भास्कर एक्सक्लूसिव / सहायक खाद्य अधिकारी की चल रही है राइस मिल, ट्रांसफर किया जाए, जिले में कभी पदस्थ न हों



Assistant Food Officer is running Rice Mill
X
Assistant Food Officer is running Rice Mill

  • राजपत्रित होने की वजह से खुद ट्रांसफर नहीं कर सकते, इसलिए बिना प्रभार बिलाईगढ़ भेजा

Dainik Bhaskar

Jan 13, 2019, 05:20 AM IST

असगर खान,  रायपुर . बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के सहायक खाद्य अधिकारी अनिल जोशी। राइस मिल चलाते हैं, सिर्फ कहने को सरकारी नौकर हैं। कलेक्टर जेपी पाठक को जब इसकी जानकारी मिली तो सबसे पहले गोपनीय जांच कराई।

 

इसके बाद उन्होंने जोशी से सभी प्रभार छिनकर बिना काम के ऑफिस में अटैच कर दिया। पर जोशी पर इसका कोई असर नहीं हुआ, बल्कि वे दूसरे अफसरों पर प्रभाव डालने लगे। फिर बलौदाबाजार से जोशी का ट्रांसफर बिना प्रभार दिए बिलाईगढ़ किया गया है।

 

क्योंकि, कलेक्टर राजपत्रित अधिकारी का ट्रांसफर नहीं कर सकते इसलिए उन्होंने प्रमुख सचिव (पीएस) ऋचा शर्मा को चिट्ठी लिखकर जोशी के ट्रांसफर की मांग की है। साथ ही कहा है कि जोशी भविष्य में भी कभी बलौदाबाजार में पदस्थ न किए जाएं।

 

latter

 

अनिल जोशी का आचरण एक लोक सेवक के अनुरूप नहीं है। वे जिले में निवास नहीं करते हैं, रायपुर से आना-जाना करते हैं। अघोषित रूप से जिले में एक राइस मिल का संचालन कर रहे हैं। संबंधित विभाग और दूसरे अधिकारियों के काम में हस्तक्षेप करते हैं। मुझे इनकी गतिविधियां संदिग्ध लगती है। काम भी संतोषप्रद नहीं है। जिले में इनकी सेवा की आवश्यकता नहीं है। इसलिए तबादला किया जाए, भविष्य में भी पदस्थापना बलौदाबाजार में न हो।

 

रायपुर में भी अफसर-मिलर्स की मिलीभगत : राजधानी रायपुर के खाद्य विभाग में भी कई अफसरों पर राइस मिलरों से मिलीभगत का आरोप लग चुका है। जिले में करीब एक दर्जन मिलर ऐसे हैं जिन्होंने करीब दो साल से कस्टम मिलिंग का चावल जमा नहीं किया है। इन पर करीब 8 करोड़ रुपए का बकाया है, लेकिन इन मिलरों पर न तो एफआईआर की गई और न ही मिल सील की गईं। दावा किया जा रहा है कि अफसरों से साठ-गांठ होने की वजह से इन मिलरों पर कोई कार्रवाई नहीं की गई। दो साल पहले बलौदबाजार में 137 करोड़ रुपए के चावल के ट्रांसपोर्टिंग के घोटाले की शिकायत हुई थी, उसमें भी अफसरों का नाम सामने आया था।

 

जोशी के खिलाफ कई शिकायतें हैं 

 

सहायक खाद्य अधिकारी अनिल जोशी के खिलाफ कई शिकायतें मिली हैं। वे अघोषित रूप से राइस मिल भी चला रहे हैं। इस वजह से उन्हें जिले से बाहर करने के लिए चिट्ठी लिखी है।’’

-जेपी पाठक, कलेक्टर


 

 

 

 

 

COMMENT