--Advertisement--

रिपोर्टर रजनी / आधी आबादी पर नेताओं की नजर, मुद्दे भी खूब उठा रहे



Chhattisgarh Election: Half of the population looks at the leaders
X
Chhattisgarh Election: Half of the population looks at the leaders

  • राजनीति में महिलाओं की भागीदारी से उनसे जुड़े मुद्दों पर जाता है ध्यान
  • भाजपा-कांग्रेस नेत्रियों ने उठाया है बस्तर में झेल रहीं महिलाओं का दर्द

Dainik Bhaskar

Nov 11, 2018, 09:32 AM IST

रायपुर. महिलाओं की राजनीति में भागीदारी से होता यह है कि महिलाओं के मुद्दों पर ध्यान जाता है। वे जब मुद्दे उठाती हैं तो अधिक संवेदनशीलता और विश्वसनीयता के साथ उठाती हैं। विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार जैसे जैसे जोर पकड़ रहा है, जैसे जैसे महिला स्टार प्रचारकोें का आना हो रहा है, ऐसे मुद्दे उठ रहे हैं। 

 

हाल ही में बस्तर में महिला कांग्रेस की नेत्री सुष्मिता देव और पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा का दो दिन के दौरे पर आना हुआ। उन्होंने बस्तर में महिलाओं की स्थिति का मुद्दा उठाया है। इनमें से एक यह है कि रोजगार न मिलने के कारण महिलाओं को पलायन के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। बात सही है। 

 

बस्तर के मजदूरों के पलायन करने और उनके शोषण की खबरें आती रही हैं। पलायन पूरा परिवार करता है लेकिन कष्ट महिलाओं-बच्चोें को अधिक उठाना पड़ता है। वैसे भाजपा की तरफ से स्मृति ईरानी ने भी महिलाओं के मुद्दे उठाए हैं। चूंकि वे सत्तापक्ष से हैं इसलिए उन्होंने महिलाओं के लिए चल रही योजनाओं की जानकारी दी है।

 

मसलन बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, राशन कार्ड में महिलाओं को मुखिया बनाना, उज्ज्वला योजना वगैरह। यह भी सच का दूसरा पहलू है कि महिलाओं की बेहतरी के लिए कोशिशें हो रही हैं। राजनीति में होने के कारण ये महिलाएं एक दूसरे पक्ष को दोषी जरूर बता रही हैं लेकिन एक अच्छी बात यह है कि महिलाओं के मुद्दे सामने आ रहे हैं और उन पर ध्यान जा रहा है। 

 

इस कॉलम के लिए आपके पास कोई सुझाव हो तो इस नंबर 8817966007 पर वॉट्सअप करें... 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..