छत्तीसगढ़ / अंतागढ़ कांड में फंसे मंतूराम का 12 मिनट का लिया गया वायस सैंपल ब्लैकमेलर फिरोज ने भी दी सहमति

12-minute voice sample blackmailer Feroz, who was caught in Antagarh scandal, also agreed
X
12-minute voice sample blackmailer Feroz, who was caught in Antagarh scandal, also agreed

  • बुधवार को लिया जाएगा फिरोज सिद्दीकी का वायल सैंपल

Dainik Bhaskar

Dec 04, 2019, 12:51 AM IST

रायपुर . अंतागढ़ टेपकांड में मुख्य आरोपी और तत्कालीन कांग्रेस प्रत्याशी मंतूराम पवार ने मंगलवार को अपनी आवाज का सैंपल पुलिस को दे दिया है। पुलिस ने मोबाइल पर उनका सैंपल लिया है। अब सैंपल जांच के लिए फॉरेंसिक लैब भेजा जाएगा। इस मामले में नया मोड़ आया है। ब्लैकमेलिंग केस में फंसे फिरोज सिद्दीकी ने भी वाइस सैंपल देने की सहमति दे दी है। उनके सहमति के बाद उन्हें एसआईटी ने नोटिस भेजा है। बुधवार को उनका वॉयस सैंपल लिया जाएगा। 


पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी, उनके बेटे अमित जोगी और डॉ. पुनीत गुप्ता का भी वॉयस लिया जाना है, लेकिन उन्होंने मना कर दिया है। कोर्ट में भी उनके वॉयस सैंपल के लिए अर्जी लगाई थी, जो खारिज कर दी गई है। पूर्व विधायक पवार ने मीडिया से चर्चा करते हुए कहा कि बाकी लोगों को अपनी आवाज का सैंपल देने में क्या दिक्कत है। 2014 में अंतागढ़ में उपचुनाव के दौरान कांग्रेस प्रत्याशी मंतूराम पवार अचानक चुनाव मैदान से हट गए थे। उस चुनाव में भाजपा को जीत मिली थी। 


चुनाव के एक साल बाद एक ऑडियो वायरल हुआ था, जिसमें कथित तौर पर चुनाव को लेकर सौदाबाजी की बातचीत है। यह बातचीत कथित तौर पर पूर्व सीएम जोगी, उनके बेटे, मंतूराम और डॉ. गुप्ता के बीच बताई जा रही है। पूर्व महापौर डॉ. किरणमयी नायक की शिकायत पर 2018 में पंडरी थाने में केस दर्ज किया गया है। इसमें पूर्व सीएम अजीत जोगी, उनके बेटे अमित, मंतूराम पवार, डॉ. पुनीत गुप्ता और पूर्व मंत्री राजेश मूणत काे आरोपी बनाया गया है। 

असली डिवाइस जब्त नहीं कर पाई है पुलिस
पुलिस अब तक ऑडियो रिकॉर्ड होने वाली असली डिवाइस जब्त नहीं कर पाई है। कोर्ट में भी इसकी मांग की थी। सूत्रों के अनुसार वॉयस सैंपल की जांच के लिए असली डिवाइस जरूरी है। उसी से ही आवाज का मिलान किया जाता है। असली डिवाइस फिरोज सिद्दीकी के पास थी, लेकिन उन्होंने भी पुलिस को उपलब्ध नहीं कराया है। चर्चा है कि फिरोज जल्द ही पुलिस को असली डिवाइस उपलब्ध करा सकता है।

दोनों पूर्व सीएम की साजिश 
आवाज सैंपल देने के बाद मीडिया से चर्चा करते हुए मंतूराम ने अंतागढ़ टेपकांड दोनों पूर्व सीएम की साजिश बताई है। उन्होंने कहा कि उन्हें धमकाकर नाम वापस कराया गया था। उन्हें डराकर रखा गया था। अगर वे लोग गलत नहीं है, तो आवाज का सैंपल देने से मना क्यों कर रहे हैं। उन्हें भी सैंपल देना चाहिए। उन्होंने अपनी जान को खतरा बताते हुए कहा उन्हें कानून पर पूरा भरोसा है, इसलिए वे अपनी आवाज का सैंपल दे रहे हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना