छत्तीसगढ़ / किडनैपिंग के चार दिन बाद मिला दुधमुंहा, मां और किडनैपर महिला बच्चे पर कर रहीं अपना दावा



बाएं लक्ष्मी जिसने बच्चा किडनैप होने की लिखाई थी कम्प्लेन, दाएं वो महिला जिसके पास से बच्चा मिला। बाएं लक्ष्मी जिसने बच्चा किडनैप होने की लिखाई थी कम्प्लेन, दाएं वो महिला जिसके पास से बच्चा मिला।
X
बाएं लक्ष्मी जिसने बच्चा किडनैप होने की लिखाई थी कम्प्लेन, दाएं वो महिला जिसके पास से बच्चा मिला।बाएं लक्ष्मी जिसने बच्चा किडनैप होने की लिखाई थी कम्प्लेन, दाएं वो महिला जिसके पास से बच्चा मिला।

  • पुलिस उलझन में, अब दोनों महिलाओं के पतियों और बच्चे का डीएनए टेस्ट कराने की तैयारी
  • चार दिन बाद पुलिस के हाथ बच्चा लगा तो महिला को बुलाकर उसकी पहचान कराई गई
     

Dainik Bhaskar

May 15, 2019, 05:27 PM IST

जगदलपुर. चित्रकोट के बहार गुड़ा से अगवा किए गए दुधमुंहे को बरामद करने में पुलिस को सफलता हाथ लगी है। पुलिस ने बच्चे की मां को बुलाकर उसकी पहचान भी करा दी। वहीं पुलिस एक उलझन में फंस गई है। जिस महिला को किडनैपर माना जा रहा है वो महिला उसे खुद का बच्चा बताते हुए रो रही है। अब एक बच्चे पर दो-दो महिलाएं मां होने का दावा कर रही हैं। पुलिस अब मामले में डीएनए टेस्ट कराने की तैयारी कर रही है। 

 

बच्चा

 

10 मई को चित्रकोट के बहार गुड़ा से 4 महीने के दुधमुंहे बच्चे का अपहरण हुआ था। परिवार के लोगों के जरिए बताए गए हुलिया के आधार पर किडनैपर का स्कैच तैयार कराकार सभी थानों में भेजा गया था। पुलिस के लगातार ढूंढने के बाद बुधवार को शहर के बस स्टैंड के पास एक संदिग्ध महिला को पकड़ा जिसके पास से बच्चा बरामद किया। फिर बच्चे की मां लक्ष्मी को बुलाकर उसकी पहचान कराई। लक्ष्मी ने स्वीकारा कि वो उसका बच्चा है। इधर किडनैपर महिला भी उस बच्चे को अपना बता रही है। फिलहाल किडनैपर अकेले रहती है। उसका पति उसे छोड़कर कहीं चला गया है।

 
बच्चे को पाते ही रोने लगी लक्ष्मी 
बच्चे की पहचान करवाने के लिए लक्ष्मी को सखी सेंटर बुलवाया गया। अपने कलेजे के टुकड़े को पाकर वो गले लगाकर रोने लगी और बोली ये मेरा ही बच्चा है। इसके अलावा परिवार ने भी बच्चे की पहचान की।

किडनैपर

किडनैपर महिला बोली-ये मेरा बच्चा है 
अब जिस महिला के पास से बच्चे को बरामद किया गया था उसका भी कहना है कि ये बच्चा मेरा है। मैंने इसको जन्म दिया है। अगर मेरे बच्चे को कुछ हुआ तो इसकी जिम्मेदारी पुलिस की होगी और मैं पुलिस पर एफआईआर कर प्रशासन से कार्यवाही की मांग करूंगी। 


परिजनों की कहानी पर भी पुलिस को संदेह
परिजनों ने पुलिस को बताया था कि किडनैपिंग की घटना के करीब 7 दिन पहले एक युवक घर आया था। वो पानी मांगा। उसने पानी पिया और कुछ देर बैठा भी। वो कौन था ये किसी को पता नहीं। इधर परिजनों के बयान के बाद यह भी सवाल खड़े हो रहे हैं कि आखिर एक अनजान युवक इनके घर क्यों आया और उसे घर के अंदर बिठाकर पानी क्यों पिलाया गया। पुलिस अफसरों का कहना है कि परिजनों के हर बयान की तस्दीक की जा रही है। 
डीएनए टेस्ट का सहारा लेगी पुलिस 
पुलिस मामले में डीएनए टेस्ट का सहारा ले रही है। जगदलपुर एएसपी संजय महादेव का कहना है कि हम बच्चे का डीएनए चेक करवाएंगे उसके बाद ये साफ हो जाएगा कि बच्चा किसका है. जांच के बाद सही पाए गए अपराधी पर 373 आईपीसी के तहत जेल भेजा जाएगा।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना