पर्यावरण है तो आप हैं इसलिए इसे बचाएं: रावतपुरा सरकार

Raipur News - कम्युनिटी रिपोर्टर | रायपुर सनातन धर्म की विशालता का अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि इसमें कण-कण में भगवान का...

Bhaskar News Network

Aug 19, 2019, 07:30 AM IST
Raipur News - chhattisgarh news you are the environment so save it rawatpura government
कम्युनिटी रिपोर्टर | रायपुर

सनातन धर्म की विशालता का अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि इसमें कण-कण में भगवान का वास माना गया है। सनातन धर्म ने प्रकृति को भगवान माना है। पेड़-पौधों, यहां तक पशु-पक्षियों में भी देवता केे दर्शन होते हैं। धनेली स्थित रावतपुरा सरकार आश्रम में संत रविशंकर महाराज ‘रावतपुरा सरकार’ ने यह बातें कही।

उन्होंने आगे कहा कि बिश्नोई समुदाय के लोग जो राजस्थान और हरियाणा में रहते हैं। जाड़ की पेड़ की रक्षा करते हैं। इससे जुड़ी एक चर्चित प्रसंग है, 1787 ई. में जोधपुर के राजा ने अपने सैनिकों को जाड़ की लकड़ी लाने का आदेश दिया। सैनिक जब लकड़ी लाने खेजडली गांव पहुंचे और जाड़ काटने लगे तो बिश्नोई जाति के लोग उन पेड़ों से लिपट गए। सैनिकों से ऐसा संघर्ष करते हुए लोगों ने अपने प्राणों की आहुति तक दे दी। यह एक अनूठा उदाहरण है। जब मानव जाति ने हरे वृक्षों को बचाने के लिए अपने जीवन का बलिदान दिया। उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक दृष्टिकोण से जाड़ को मरू क्षेत्र का बहुउपयोगी वृक्ष माना है। दक्षिण भारत में नारियल पेड़ की पूजा होती है। इसे कल्प वृक्ष भी कहा गया है। हर मौके पर नारियल पूजा सामग्री का अभिन्न हिस्सा है। केवल उपयोगी वृक्ष ही नहीं बल्कि जानवर भी हमारे लिए पूजनीय हैं।

X
Raipur News - chhattisgarh news you are the environment so save it rawatpura government
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना