विज्ञापन

छत्तीसगढ़ विधानसभा / मुख्यमंत्री बघेल ने कहा, शराबबंदी हम करेंगे, लेकिन नोटबंदी की तरह नहीं

Dainik Bhaskar

Feb 12, 2019, 01:17 PM IST


Chhattisgarh Vidhan Sabha Cm Bhupesh Bhagel Said They Will Ban Liquor In State But With Caution
X
Chhattisgarh Vidhan Sabha Cm Bhupesh Bhagel Said They Will Ban Liquor In State But With Caution
  • comment

  • प्रश्नकाल के दौरान भाजपा विधायक अजय चंद्राकर के सवाल का जवाब दे रहे थे मुख्यमंत्री
  • कहा- समाज काे साथ लेकर चलना जरूरी, सभी दलाें की सहमति से होगा इस पर फैसला

रायपुर. विधानसभा में बजट सत्र के तीसरे दिन मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि शराबबंदी हम भी करेंगे, लेकिन ये नोटबंदी की तरह नहीं होगी। उन्होंने कहा कि हम लोगों को मौत के मुंह में नहीं धकेल सकते हैं। उन्होंने कहा कि समाज को साथ लेकर चलना जरूरी है। सभी दलों की सहमति से इस पर फैसला होगा।

हमें जनादेश 5 साल के लिए मिला, 50 दिन के लिए नहीं

  1. प्रश्नकाल के दौरान भाजपा विधायक अजय चंद्राकर ने शराबबंदी को लेकर सवाल उठाया था। उन्होंने शराबबंदी के लिए गठित अध्ययन दल की रिपोर्ट को सदन में पढ़े जाने की मांग करते हुए कहा कि इसके कुछ बिंदुओ को लेकर राजनीति की जा रही है, जबकि इसमें कई अहम सुझाव शामिल किए गए हैं। 

  2. वहीं जेसीसीजे विधायक अजीत जोगी ने पूरक प्रश्न में कहा कि पूर्ण शराबबंदी की जाएगी, जब यह बात घोषणा पत्र में शामिल की गई तो इसका मतलब है कि जरूर अध्ययन हुआ होगा। उसके बाद कहा गया कि प्रदेश के मैदानी इलाकों में पूर्ण शराबबंदी की जाएगी। 

  3. सरकार बनने के बाद फिर अध्ययन करने की क्या जरूरत है।छत्तीसगढ़ के लिए पूर्ण शराबबंदी आवश्यक है। अगर राज्य आज बर्बाद हो रहा है तो इसकी सबसे बड़ी वजह शराब है। उन्होंने कहा कि भाजपा के 15 साल के कार्यकाल में शराब की खपत 15 गुना बढ़ी है। 

  4. जवाब देते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि जिन राज्यों में शराबबंदी के बाद विफलता मिली, हम उनके कारणों का अध्ययन कर वजह तलाश रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा, हमे जनादेश 5 साल के लिए मिला है, 50 दिन के लिए नहींं। 

  5. उन्होंने पूर्ववर्ती भाजपा सरकार पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि तब 2100 रुपये समर्थन मूल्य की बात कहीं गई थी लेकिन क्या दिया गया था? जर्सी गाय बांटने का वादा किया गया था, लेकिन क्या बांटी गई? लेकिन हम शराबबंदी जरूर करेंगे। 

  6. मुख्यमंत्री ने कहा, मेरा अनुभव है कि सरकार एक झटके में दुकानें बंद कर सकती है, लेकिन ये सामाजिक बुराई है। जब तक समाज को साथ नहीं लेंगे ये सफल नहीं हो सकता है। मैं शराबबंदी को लेकर दूसरे दलों के सुझावों को लेकर भी बैठक लूंगा।, इस सत्र में ही आप सभी को इस बैठक में आमंत्रित करूंगा।

  7. जांच के सवाल पर भिड़े सत्ता पक्ष और विपक्ष

    बजट सत्र के तीसरे दिन पक्ष-विपक्ष के बीच जमकर तकरार हुई। प्रश्नकाल के दौरान सत्तापक्ष के विधायक के जवाब पर भाजपा विधायक अजय चंद्राकर भड़क गए। उन्होंने कहा कि कितनी भी जांच करानी है, करा लीजिए, मैं तैयार हूं। दरअसल प्रश्नकाल के दौरान बिलाईगढ़ विधायक चंद्रदेव राय ने शौचालय निर्माण से जुड़ी जानकारी चाही थी। 

  8. इस पर बीजेपी विधायक अजय चंद्राकर ने प्रतिप्रश्न किया, तो इसके जवाब में अमरजीत भगत ने टिप्पणी करते हुए कहा कि सारे मामले आपके ही कार्यकाल के हैं, आपके पास तो पूरी जानकारी होगी। इस टिप्पणी पर अजय चंद्राकर ने कहा, जितनी भी जांच करानी है, करा लें। 

  9. इधर नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने भी टिप्पणी करते हुए कहा कि सदस्यों को पूरक प्रश्न पूछने का अधिकार है। विधानसभा अध्यक्ष की अनुमति से सदस्य पूरक प्रश्न पूछते आए हैं। ऐसी परंपरा रही है, लेकिन लगता है लोग अजय चंद्राकर को एक बार फिर उस ओर बिठाना चाहते हैं।

COMMENT
Astrology
Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन