रिसर्च स्कॉलर्स को मिलेगा आईआईसीटी का साथ, रविवि से हुआ करार, शोध के लिए खुलेंगे अवसर

Raipur News - पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय के रिसर्च स्कॉलर्स को अब इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी (आईआईसीटी) का...

Aug 14, 2019, 07:45 AM IST
Raipur News - chhattisgarh news research scholars will get support from iict agreement with ravi opportunities will open for research
पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय के रिसर्च स्कॉलर्स को अब इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी (आईआईसीटी) का साथ मिलेगा। दोनों संस्थानों के बीच रिसर्च के लिए करार हुआ है। यहां के रिसर्च स्कॉलर्स व प्रोफेसर, शोध के लिए इस राष्ट्रीय संस्थान की मदद ले सकेंगे। इस करार के बाद उम्मीद जगी है कि आने वाले समय में अनुसंधान के लिए नए अवसर खुलेंगे।

रविवि के केमिस्ट्री विभाग और नेशनल सेंटर फॉर नेचुरल रिसोर्स (एनसीएनअार) के साथ आईआईसीटी ने एमओयू किया। विश्वविद्यालय के अधिकारियों का कहना है कि इस करार के बाद रिसर्च को साझा किया जा सकेगा। इंटलेक्चुअल पॉपर्टी, पेटेंट राइट्स और रिसर्च पेपर पब्लिकेशन को लेकर इन संस्थानों की आपसी भागीदारी रहेगी। एमओयू में एक महत्वपूर्ण तथ्य यह भी है कि रिसर्च के क्षेत्र में इन संस्थानों के बीच जब भी काम होगा, इसका पूरा खर्च आईआईसीटी उठाएगी। शिक्षाविदों का कहना है कि एमओयू से फायदा यह होता है कि बड़े राष्ट्रीय संस्थानों से जुड़ने का अवसर मिलता है। इससे विश्वविद्यालय की प्रतिष्ठा भी बढ़ती है। राजकीय विवि के पास रिसर्च के लिए सीमित संसाधन होते हैं। जबकि राष्ट्रीय संस्थानों के पास रिसर्च की अच्छी सुविधा रहती है। करार के बाद वहां के संसाधनों के उपयोग के लिए भी रास्ता खुल जाता है। गौरतलब है कि पिछले कुछ बरसों में देश के कई बड़े संस्थानों के साथ रविवि ने करार किया है।

रिसर्च के लिए ले सकेंगे राष्ट्रीय संस्थान की मदद

नेट की कोचिंग भी

रविवि के अधिकारियों का कहना है कि आईआईसीटी से करार के बाद, इस संस्थान ने यहां के दस स्टूडेंट्स को नेट की कोचिंग का ऑफर दिया है। तीन माह तक उनके रहने, खाने और कोचिंग की व्यवस्था आईआईसीटी करेगी। जल्द ही इसके लिए एमएससी के दस स्टूडेंट्स का चयन किया जाएगा। सितंबर से कोचिंग शुरू होगी।

मौसम की सूचनाओं के लिए भी करार

रविवि से एक और एमओयू किया गया है। यह करार इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ ट्रोपिकल मेटरलाॅजी, पुणे के साथ हुआ है। इसके तहत दोनों संस्थानों के बीच मौसम संबंधित सूचनाओं को लेकर आदान-प्रदान होगा। इसके अलावा रिसर्च की दिशा में भी काम किया जाएगा। एमओयू के बाद आने वाले दिनों में मौसम से संबंधित कई तरह की जानकारियां रविवि को मिल सकेंगी।

X
Raipur News - chhattisgarh news research scholars will get support from iict agreement with ravi opportunities will open for research
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना