छत्तीसगढ़ / पंचायत चुनाव : अंतिम चरण का मतदान समाप्त, 'जनतंत्र' से हारा नक्सल, अब होगी मतपत्रों की गिनती

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सल प्रभावित पोटाली में लकवाग्रस्त धुरवा पारा निवासी बंडी माड़वी मतदान करने पहुंचा है। छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सल प्रभावित पोटाली में लकवाग्रस्त धुरवा पारा निवासी बंडी माड़वी मतदान करने पहुंचा है।
छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सलियों का गढ़ माने जाने वाले पोटाली गांव में 20 साल बाद हो रहा है मतदान। छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सलियों का गढ़ माने जाने वाले पोटाली गांव में 20 साल बाद हो रहा है मतदान।
दंतेवाड़ा में नक्सलियों का गढ़ माने जाने वाले पोटाली गांव में अस्थाई रूप से बनाया गया पोलिंग बूथ दंतेवाड़ा में नक्सलियों का गढ़ माने जाने वाले पोटाली गांव में अस्थाई रूप से बनाया गया पोलिंग बूथ
X
छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सल प्रभावित पोटाली में लकवाग्रस्त धुरवा पारा निवासी बंडी माड़वी मतदान करने पहुंचा है।छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सल प्रभावित पोटाली में लकवाग्रस्त धुरवा पारा निवासी बंडी माड़वी मतदान करने पहुंचा है।
छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सलियों का गढ़ माने जाने वाले पोटाली गांव में 20 साल बाद हो रहा है मतदान।छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सलियों का गढ़ माने जाने वाले पोटाली गांव में 20 साल बाद हो रहा है मतदान।
दंतेवाड़ा में नक्सलियों का गढ़ माने जाने वाले पोटाली गांव में अस्थाई रूप से बनाया गया पोलिंग बूथदंतेवाड़ा में नक्सलियों का गढ़ माने जाने वाले पोटाली गांव में अस्थाई रूप से बनाया गया पोलिंग बूथ

  • अन्य नक्सल प्रभावित जिलों में 2.15 बजे तक और अन्य जगहों पर अपराह्न 3 बजे तक हुई वाेटिंग
  • 27 जिलाें के 53 विकासखंडों की 4289 ग्राम पंचायतों में डाले गए वोट, 10714 बूथ बनाए गए
  • तीसरे चरण में थे 108112 प्रत्याशी, 53 लाख 68 हजार से ज्यादा मतदाता ने किया वोट
  • पहले चरण में 57 विकासखंडों के 12572 व दूसरे चरण में 36 विकासखंडों के 6289 बूथों पर हुआ मतदान 

दैनिक भास्कर

Feb 03, 2020, 05:55 PM IST

रायपुर. छत्तीसगढ़ में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के तीसरे और अंतिम चरण का मतदान सोमवार अपराह्न 3 बजे समाप्त हो गया। इस दौरान अब जो लोग लाइन में लगे रह गए हैं, वो ही मतदान कर सकेंगे। जबकि बस्तर सहित अन्य नक्सल प्रभावित इलाकों में मतदान दोपहर 2 बजे खत्म हो गया। अब शाम को मतपत्रों की गिनती शुरू होगी। खास बात यह रही कि दंतेवाड़ा के धुर नक्सल प्रभावित क्षेत्र में भी निर्वाचन अायोग की टीम पहुंची। नक्सलियों के गढ़ कहे जाने वाले पोटाली के 10 गांवों में पहली बार मतदान हुआ। वहीं प्रदेश के कुछ इलाकों में  विकास कार्याें के नहीं होने से नाराज ग्रामीणों ने मतदान का बहिष्कार किया तो कहीं पर मतदाताओं को लुभाने के लिए प्रत्याशियों के सामान बांटने की घटनाएं भी सामने आईं। इस बीच कवर्धा में भारी मात्रा में बांटने के लिए लाया गया सामान जब्त किया गया। 

फैक्ट फाइल

मतदान तारीख विकासखंड मतदान केंद्र
प्रथम चरण 28 जनवरी 57 12572
द्वितीय चरण 31 जनवरी 36 6289
तृतीय चरण 3 फरवरी 53 10714

अंतिम चरण में 27 जिलों के 53 विकासखंडों की 4289 ग्राम पंचायतों में मतदान हाे रहा है। इस दौरान 53 लाख 68 हजार 875 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। इनमें 26 लाख 93 हजार 144 महिला मतदाता और 26 लाख 75 हजार 696 पुरूष मतदाता एवं थर्ड जेंडर के 35 मतदाता शामिल हैं। इससे पहले दूसरे चरण के लिए 31 जनवरी को 36 विकासखंडों के 6289 बूथों पर और पहले चरण में 28 जनवरी को 57 विकासखंडों के 12572 बूथें पर मतदान हुआ था। 


तीसरे चरण में 24,962 पदों पर निर्विरोध निर्वाचन
अंतिम चरण में 39251 पंचायत प्रतिनिधियों के निर्वाचन के लिए वोट डाले गए। इनमें वाॅर्ड पंच के 33986, सरपंच के 4082, जनपद पंचायत सदस्य के 1082 और जिला पंचायत सदस्य के 143 पद शामिल हैं। तीसरे चरण में मतदाताओं ने 108112 उम्मीदवारों के लिए वोट किया। खास बात यह है कि तीसरे चरण में होने वाले मतदान से पहले 24962 पदों पर पंचायत प्रतिनिधियों का निर्विरोध निर्वाचन हुआ है। 

बलौदाबाजार : सांवरा बस्ती को कुकुरदी से जोड़ने पर नाराजगी

बस्ती को दूसरे ग्राम में शामिल किए जाने से नाराज लोगों ने किया मतदान का बहिष्कार।

बलौदाबाजार में सांवरा बस्ती के लोगों ने लोकसभा व विधानसभा चुनाव में बलौदाबाजार में मतदान किया थ्या। उसके बाद सांवरा बस्ती को ग्राम कुकुरदी में जोड़ दिया गया है। इसका सांवरा बस्ती और कुकुरदी दोनों के मतदाता विरोध कर रहे हैं। सांवरा बस्ती मे 300 तो कुकुरदी में 1600 मतदाता हैं। ग्राम कुकुरदी बलौदाबाजार जिला मुख्यालय से 5 किमी से भी अंदर है। 

लोरमी : विकास नहीं होने पर किया चुनाव बहिष्कार

लोरमी में विकास कार्य की मजदूरी नहीं मिलने से ग्रामीणों ने मतदान बहिष्कार के लिए लगाया बैनर। 

वहीं लोरमी विकासखंड के सारधा ग्राम के आश्रित ग्राम महरपुर में ग्रामीणों ने विकास कार्य नहीं होने से मतदान का बहिष्कार कर दिया है। गांव के बाहर मुख्य मार्ग पर बैनर लगाकर ग्रामीण नारेबाजी करते हुए विरोध जता रहे हैं।  ग्रामीणों का आरोप है कि प्रधानमंत्री आवास की सुविधा नहीं मिल रही, गांव में बदहाल सड़क, स्वास्थ्य सुविधा का अभाव सहित तमाम अन्य समस्याएं हैं। ग्राम में करीबन 400 मतदाता हैं। 

सुकमा : महिला मतदाताओं की सुरक्षा में महिला कमांडो तैनात

सुकमा के नक्सल प्रभावित गोरगुंडा गांव में तैनात सीआरपीएफ की महिला कमांडो

सुकमा जिले के नक्सल प्रभावित गोरगुंडा गांव में सुरक्षा के लिए सीआरपीएफ जवानो के साथ साथ महिला कमांडो भी तैनात की गई हैं। हालांकि मुख्य कमान महिला कमांडो के ही हाथ में है। यहां महिला मतदाताओं की संख्या ज्यादा रहती है। एक बटालियन में अंदाजन 30 से 35 की संख्या में महिला कमांडो रहती हैं। यहां बूथ पर 5 महिला कमांडों को तैनात किया गया है।

दंतेवाड़ा : नक्सली इलाके में 20 साल बाद बनाया गया बूथ

दंतेवाड़ा के पोटाली इलाके के गांव मड़कामीरास में पहली बार बनाया गया मतदान केंद्र। 

दंतेवाड़ा के 10 गांवों में करीब 20 साल बाद मतदान हो रहा है। यहां के तीन गांवों में पहली बार बूथ बनाया गया है। हाल ही में पोटाली में कैंप खोला गया था। जिसके बाद नक्सलियों के गढ़ में प्रत्याशी प्रचार के लिए भी पहुंचे और अब मतदान को लेकर भी उत्साह है। 

कोरिया : सरपंच प्रत्याशी को ग्रामीणों ने बनाया बंधक

कोरिया के खड़गवां ब्लाक के तोलगा पंचायत में सरपंच प्रत्या​शी को ग्रामीणों ने रविवार देर रात बंधक बना लिया था। सरपंच प्रत्याशी पूर्व में गांव का सरपंच था। उनके कार्यकाल के दौरान पंचायत स्तर पर कई विकास कार्य करवाए गए थे, लेकिन मजदूरी का भुगतान अभी तक नहीं किया गया है। बताया जा रहा है कि करीब 1.50 लाख रुपए का भुगतान लंबित है। हालांकि पुलिस ने समझाइश के बाद उसे छुड़ा लिया है। 

एक करोड़ से ज्यादा मतदाताओं ने अपने अधिकार का किया प्रयोग

तीनों चरण में हुए इस चुनाव में कुल 2 लाख 86 हजार 574 उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे। 27 जिले में 400 जिला पंचायत सदस्य, 2979 जनपद पंचायत सदस्य, 11664 सरपंच और एक लाख 60 हजार 725 पंचों का चुनाव हुआ। पंचायत चुनाव में पहली बार सरपंच का चुनाव पंचों ने किया। वहीं प्रदेश के पंचायत चुनाव में एक करोड़ 44 लाख 68 हजार 763 मतदाताओं ने अपने प्रतिनिधि के लिए वोट किया। इसमें पुरुष 95 लाख 54 हजार 252 और महिला 72 लाख 69 हजार 274 वोटर हैं। इनमें पंच पद के लिए 2 लाख 23 हजार 737, सरपंच पद के लिए 48 हजार 412, जनपद पंचायत सदस्य के लिए 12 हजार 320 और जिला पंचायत सदस्य के लिए 1905 उम्मीदवार मैदान में थे। मतदान बैलेट पेपर से हुआ। पंचायत चुनाव के लिए 29 हजार 525 बूथ बनाए गए। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना