नक्सल / नक्सलियों के शहरी नेटवर्क के लिए काम करने वाले दंपति ने किया सरेंडर

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2019, 03:50 PM IST


सरेंडर करने वाले नक्सली दंपति सरेंडर करने वाले नक्सली दंपति
X
सरेंडर करने वाले नक्सली दंपतिसरेंडर करने वाले नक्सली दंपति
  • comment

  • दोनों पर था 13 लाख का इनाम, कई नक्सली घटनाओं में भी रह चुके हैं शामिल 
  • सरेंडर करने वाले नक्सली दंपति से पूछताछ में हो सकते हैं अहम खुलासे 
     

राजनांदगांव. नक्सलियों के शहरी नेटवर्क के लिए काम करने वाले नक्सली दंपति ने बुधवार को सरेंडर कर दिया है। दोनों पर 13 लाख का इनाम था। दोनों कई नक्सली घटनाओं में शामिल रह चुके हैं। 

 

नक्सलियों पर बढ़ रहे दबाव के चलते उनके सरेंडर करने का सिलिसला जारी है। कई इनामी नक्सली मुख्य धारा में लौट रहे हैं। बुधवार को दो नक्सलियों ने भी पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। पुलिस को दोनों की लंबे समय से तलाश थी। ये नक्सली दंपति एसीएम नंदू उर्फ विवेक उर्फ बंटी एवं उसकी पत्नी सती उर्फ कमला उर्फ कोमल शहरी नेटवर्क में काम करते थे। ये दोनों नागपुर में रहकर अपने कामों को अंजाम दे रहे थे। इन पर करीब 9 नक्सली घटनाओं में भी शामिल होने का आरोप है। पुलिस महानिरीक्षक रतनलाल डांगी ने आत्मसमर्पित नक्सलियों को समाज की मुख्यधारा में वापस आने पर स्वागत किया और दोनों को 10-10 हजार रुपये प्रोत्सहन राशि प्रदान देते हुए शासन की आत्मसमर्पण एवं पुनर्वास नीति के तहत मिलने वाले समस्त सुविधाओं का लाभ दिलाए जाने का आश्वासन दिया। 

 

नक्सली दंपति ने किए खुलासे 
नक्सली दंपति ने बताया कि भाकपा (माओवादी) मे आंध्र प्रदेश के नक्सली नेताओं का वर्चस्व है। गढ़चिरौली और छत्तीसगढ़ के कैडर को निचले स्तर पर रखकर सिर्फ लड़ने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। नक्सली अपने आपको आदिवासी व दलित जनता का हितैषी कहते हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि ये नक्सली उसी आदिवासी जनता का आर्थिक एवं शारीरिक शोषण करते है। विवेक उर्फ बंटी ने बताया कि इसके पहले जीआरबी डिवीजन के सचिव व प्रभारी एसजेडसीएम पहाड़ सिंह उर्फ कुमारसाय ने राजनांदगांव जिले में पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया था। 

COMMENT
Astrology
Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें