रूट से दिल्ली। दिल्ली से नेपाल। नेपाल के अलग-अलग गांवों में घूमने के बाद यहां से गोरखपुर। गोरखपुर से प्रयागराज। प्रयागराज से बिलासपुर। यहां से दोबारा पुरी। पुरी से भुवनेश्वर से नासिक से शिरडी। शिरडी से दोबारा नासिक। नासिक से रायपुर। इसके बाद बिलासपुर से कोलकाता। कोलकाता से भुवनेश्वर और यहीं से टीम ने इसका पीछा करते हुए बरगढ़ के रास्ते रेंगालपाली के पास पकड़ा। 

  5. शातिर है लेकिन पहले सख्त कार्रवाई नहीं हुई 

    ऐसा नहीं है कि अमृत पटेल अब माफिया बना है। उसके हौसले कई सालों से बुलंद हैं। दो साल पहले भी उसने कार्रवाई करने गई माइनिंग की टीम को बंधक बना लिया था। अवैध खनन और परिवहन उसकी आदत बन चुकी है। कई बार कार्रवाई हुई लेकिन पुलिस या प्रशासन ने कभी सख्ती नहीं दिखाई इसलिए हौसले इतने बढ़े कि अफसर को कुचलने की कोशिश कर दी। आरोपी के विरुद्ध सारंगढ़ में पहले से कई मामले दर्ज हैं। 

COMMENT