छत्तीसगढ़ / अंतागढ़ टेपकांड, मोबाइल में रिकार्ड आडियो की पेनड्राइव एसआईटी को सौंपी



antagad tape scandal, audio record of pen drive deposit  SIT
X
antagad tape scandal, audio record of pen drive deposit  SIT

  • एसआईटी ने तीन दिन पहले टेपकांड के मास्टर माइंड फिरोज सिद्दीकी से पूछताछ की थी
  • उसने पुलिस के सामने स्वीकार किया था कि उसके पास आडियो है

Dainik Bhaskar

Feb 03, 2019, 12:51 AM IST

रायपुर . अंतागढ़ टेपकांड का अहम सबूत शनिवार को मास्टर माइंड फिरोज सिद्दीकी ने स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम एसआईटी को सौंपा। फिरोज सुरक्षा कारणों का हवाला देकर खुद एसआईटी के सामने हाजिर नहीं हुए। वकील के माध्यम से मोबाइल पर रिकार्ड आडियो की पेन ड्राइव भेजी। एसआईटी के अफसर आडियो में रिकार्ड बातचीत सुनने के बाद जांच के लिए फोरेंसिक लैब भेजेंगे। 

 

एसआईटी ने तीन दिन पहले टेपकांड के मास्टर माइंड फिरोज सिद्दीकी से पूछताछ की थी। उसने पुलिस के सामने स्वीकार किया था कि उसके पास आडियो है। एसआईटी ने वही आडियो उससे मांगा था। शनिवार को फिरोज ने आधा दर्जन पेन ड्राइव एसआईटी के अफसरों को भिजवाया। खबर है कि अंतागढ़ के उपचुनाव से संबंधित लेन-देन को लेकर कई बार बातचीत हुई है।

 

फिरोज ने हर बार की आडियो की रिकार्डिंग पेन ड्राइव में पुलिस को सौंपी है। पुलिस के विशेषज्ञों के अनुसार फोरेंसिक लैब में पहले ये पता लगाया जाएगा कि पेन ड्राइव में जो बातचीत है, उसे किसी तरह से टेंपरिंग यानी उसके साथ किसी तरह की छेड़खानी तो नहीं की गई है। आडियो को लेकर स्थिति स्पष्ट होने के बाद उसमें जिन लोगों की बातचीत है, उनकी आवाज का सैंपल लिया जाएगा। अफसरों के अनुसार सबसे पहले ये पता लगाया जाएगा कि मोबाइल के रिकार्डर में आवाजें किन-किन लोगों की है। आवाज का मिलान करने के बाद आर्थिक लेन-देन का पता लगाया जाएगा। पैसों के लेन-देन में राजनीतिक साजिश का खुलासा होने के बाद ही अपराध पंजीबद्ध किया जाएगा।

 

आईजी पर बरसे डीजीपी दिलचस्पी नहीं देखकर हटाया : अंतागढ़ टेपकांड की जांच के लिए गठित एसआईटी के मॉनीटरिंग अफसर व रायपुर आईजी आनंद छाबड़ को अचानक हटाए जाने को लेकर कई तरह की चर्चाएं हैं। कहा जा रहा है कि एसआईटी का गठन होने के बाद से आईजी छाबड़ा ने एक बार भी टेपकांड की जानकारी नहीं ली। वे एक भी बैठक में शामिल नहीं हुए। इसकी जानकारी होने पर डीजीपी डीएम अवस्थी उन पर नाराज हुए। उसके बाद उन्होंने मॉनीटरिंग की जिम्मेदारी आईजी जीपी सिंह को सौंपी। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना